News Nation Logo

जम्मू-कश्मीर में सरकार न करे ऐसी गलती...शाह के दौरे पर आजाद के सवाल 

केंद्रीय गृह मंत्री अमित​ शाह अपने तीन दिवसीय जम्मू-कश्मीर दौरे पर हैं. इस दौरान कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने अमित शाह पर निशाना साधा है. आजाद ने कहा कि मुझे लगता है कि गृह मंत्री फिर वही बात दोहराई है कि वो पहले कश्मीर में परिसीमन चाहते

News Nation Bureau | Edited By : Mohit Sharma | Updated on: 24 Oct 2021, 06:25:51 PM
Ghulam Nabi Azad

Ghulam Nabi Azad (Photo Credit: ANI)

नई दिल्ली:

केंद्रीय गृह मंत्री अमित​ शाह ( Union Home Minister Amit Shah ) अपने तीन दिवसीय जम्मू-कश्मीर दौरे पर हैं. इस दौरान कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ( Congress Leader Ghulam Nabi Azad ) ने अमित शाह पर निशाना साधा है. आजाद ने कहा कि मुझे लगता है कि गृह मंत्री फिर वही बात दोहराई है कि वो पहले कश्मीर में परिसीमन चाहते हैं. उन्होंने कहा कि लेकिन मुझे लगता है कि वो पहले चुनाव चाहते हैं और फिर जम्मू-कश्मीर को पूर्ण राज्य का दर्जा. कांग्रेस नेता कहा कि हमारी मांग आज भी वही है कि पहले राज्य का दर्जा दिया जाए और जिसके बाद चुनाव होना चाहिए.

यह खबर भी पढ़ें- गठबंधन क्या होता है...लालू यादव ने पटना आने से पहले कांग्रेस पर दिया बड़ा बयान

कांग्रेस नेता ने कहा कि मैं प्रधानमंत्री और गृह मंत्री दोनों से अनुरोध किया था कि हम उनके शुक्रगुजार है कि जम्मू-कश्मीर को राज्य का दर्जा दिया जा रहा है और इसको दो राज्यों में नहीं बांटा जाना चाहिए था. अब कश्मीर को दो राज्यों में बांटने के बाद आप पूर्ण राज्य का दर्जा देने के लिए सहमत हो गए हैं, लेकिन राज्य का दर्जा देने से पहले परिसीमन कराने की गलती न करना. आजाद ने कहा कि जब प्रधानमंत्री ने अपने आवास पर जम्मू-कश्मीर के नेताओं को बुलाया था, तब मैंने मांग उठाई थी कि हम पहले राज्य चाहते हैं और फिर चुनाव. मेरे साथ अन्य पार्टियों ने भी कुछ ऐसी ही मांग की थी. उस समय गृह मंत्री ने हमें आश्वस्त किया था कि पहले जम्मू कश्मीर को राज्य का दर्जा दिया जाएगा और परिसीमन आयोग अपनी रिपोर्ट देगा. 

यह खबर भी पढ़ें- अमित शाह के कश्मीर दौरे के बीच पाकिस्तान की बड़ी आतंकी साजिश का खुलासा

आजाद ने कहा कि अब हम हारे हुए हैं. राज्य के दो हिस्सों में बंट जाने के बाद हम एक बड़ी हारे हुए हैं. विधानसभा भंग होने के बाद से हम एक महान हारे हुए हैं. उन्होंने कहा कि हमें बताया गया   था कि आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद जम्मू-कश्मीर में परिदृश्य बदलने वाला है. विकास, अस्पताल और बेरोजगारी का पूरा ध्यान रखा जाएगा. लेकिन ऐसा नहीं हो पाया. वास्तव में तो उस समय हम बहुत बेहतर थे, जब यहां विभिन्न मुख्यमंत्रियों ने शासन किया था.

First Published : 24 Oct 2021, 06:22:23 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो