News Nation Logo
गुजरात प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के चुनाव को लेकर प्रदेश कांग्रेस के नेता राहुल गांधी से मिले अनन्या पांडे एनसीबी दफ्तर के लिए घर से निकली ड्रग पैडलर को सामने बैठाकर पूछताछ कर सकती है NCB ड्रग्स चैट मामले में अनन्या पांडे से होनी है पूछताछ रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने आज बेंगलुरु में वैमानिकी विकास प्रतिष्ठान का दौरा किया शिवराज सिंह चौहान ने शोपियां मुठभेड़ में शहीद जवान कर्णवीर सिंह को सतना में श्रद्धांजलि दी आग पर काबू पाने के लिए दमकल की 20 से ज्यादा गाड़ियां मौके के लिए रवाना मुंबई के लालबाग इलाके में 60 मंजिला इमारत में लगी भीषण आग आग की लपटों से घिरी बहुमंजिला इमारत में 100 से ज्यादा लोगों के फंसे होने की आशंका बहादुरगढ़ के बादली के पास तेज़ रफ़्तार कार और ट्रक की टक्कर में एक ही परिवार के 8 लोगों की मौत उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव: कल शाम छह बजे सोनिया गांधी के आवास पर कांग्रेस सीईसी की बैठक राष्ट्रपति कोविन्द अपनी तीन दिवसीय बिहार यात्रा के अंतिम दिन गुरुद्वारा पटना साहिब, महावीर मंदिर गए छत्तीसगढ़ः राजनांदगांव में आईटीबीपी के 21 जवानों को फूड प्वाइजनिंग, अस्पताल में भर्ती कराया गया ऑयल मार्केटिंग कंपनियों ने लगातार तीसरे दिन पेट्रोल और डीजल को महंगा किया राजधानी दिल्ली में पेट्रोल का दाम बढ़कर 106.89 रुपये प्रति लीटर हुआ युद्ध जारी रहते कवच नहीं उतारते यानी मास्क को सहज स्वभाव बनाएंः पीएम मोदी आर्यन खान की चैट के आधार पर एनसीबी आज फिर करेगी अनन्या पांडे से पूछताछ पुंछ में आतंकियों पर सुरक्षा बलों का घेरा कसा. आज या कल खत्म कर दिए जाएंगे आतंकी दूत जम्मू-कश्मीर दौरे से पहले गृह मंत्री अमित शाह की आईबी-एनआईए संग हाई लेवल बैठक आज आज फिर बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, 35 पैसे प्रति लीटर का हुआ इजाफा

पर्यावरण मंत्रालय ने हाथी रिजर्व, गलियारे की मैपिंग शुरू की

पर्यावरण मंत्रालय ने हाथी रिजर्व, गलियारे की मैपिंग शुरू की

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 01 Oct 2021, 04:15:02 PM
Environment Minitry

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय (एमओईएफ और सीसी) हाथियों के लिए राज्य के वन विभागों (एसएफडी) के लिए शुक्रवार से चार क्षेत्रीय कार्यशालाओं का आयोजन करेगा, ताकि उन्हें हाथी गलियारों की पहचान और जमीनी सच्चाई पर प्रशिक्षित किया जा सके।

भारत भर में 30 हाथी रिजर्व हैं जो 55,000 वर्ग किमी के क्षेत्र में फैले हुए हैं, लेकिन 80 फीसदी हाथी संरक्षित क्षेत्रों से बाहर हैं।

मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा, हाथी के रिजर्व के बाहर अधिकांश हाथियों के साथ, वे मनुष्यों के संपर्क में आते हैं और इससे इंसानो और हाथियों के संघर्ष (एचईसी) के मामले बनते है।

उन हाथी रिजर्व के अलावा, ऐसे अन्य क्षेत्र भी हैं जिन पर मंत्रालय का ध्यान केंद्रित करना है।

अधिकारी ने कहा, एक बार सीमाओं को युक्तिसंगत बनाने के बाद, हम यह पता लगाने में सक्षम होंगे कि कौन से क्षेत्र हैं ताकि हम संघर्ष के स्थानों की पहचान कर सकें और एचईसी घटनाओं से बच सकें।

मंत्रालय ने अप्रैल में हाथी गलियारों की पहचान और जमीनी सच्चाई के लिए एक समिति का गठन किया और पहली बैठक जुलाई में हुई थी।

पर्यावरण मंत्री भूपेंद्र यादव ने कहा, समिति ने हाथी गलियारों की पहचान के लिए मापदंडों को अंतिम रूप दिया है। हाथी गलियारों की पहचान और जमीनी सच्चाई पर एसएफडी को प्रशिक्षित करने के लिए सभी हाथी रेंज राज्यों के साथ चार क्षेत्रीय कार्यशालाएं आयोजित की जाएंगी।

30 हाथी रिजर्व में से 23 के लिए जीआईएस का उपयोग करते हुए भूमि उपयोग कवर मैपिंग का काम पूरा कर लिया गया है और मंत्रालय को राज्यों से मैपिंग की फाइलें पहले ही मिल चुकी हैं।

यादव ने आईएएनएस से कहा, हम शेष के लिए राज्य एफडी के साथ इसका पालन कर रहे हैं। इसके बाद मैपिंग की जाएगी और अंतिम रिपोर्ट तैयार की जाएगी।

उत्तर पश्चिमी क्षेत्र-उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के लिए पहली क्षेत्रीय परामर्श कार्यशाला शुक्रवार से शुरू हो रही है और फाइनल 18 अक्टूबर को आयोजित किया जाएगा।

इस अभ्यास के साथ हाथी गलियारे की संरचनात्मक और कार्यात्मकता स्थापित की जाएगी।

मंत्रालय के अधिकारी ने कहा, तो आखिरकार, हमें बिना किसी बाधा के हाथी की आवाजाही पर अधिकतम ध्यान देने के साथ एक अंतिम तस्वीर मिल जाएगी। किसी भी तरह का अतिक्रमण हो सकता है, जो हाथी की आवाजाही में बाधा उत्पन्न कर सकता है।

भारत में अधिकांश हाथी भंडार 2002 से अधिसूचित होने लगे और दो दशकों में इन भंडारों की कोई कानूनी वैधता नहीं है और इन्हें अभी अधिसूचित किया गया है, जमीन पर बहुत सारे बदलाव हुए हैं।

इस कार्य को दो से तीन महीने के भीतर पूरा करने का लक्ष्य है, लेकिन मंत्रालय का लक्ष्य इसे वित्तीय वर्ष के अंत तक समाप्त करना है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 01 Oct 2021, 04:15:02 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.