News Nation Logo

जीवाश्म ईंधन उत्पादन योजना पेरिस की सीमा के साथ तालमेल बनाने की है: संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट

जीवाश्म ईंधन उत्पादन योजना पेरिस की सीमा के साथ तालमेल बनाने की है: संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 20 Oct 2021, 02:40:01 PM
Foil fuel

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: दुनियाभर में जलवायु आपदाओं की तीव्रता और आवृत्ति में वृद्धि के साथ, प्रमुख शोध संस्थानों और संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (यूएनईपी) द्वारा बुधवार को 2021 की प्रोडक्शन गैप रिपोर्ट में पाया गया कि बढ़ी हुई जलवायु महत्वाकांक्षाओं और शुद्ध-शून्य प्रतिबद्धताओं के बावजूद सरकारें अभी भी 2030 में जीवाश्म ईंधन की मात्रा का दोगुना से अधिक उत्पादन करने की योजना बना रही हैं, जो ग्लोबल वामिर्ंग को 1.5 डिग्री सेल्सियस तक सीमित करने के अनुरूप होगा।

यह रिपोर्ट, पहली बार 2019 में लॉन्च की गई, जो पेरिस समझौते की तापमान सीमाओं को पूरा करने के अनुरूप कोयले, तेल और गैस के सरकारों के नियोजित उत्पादन और वैश्विक उत्पादन स्तरों के बीच के अंतर को मापती है।

दो साल बाद, 2021 की रिपोर्ट में उत्पादन अंतर काफी हद तक अपरिवर्तित रहा।

अगले दो दशकों में, सरकारें सामूहिक रूप से वैश्विक तेल और गैस उत्पादन में वृद्धि का अनुमान लगा रही हैं और केवल कोयला उत्पादन में थोड़ी कमी आई है। उनकी योजनाओं और अनुमानों में वैश्विक, कुल जीवाश्म ईंधन उत्पादन कम से कम 2040 तक बढ़ा है, जिससे उत्पादन अंतराल लगातार बढ़ रहा है।

यूएनईपी के कार्यकारी निदेशक इंगर एंडरसन ने कहा, जलवायु परिवर्तन के विनाशकारी प्रभाव यहां सभी के सामने हैं। अभी भी दीर्घकालिक वामिर्ंग को 1.5 डिग्री सेल्सियस तक सीमित करने का समय है, लेकिन अवसर की यह खिड़की तेजी से बंद हो रही है।

सीओपी26 और उससे आगे, दुनिया की सरकारों को जीवाश्म ईंधन उत्पादन अंतर को बंद करने और एक न्यायसंगत संक्रमण सुनिश्चित करने के लिए तेजी से और तत्काल कदम उठाने चाहिए। यही जलवायु महत्वाकांक्षा दिखती है।

2021 प्रोडक्शन गैप रिपोर्ट 15 प्रमुख उत्पादक देशों के लिए प्रोफाइल प्रदान करती है, जिसमें ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा, चीन, जर्मनी, भारत, इंडोनेशिया, मैक्सिको, नॉर्वे, रूस, सऊदी अरब, दक्षिण अफ्रीका, यूएई, यूके और यूएसए शामिल हैं।

देश के प्रोफाइल से पता चलता है कि इनमें से अधिकांश सरकारें जीवाश्म ईंधन उत्पादन के लिए महत्वपूर्ण नीतिगत सहायता प्रदान कर रही हैं।

रिपोर्ट के प्रमुख लेखक और एसईआई वैज्ञानिक प्लॉय अचकुलविसुत ने कहा, अनुसंधान स्पष्ट है, वैश्विक कोयला, तेल और गैस उत्पादन में तुरंत और तेजी से गिरावट शुरू होनी चाहिए ताकि दीर्घकालिक वामिर्ंग को 1.5 डिग्री सेल्सियस तक सीमित किया जा सके।

हालांकि, सरकारें जीवाश्म ईंधन उत्पादन के स्तर की योजना बनाना और समर्थन करना जारी रख रही हैं जो कि हम सुरक्षित रूप से जला सकते हैं उससे काफी अधिक हैं।

रिपोर्ट के मुख्य निष्कर्षों में शामिल दुनिया की सरकारों की 2030 में लगभग 110 प्रतिशत अधिक जीवाश्म ईंधन का उत्पादन करने की योजना है, जो कि वामिर्ंग को 1.5 डिग्री सेल्सियस तक सीमित करने के साथ संगत होगी और 2 डिग्री सेल्सियस के अनुरूप 45 प्रतिशत अधिक होगी।

पूर्व आकलनों की तुलना में उत्पादन अंतराल का आकार काफी हद तक अपरिवर्तित रहा है।

सरकारों की उत्पादन योजनाओं और अनुमानों से 2030 में लगभग 240 प्रतिशत ज्यादा कोयला, 57 प्रतिशत ज्यादा तेल और 71 प्रतिशत ज्यादा गैस होगी, जो ग्लोबल वामिर्ंग को 1.5 डिग्री सेल्सियस तक सीमित करने के अनुरूप होगी।

सरकारों की योजनाओं के आधार पर 2020 और 2040 के बीच वैश्विक गैस उत्पादन में सबसे अधिक वृद्धि होने का अनुमान है। अगर यह जारी रहा, तो गैस उत्पादन में दीर्घकालिक वैश्विक विस्तार पेरिस समझौते की तापमान सीमा के साथ असंगत है।

ल्यूसिल ड्यूफोर, वरिष्ठ नीति सलाहकार, इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट फॉर सस्टेनेबल डेवलपमेंट (आईआईएसडी) ने कहा, जीवाश्म ईंधन उत्पादन के लिए अंतर्राष्ट्रीय समर्थन में कटौती के लिए विकास वित्त संस्थानों के शुरूआती प्रयास उत्साहजनक हैं, लेकिन ग्लोबल वामिर्ंग को 1.5 डिग्री सेल्सियस तक सीमित करने के लिए ठोस और महत्वाकांक्षी जीवाश्म ईंधन बहिष्करण नीतियों द्वारा इन परिवर्तनों का पालन करने की आवश्यकता है।

कई विश्वविद्यालयों, थिंक टैंक और अन्य शोध संगठनों में फैले 40 से अधिक शोधकर्ताओं ने विश्लेषण और समीक्षा में योगदान दिया।

2020 प्रोडक्शन गैप रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया देते हुए, संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने कहा, कोयले के अंतर्राष्ट्रीय वित्तपोषण को समाप्त करने के लिए दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं द्वारा हाल की घोषणाएं जीवाश्म ईंधन को चरणबद्ध तरीके से समाप्त करने में एक बहुत ही आवश्यक कदम हैं।

लेकिन, जैसा कि यह रिपोर्ट स्पष्ट रूप से दिखाती है, स्वच्छ ऊर्जा के भविष्य के लिए अभी भी एक लंबा रास्ता तय करना है। यह जरूरी है कि सभी शेष सार्वजनिक वित्तपोषक के साथ-साथ वाणिज्यिक बैंकों और परिसंपत्ति प्रबंधकों सहित निजी वित्त, बिजली क्षेत्र के पूर्ण डीकाबोर्नाइजेशन को बढ़ावा देने और सभी के लिए नवीकरणीय ऊर्जा तक पहुंच को बढ़ावा देने के लिए अपने वित्त पोषण को कोयले से नवीकरणीय ऊर्जा में बदल दें।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 20 Oct 2021, 02:40:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो