News Nation Logo
मलेशिया में ओमीक्रॉन के पहले मामले की पुष्टि अमेरिका में ओमीक्रॉन से संक्रमण के मामले बढ़कर 8 हुए केजरीवाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस: CCTV के मामले में दिल्ली दुनिया में नंबर 1 केजरीवाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस: दिल्ली में महिलाएं पूरी तरह सुरक्षित केजरीवाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस: दिल्ली में 1.40 कैमरे और लगाए जाएंगे थोड़ी देर में ओमीक्रॉन पर जवाब देंगे स्वास्थ्य मंत्री IMF की पहली उप प्रबंध निदेशक के रूप में ओकामोटो की जगह लेंगी गीता गोपीनाथ 12 राज्यसभा सांसदों के निलंबन को लेकर विपक्षी दलों के सांसदों का गांधी प्रतिमा के पास विरोध-प्रदर्शन यमुना एक्‍सप्रेसवे पर सुबह सुबह बड़ा हादसा, मप्र पुलिस के दो जवानों समेत चार की मौत जयपुर में दक्षिण अफ्रीका से लौटे एक ही परिवार के चार लोग कोरोना संक्रमित

बिहार में शराब की त्रासदी को रोकने में विफल रहने पर एसएचओ, चौकीदार निलंबित

बिहार में शराब की त्रासदी को रोकने में विफल रहने पर एसएचओ, चौकीदार निलंबित

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 12 Nov 2021, 06:20:01 PM
Four cop

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

पटना: बिहार के वैशाली जिले में शराब की त्रासदी को रोकने में विफल रहने पर एक एसएचओ और एक चौकीदार को निलंबित कर दिया गया, जिसमें एक की जान चली गई और पांच लोग ²ष्टिहीन हो गए थे।

वैशाली के एसएसपी मनीष कुमार ने बताया कि डीएसपी रैंक के एक अधिकारी द्वारा विस्तृत जांच के बाद निलंबन किया गया है।

12 अक्टूबर को राजपाकर प्रखंड के बैकुंठपुर गांव में छह लोगों के एक समूह ने शराब का सेवन किया था, जिसके बाद एक व्यक्ति की मौत हो गई थी, जबकि पांच की आंखों की रोशनी चली गई थी।

एसएसपी ने कहा, जांच के दौरान, यह पाया गया कि एसएचओ नौशाद आलम और चौकीदार अपने-अपने अधिकार क्षेत्र में गलत कामों की जांच करने में विफल रहे। इसके अलावा, एसएचओ जहरीली शराब बेचने के लिए जिम्मेदार आरोपियों को गिरफ्तार करने में असमर्थ थे।

इस बीच लोजपा (रामविलास) अध्यक्ष चिराग पासवान ने शुक्रवार को मोहम्मदपुर गांव में गोपालगंज शराब कांड के पीड़ितों से मुलाकात की थी।

पासवान ने कहा कि बिहार में शराबबंदी पूरी तरह विफल रही है।

उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार सरकार की विफलता के कारण गोपालगंज, मुजफ्फरपुर, बेतिया और समस्तीपुर में शराब की त्रासदी हुई।

पासवान ने मांग की, राज्य सरकार को परिवार के प्रत्येक सदस्य को 25 लाख रुपये और सरकारी नौकरी का मुआवजा देना चाहिए।

राजद ने प्रभावितों से मिलने के लिए एक प्रतिनिधिमंडल भी गोपालगंज और अन्य जिलों में भेजा था।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 12 Nov 2021, 06:20:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो