News Nation Logo
Banner

अफगान केंद्रीय बैंक के गवर्नर ने दिए संकेत, लड़ाई नहीं लड़ने के निर्देश ऊपर से दिए गए थे

अफगान केंद्रीय बैंक के गवर्नर ने दिए संकेत, लड़ाई नहीं लड़ने के निर्देश ऊपर से दिए गए थे

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 17 Aug 2021, 08:20:01 PM
Former Afghan

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: अफगानिस्तान के केंद्रीय बैंक के गवर्नर अजमल अहमदी ने कहा कि कई अफवाहें भी उड़ी थी कि लड़ाई न करने के निर्देश किसी तरह ऊपर से आ रहे थे।

तालिबान द्वारा अफगानिस्तान में तख्तापलट करते हुए वहां की सत्ता पर काबिज होने के बीच केंद्रीय बैंक के प्रमुख अजमल अहमदी भी काबुल से भाग गए हैं और अब उन्होंने कई चीजों पर बात की है।

अहमदी ने कहा कि यह अट्टा नूर और इस्माइल खान द्वारा दोहराया गया है। ये दोनों सिपहसालार थे जिन्होंने तालिबान के खिलाफ मोर्चा संभाला था।

अट्टा मोहम्मद नूर ने पहले इस साजिश के बारे में कहा था, हमारे ²ढ़ प्रतिरोध के बावजूद, दुख की बात है कि एक बड़े संगठित और कायरतापूर्ण साजिश के परिणामस्वरूप सभी सरकारी और एनएनडीएसएफ उपकरण एक बड़े संगठित और कायराना साजिश के परिणामस्वरूप तालिबान को सौंप दिए गए थे। उन्होंने मार्शल दोस्तम और मुझे भी फंसाने के लिए साजिश रची थी, लेकिन वे सफल नहीं हुए।

अजमल अहमदी ने अफगान सुरक्षा बलों की वफादारी पर सवाल उठाएं हैं और अराजक पतन के लिए राष्ट्रपति अशरफ गनी और उनके अनुभवहीन सलाहकारों को भी दोषी ठहराया है।

अहमदी ने कहा, इस पर विश्वास करना मुश्किल लगता है, लेकिन इस बात पर संदेह बना हुआ है कि एएनएसएफ ने इतनी जल्दी पोस्ट क्यों छोड़ी। कुछ अस्पष्ट रह गया है।

गनी सरकार के तहत केंद्रीय बैंक के गवर्नर अहमदी ने ट्विटर पर एक टाइमलाइन पोस्ट की, जिसमें तालिबान के अधिग्रहण से पहले अपने अंतिम कुछ सप्ताह की रूपरेखा तैयार की गई थी।

अहमदी ने जो कुछ भी घटित हुआ है उसके लिए अफगान सरकार को जिम्मेदार ठहराया है।

उन्होंने लिखा, इसे इस तरह खत्म नहीं करना था। मैं अफगान नेतृत्व द्वारा किसी योजना की कमी से निराश हूं।

मैंने अब तक उनकी आलोचना नहीं की थी, लेकिन प्रमुख व्यक्ति फजली और मोहिब अपनी भूमिकाओं में बहुत अनुभवहीन थे और यह राष्ट्रपति की विफलता थी कि उन्होंने ऐसी कमजोरियों को कभी नहीं पहचाना। उनके पास स्वयं महान विचार थे लेकिन खराब निष्पादन। अगर मैंने उसमें योगदान दिया, तो मैं दोष का मेरा हिस्सा मानता हूं।

अहमदी ने कहा कि राष्ट्रपति अशरफ गनी की योजना में कमी थीं और उनके सलाहकारों की कमियों को पहचानने में सरकार की नाकामी थी। राष्ट्रपति के देश छोड़ने की घोषणा होने के बाद, कुछ मिनटों के भीतर अराजकता का माहौल बन गया। मैं उन्हें ऐसे देश को छोड़ने की योजना के लिए माफ नहीं कर सकता।

उन्होंने यह भी कहा कि अंतिम दिनों के दौरान, मुझे न केवल तालिबान से संबंधित जोखिमों का डर था, बल्कि संक्रमण काल का डर भी था। उन्होंने कहा, एक बार राष्ट्रपति के जाने की घोषणा हो जाने के बाद, मुझे पता था कि कुछ ही मिनटों में अराजकता फैल जाएगी।

अहमदी ने बताया कि जब तक आतंकवादी शहर के द्वार पर थे, तब तक उन्होंने बैंक में कैसे काम किया। उन्होंने कहा, रविवार की सुबर मैंने काम शुरू किया तब खबरें और भी चिंताजनक थी। इसे इस तरह से समाप्त नहीं करना था। मैं अफगान नेतृत्व द्वारा किसी भी योजना से निराश हूं। हवाईअड्डे पर देखा कि वे दूसरों को सूचित किए बिना चले गए।

अहमदी ने लिखा, ऐसा नहीं होना चाहिए था। मुझे दुख है कि अफगान नेतृत्व ने लोगों को देश से निकालने के लिए कोई योजना नहीं बनाई थी।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 17 Aug 2021, 08:20:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो