News Nation Logo

द वल्र्ड एकेडमी ऑफ साइंसेज, इटली के फैलो चुने गए जामिया के पूर्व प्रोफेसर

द वल्र्ड एकेडमी ऑफ साइंसेज, इटली के फैलो चुने गए जामिया के पूर्व प्रोफेसर

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 10 Nov 2021, 08:35:02 PM
Former Jamia

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: भारतीय प्रोफेसर शकील अहमद को द वल्र्ड एकेडमी ऑफ साइंसेज (टीडब्ल्यूएएस) ट्राएस्टे, इटली में फैलो चुना गया है। प्रोफेसर अहमद, भारत से एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व करेंगे।

इसमें भूगोल विभाग, जामिया के प्रोफेसर अतीकुर रहमान और भारत के कई अन्य वैज्ञानिक एवं विशेषज्ञ शामिल होंगे, जो फ्रांस के एक प्रतिनिधिमंडल के साथ जल प्रबंधन पर जलवायु परिवर्तन के प्रभाव पर मई 2022 को चर्चा करेंगे।

प्रोफेसर शकील अहमद जामिया मिलिया इस्लामिया से जुड़े रहे हैं। एमके गांधी चेयर प्रोफेसर के रूप में उन्होंने जामिया में कार्य किया। द वल्र्ड एकेडमी ऑफ साइंसेज (टीडब्ल्यूएएस), ट्राएस्टे, इटली में फैलो के तौर पर उन्हें एक विकासशील देश में विज्ञान की उन्नति के लिए इस प्रतिष्ठित अंतरराष्ट्रीय सम्मान के लिए चुना गया है। टीडब्ल्यूएएस अनुसंधान, शिक्षा, नीति और कूटनीति के माध्यम से स्थायी समृद्धि का समर्थन करता है।

जामिया विश्वविद्यालय ने बताया कि जल विज्ञान के विशेषज्ञ प्रोफेसर अहमद ने जामिया (2018-2020) में अपने 2 साल के कार्यकाल के दौरान सेंटर फॉर डिजास्टर मैनेजमेंट के साथ-साथ भूगोल विभाग में भी अध्यापन किया। उन्हें जल से संबंधित प्राकृतिक आपदाओं के साथ-साथ जलवायु परिवर्तन में उन्नत विकास अध्यापन का समृद्ध अनुभव है।

जामिया में प्रोफेसर अहमद का योगदान असाधारण रहा है क्योंकि उन्होंने उच्च प्रभाव वाली अंतरराष्ट्रीय पत्रिकाओं में 13 से अधिक शोध पत्र प्रकाशित किए हैं और आईएनएसए के साथ-साथ स्प्रिंगर और एल्सेवियर द्वारा प्रकाशित पुस्तकों में 3 अध्यायों का योगदान दिया है। जामिया में अपने कार्यकाल के दौरान, प्रोफेसर अहमद को भारतीय राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी के फैलो के रूप में भी चुना गया था। वर्तमान में वे मौलाना आजाद राष्ट्रीय उर्दू विश्वविद्यालय, हैदराबाद के स्कूल ऑफ साइंसेज में सलाहकार के रूप में कार्य कर रहे हैं।

जामिया में शामिल होने से पहले उन्होंने सीएसआईआर के राष्ट्रीय भूभौतिकीय अनुसंधान संस्थान, हैदराबाद में 37 वर्षों तक वैज्ञानिक के रूप में कार्य किया और संस्थान के वरिष्ठतम मुख्य वैज्ञानिक के स्तर तक पहुंचे। उन्होंने भारत में राष्ट्रीय अकुइफर मैपिंग के मेगा कार्यक्रम में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका सहित भू-विज्ञान पर बड़ी संख्या में राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय परियोजनाओं का नेतृत्व किया है।

प्रोफेसर अहमद एशियाई यूनेस्को के एक प्रमुख कार्यक्रम के सचिव के रूप में जीडबल्यूएडीआई के सचिवालय का प्रबंधन कर रहे हैं। उन्हें पहले से ही कई और पुरस्कार प्राप्त हैं जिसमें, राष्ट्रीय भूविज्ञान पुरस्कार और जल विज्ञान के लिए अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार शामिल हैं।

प्रोफेसर अहमद ने संस्थापक प्रमुख के रूप में लगभग 2 दशकों तक हैदराबाद में इंडो-फ्ऱेंच सेंटर फॉर ग्राउंडवाटर रिसर्च का नेतृत्व किया है। वह अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के फैलो और कश्मीर विश्वविद्यालय के विजिटिंग प्रोफेसर भी रहे हैं।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 10 Nov 2021, 08:35:02 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो