News Nation Logo
Banner

दिल्ली के शालीमार बाग के एक घर में लगी आग, 3 महिलाओं की मौत

दिल्ली के शालीमार बाग के एक घर में लगी आग, 3 महिलाओं की मौत

By : Ravindra Singh | Updated on: 14 Dec 2019, 10:38:21 PM
सांकेतिक चित्र

सांकेतिक चित्र (Photo Credit: न्‍यूज स्‍टेट)

नई दिल्‍ली:

दिल्ली के शालीमार बाग इलाके में एक घर में आग लग जाने की वजह से तीन महिलाओं की मौत हो गई है, जबकि चार घायल हैं जिन्हें अस्पताल में भर्ती करवाया गया है. शनिवार की शाम को दिल्ली के शालीमार बाग इलाके में  BQ 140 में आग लग जाने की वजह से अफरा-तफरी मच गई, जिसके बाद लोगों ने फायर ब्रिगेड को कॉल कर बुलाया और रेस्क्यू ऑपरेशन जारी किया गया. इस रेस्क्यू ऑपरेशन में दमकल कर्मियों ने बहादुरी का परिचय देते हुए 7 लोगों को आग से निकाला गया जिनमें तीन बच्चे भी शामिल थे. 

इमारत में ग्राउंड फ्लोर समेत 3 फ्लोर हैं जिनमें टॉप फ्लोर पर फंसे लोगों के लिए दमकल कर्मियों ने रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया और बेहोशी की हालत में 3 बच्चों सहित 7 लोगों को बाहर निकाला. घायलों को बेहोशी की हालत में ही अस्पताल भेज दिया गया. अस्पताल में ले जाने के बाद डॉक्टरों ने 7 घायलों में से तीन महिलाओं को मृत घोषित कर दिया जबकि 4 लोग अभी भी अस्पताल में भर्ती हैं. 

यह भी पढ़ें-देश की टूटी अर्थव्यवस्था को छोड़, मोदी सरकार गोलवलकर और सावरकर के एजेंडे को आगे बढ़ाने में जुटी: चिदंबरम

इसके पहले दिल्ली के अनाज मंडी बाजार में भीषण आग लगी थी जिसमें 43 लोगों की जान चली गई थी. इस दौरान मुशर्रफ अली की अपने दोस्त से आखिरी बार फोन पर की गई बातचीत की रिकॉर्डिंग सामने आने के बाद कई लोगों की आंखों में आंसू आ गए. अग्निकांड में जान गवांने वाले अली के बचपन के 33 वर्षीय दोस्त मोनू अग्रवाल ने सोमवार को कहा कि उनकी अली के साथ आखिरी बातचीत ‘संयोग से रिकॉर्ड’ हो गई. फोन पर की गई बातचीत को बाद में टीवी चैनलों ने प्रसारित किया था और इसे सोशल मीडिया पर साझा किया गया.  

यह भी पढ़ें-देश की टूटी अर्थव्यवस्था को छोड़, मोदी सरकार गोलवलकर और सावरकर के एजेंडे को आगे बढ़ाने में जुटी: चिदंबरम

दिल्ली के अनाज मंडी में लगी आग में अली की जहरीले धुएं के कारण मौत हो गई. उन्होंने अग्रवाल से उनकी मौत के बाद उनके परिवार बुजुर्ग मां, पत्नी और आठ साल से कम उम्र के दो बच्चों का ध्यान रखने को कहा था. सोमवार को अग्रवाल, अली की मां के साथ उनका शव लेने के लिए दिल्ली आए हैं. पूछा गया कि उन्होंने क्या फोन कॉल जानबूझकर रिकॉर्ड की थी तो अग्रवाल ने से कहा, ‘ मैंने हमारी बातचीत कभी भी रिकॉर्ड नहीं की. यह संयोग से हो गई थी. शायद मेरी उंगली रिकॉर्डिंग बटन से टच हो गई होगी.’

यह भी पढ़ें-जेपी नड्डा का विपक्षी दल पर तंज, कहा- हम 'भलाई' के लिए आए हैं और वो 'मलाई के लिए

First Published : 14 Dec 2019, 10:19:08 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×