News Nation Logo

टिकाऊ जलवायु वित्त के लिए विशेषज्ञ समिति गठित

टिकाऊ जलवायु वित्त के लिए विशेषज्ञ समिति गठित

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 01 Oct 2021, 07:35:01 PM
Expert committee

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: जलवायु वित्त को सुव्यवस्थित करने की दिशा में एक कदम के रूप में कहा जा सकता है, भारत सरकार के वित्तीय नियामकों में से एक ने स्थायी वित्त हब के विकास की दिशा में एक दृष्टिकोण की सिफारिश करने के लिए एक विशेषज्ञ समिति का गठन किया है।

भारत ने कई अंतरराष्ट्रीय स्तर पर दोहराया है कि विकसित देशों, अमीर देशों को गरीब देशों, विकासशील दुनिया को बदलती जलवायु के विनाशकारी प्रभावों का मुकाबला करने के लिए अनुकूलन और शमन गतिविधियों को चलाने के लिए वित्त प्रदान करना चाहिए।

अनुकूलन में कई कदम शामिल हैं जो किसी ऐसी स्थिति में समायोजित करने में मदद करते हैं जिसमें आपदा हुई है, जबकि शमन को केवल आपदा को होने से रोकने के लिए उठाए गए कदमों के रूप में कहा जा सकता है या कम से कम, जलवायु परिवर्तन के कारण प्रभाव को कम कर सकता है।

राष्ट्रीय स्तर पर निर्धारित योगदान (एनडीसी) कहे जाने वाले इन उपायों के लिए जलवायु कार्रवाई के लिए 2015 से 2030 तक प्रति वर्ष 162.5 लाख करोड़ रुपये (यूएसडी 2.5 ट्रिलियन) की आवश्यकता होगी। जबकि भारत इसे घरेलू स्तर पर उठा सकता है, यह अनुकूलन और शमन कार्यो के लिए अमीर देशों से सार्वजनिक धन प्राप्त करने पर जोर देता रहा है।

फिक्की और यूएनईपी की एक रिपोर्ट में कहा गया है, हालांकि भारत का ऊर्जा क्षेत्र दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ रहा है और पर्याप्त निवेश आकर्षित कर रहा है, देश के जलवायु लक्ष्यों को पूरा करने के लिए क्षेत्रीय स्तर पर आनुपातिक, परिवर्तनकारी निवेश वृद्धि की आवश्यकता होगी।

अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्र प्राधिकरण (आईएफएससीए) को भारत में अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्रों (आईएफएससीस) में वित्तीय उत्पादों, वित्तीय सेवाओं और वित्तीय संस्थानों को विकसित और विनियमित करने के लिए एक एकीकृत नियामक के रूप में स्थापित किया गया है।

अब, आईएफएससीए, आवश्यक पारिस्थितिकी तंत्र को विकसित करने के अपने प्रयास में, एक सतत वित्त हब के विकास की दिशा में एक ²ष्टिकोण की सिफारिश करने और उसी के लिए एक रोड मैप प्रदान करने के लिए एक विशेषज्ञ समिति का गठन किया है।

विशेषज्ञ समिति की अध्यक्षता भारत सरकार के पूर्व सचिव, पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय, सीके मिश्रा करेंगे।

आईएफएससीए की एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि समिति में अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों, मानक निर्धारण निकायों, फंड, शिक्षा और परामर्श सहित स्थायी वित्त स्पेक्ट्रम के नेता शामिल हैं।

भारत ने महत्वाकांक्षी जलवायु कार्रवाई के लिए प्रतिबद्ध किया है, जो पेरिस समझौते 2015 के तहत अपने इच्छित राष्ट्रीय स्तर पर निर्धारित योगदान के प्रति अपनी प्रतिबद्धता में स्पष्ट है।

विज्ञप्ति में कहा गया है, जलवायु परिवर्तन अनुकूलन और इस पैमाने के शमन कार्यो के लिए वित्तीय संसाधन जुटाने के लिए अंतरराष्ट्रीय निवेशकों की सक्रिय भागीदारी की आवश्यकता है। आईएफएससीए ने जीआईएफटी-आईएफएससी को टिकाऊ वित्त के लिए एक वैश्विक केंद्र के रूप में देखा है, जिससे भारत में विदेशी पूंजी को चैनलाइज करने के लिए प्रवेश द्वार के रूप में कार्य किया जा रहा है।

विशेषज्ञ समिति प्रमुख अंतरराष्ट्रीय वित्तीय क्षेत्राधिकारों में सतत वित्त में मौजूदा नियामक प्रथाओं का अध्ययन करेगी और आईएफएससी में एक विश्व स्तरीय टिकाऊ वित्त केंद्र विकसित करने के लिए एक मजबूत ढांचे की सिफारिश भी करेगी।

यह जीआईएफटी-आईएफएससी के लिए सतत वित्त में मौजूदा और उभरते अवसरों की पहचान करेगा ताकि भारत की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए प्रवेश द्वार के रूप में कार्य किया जा सके और सतत वित्त पर एक लघु, मध्यम और दीर्घकालिक ²ष्टि/रोडमैप की सिफारिश की जा सके।

समिति किसी भी अन्य मुद्दों की जांच और समाधान भी कर सकती है जो महत्वपूर्ण हैं, हालांकि विशेष रूप से संदर्भ की शर्तो में उल्लेख नहीं किया गया है।

आईएफएससी ने समिति को अपनी पहली बैठक आयोजित करने की तारीख से तीन महीने के भीतर सिफारिशों के साथ अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करने को कहा है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 01 Oct 2021, 07:35:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो