News Nation Logo

खुशखबरी: घर के बगल में मिल जाएगी खांसी और बुखार की दवा (Medicine), अब नहीं भटकना होगा इधर-उधर

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक स्टैंडर्ड ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गनाइजेशन (CDSCO) नॉन-प्रिस्क्रिप्शन दवाओं के लिए 'यूनिट डोज पैकेजिंग' शुरू करने के एक प्रस्ताव पर विचार कर रहा है.

By : Dhirendra Kumar | Updated on: 07 Oct 2019, 12:27:35 PM
घर के बगल में मिल जाएगी खांसी और बुखार की दवा (Medicine)

घर के बगल में मिल जाएगी खांसी और बुखार की दवा (Medicine) (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

आम लोगों को जल्द ही बहुत बड़ी खुशखबरी मिलने जा रही है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक स्टैंडर्ड ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गनाइजेशन (CDSCO) नॉन-प्रिस्क्रिप्शन दवाओं के लिए 'यूनिट डोज पैकेजिंग' शुरू करने के एक प्रस्ताव पर विचार कर रहा है. अगर सब सही रहा तो जल्द ही आम लोगों को उनके घर के बगल में किराना स्टोर से खांसी, जुकाम और बुखार की दवाईयां मिल जाया करेंगी.

यह भी पढ़ें: SBI India Ka Diwali Offer: SBI क्रेडिट कार्ड (Credit Card) से खरीदारी पर मिल रहा है बंपर डिस्काउंट और कैशबैक, आप भी उठाएं फायदा

बता दें कि ओवर-द-काउंटर (OTC) दवाओं पर बनाई गई एक्सपर्ट की एक कमेटी ने पर्याप्त लेबलिंग के लिए सुझाव दिया है. इस सुझाव के तहत उपभोक्ता खुद ही दवाओं को चुन पाएंगे. गौरतलब है कि एक्सपर्ट्स ने बगैर प्रिस्क्रिप्शन के बिक्री की जा रही दवाईयों के लिए अलग से पैकेजिंग का सुझाव दिया है.

यह भी पढ़ें: नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) सरकार दे रही है बिजनेस शुरू करने के लिए पैसा, होगी मोटी कमाई

OTC दवाओं के लिए बनाई जाएगी 2 कैटेगरी
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक OTC दवाओं के लिए 2 कैटेगरी बनाई जाएगी. इसके तहत एक कैटेगरी की दवाओं को रिटेल आउटलेट पर बेचा जा सकेगा. इसके अलावा दूसरी कैटेगरी के तहत दवाओं को रजिस्टर्ड फार्मासिस्ट से खरीदी जा सकेंगी. लेबलिंग के ऊपर दिए गए सुझावों को अगर मंजूरी मिल जाती है तो सभी OTC दवाओं के जेनरिक नाम और ब्रांड नाम आदि की जानकारी साझा करनी होगी. हालांकि अभी तक देश में OTC दवाओं की परिभाषा को तय नहीं किया गया है.

यह भी पढ़ें: Investment Mantra: निवेश के इन तरीकों को अपनाकर बन सकते हैं करोड़पति (Crorepati), जानने के लिए पढ़ें पूरी खबर

बता दें कि पिछले महीने ड्रग कंसल्टेटिव कमेटी (DCC) की मीटिंग में OTC दवाओं को दो कैटेगरी में बांटने के लिए निर्णय लिया गया था. जानकारों का कहना है कि अगर नए सिस्टम को मंजूरी मिल जाती है और इसे लागू कर दिया जाता है तो इस कदम के बाद साधारण दवाओ के गलत या अधिक इस्तेमाल को रोकने में पूरी तरह से मदद मिल जाएगी.

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

First Published : 07 Oct 2019, 12:27:35 PM