News Nation Logo

लखीमपुर खीरी में मंगलवार को अंतिम अरदास के बाद भी जारी रहेगा किसान आंदोलन

लखीमपुर खीरी में मंगलवार को अंतिम अरदास के बाद भी जारी रहेगा किसान आंदोलन

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 11 Oct 2021, 08:35:02 PM
Farmer agitation

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) ने मंगलवार को शहीद किसान दिवस करार देते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश जिले के तिकुनिया में लखीमपुर खीरी हत्याकांड के शहीदों की अंतिम अरदास होगी।

संगठन ने समर्थकों से अपनी जान गंवाने वाले किसानों को मोमबत्ती की रोशनी में श्रद्धांजलि देने की अपील की है।

एसकेएम ने यहां एक विज्ञप्ति में कहा, तिकुनिया में प्रार्थना सभा में हजारों किसानों के शामिल होने की उम्मीद है। एसकेएम देश भर के किसान संगठनों और अन्य प्रगतिशील समूहों से देश भर में मोमबत्ती की रोशनी में प्रार्थना और श्रद्धांजलि सभा आयोजित करके शहीद किसान दिवस को चिह्न्ति करने की अपील करता है।

लखीमपुर खीरी हिंसा में 3 अक्टूबर को किसानों और एक पत्रकार सहित नौ लोगों की मौत हो गई थी। आरोप है कि किसानों के विरोध के दौरान केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा के एक वाहन से कई किसान कुचले गए थे, जिसके बाद इलाके में हिंसा भड़क उठी थी।

यह कहते हुए कि मोदी सरकार के लिए यह शर्मनाक है कि मंत्री को अभी तक बर्खास्त नहीं किया गया है, एसकेएम ने कहा, लखीमपुर खीरी की घटना के कारण, आपराधिक मामलों का उनका पिछला इतिहास लोगों की नजरों में आ गया है। यह स्पष्ट है कि लखीमपुर खीरी नरसंहार में उनकी भूमिका थी। वह उनके ही वाहन थे, जो काफिले में थे, जिन्होंने निर्दोष लोगों को मार डाला।

संगठन ने आगे आरोप लगाते हुए कहा, तथ्य यह कि टेनी ने शत्रुता, घृणा और वैमनस्य को बढ़ावा देने की कोशिश की थी, जो कि 25 अक्टूबर को तराई क्षेत्र के सिखों के खिलाफ उनके भाषण से स्पष्ट होता है। उस समय एक जनसभा में, जहां वे गर्व से अपने आपराधिक इतिहास का भी जिक्र कर रहे थे, उनका भाषण डराने-धमकाने वाला था और इसके आधार पर अब तक कड़ी कार्रवाई हो जानी चाहिए थी, जिससे लखीमपुर खीरी हत्याकांड के पूरे प्रकरण को रोका जा सकता था।

एसकेएम ने पहले ही सोमवार को मंत्री को बर्खास्त करने और गिरफ्तार करने की समय सीमा के बारे में एक अल्टीमेटम जारी किया था। इसने इससे पहले कहा था, कल, लखीमपुर खीरी में नरसंहार के शहीदों के लिए आयोजित प्रार्थना सभाओं में, एसकेएम अपनी घोषित कार्य योजना के साथ आगे बढ़ेगा। एसकेएम दोहराता है कि भाजपा-आरएसएस द्वारा अपना सांप्रदायिक कार्ड खेलकर किसान आंदोलन को समाप्त या कमजोर नहीं किया जा सकता है। देश के किसान अपने संघर्ष में एकजुट हैं।

एसकेएम ने दावा किया कि उत्तर प्रदेश पुलिस कई किसानों और किसान नेताओं को लखीमपुर खीरी जाने से रोकने के लिए उनकी आवाजाही पर रोक लगा रही है।

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा किसानों के विरोध की प्रत्याशा में पुलिस और अर्धसैनिक बलों की तैनाती के संकेत देने वाली रिपोटरें पर, एसकेएम ने कहा, यह वास्तव में खेदजनक है कि न्याय बहाल करने और विरोध प्रदर्शनों को तेज करने से रोकने वाले कार्यों का आश्वासन देने के बजाय, यूपी सरकार विरोध प्रदर्शन की तैयारी कर रही है।

एसकेएम ने इसे भाजपा की ओर से अपने नेताओं को बचाने की कवायद करार दिया।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 11 Oct 2021, 08:35:02 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.