News Nation Logo
जम्मू कश्मीर : सुरक्षा बलों का ऑपरेशन क्लीन जारी, 3 दिन में 10 आतंकी ढेर चारधाम यात्रा : 24 दिनों में 83 श्रद्धालुओं की मौत, ज्यादातर की वजह हार्ट अटैक राजस्थान : मंत्री अशोक चांदना ने सीएम गहलोत को ट्वीट कर जताई नाराजगी, पद से हटाने की मांग अंडमान-निकोबार में सुबह भूकंप के झटके, रिक्टर स्केल पर 4.3 तीव्रता पंडित नेहरू की 58वीं पुण्यतिथि: कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने शांति वन जाकर दी श्रद्धांजलि महाराष्ट्र : समर्थन ना मिलने से छत्रपति संभाजी राजे ने राज्यसभा चुनाव से अपनी उम्मीदवारी वापस ली हिंदी उपन्यास को पहली बार अंतरराष्ट्रीय बुकर पुरस्कार, गीतांजली श्री की 'रेत समाधि' बनी विजेता जम्मू कश्मीर : अवंतीपोरा मुठभेड़ में दो आतंकी ढेर, सुरक्षा बलों का सर्च ऑपरेशन जारी
Banner

पीएमएलए मामला : ईडी ने एनएसआईसी अधिकारियों, बिचौलिए के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की

पीएमएलए मामला : ईडी ने एनएसआईसी अधिकारियों, बिचौलिए के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 19 Jan 2022, 09:30:02 PM
Enforcement Directorate

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली:   प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने बुधवार को कहा कि उसने एनएसआईसी और बैंकों को 173.50 करोड़ रुपये का नुकसान पहुंचाने के मामले में देबब्रत हालदार, राष्ट्रीय लघु उद्योग निगम (एनएसआईसी) के अधिकारियों और अन्य के खिलाफ अभियोजन शिकायत (आरोपपत्र) दाखिल किया है।

ईडी के एक अधिकारी ने बताया कि धन शोधन रोकथाम कानून (पीएमएलए) के तहत कोलकाता की विशेष ईडी अदालत में आरोपपत्र दाखिल किया गया है।

ईडी ने चार्जशीट में उल्लेख किया है कि आरोपी कथित रूप से बैंक गारंटी के गलत तरीके से इन्वोकेशन/फर्जी बैंक गारंटी का इन्वोकेशन करने में शामिल थे, जिस कारण बैंकों को नुकसान हुआ।

अधिकारी ने कहा कि अदालत ने पीएमएलए के तहत अपराध का संज्ञान लिया है।

शुरुआत में इस संबंध में सीआईडी, पश्चिम बंगाल द्वारा प्राथमिकी दर्ज की गई थी। ईडी ने इस प्राथमिकी के आधार पर मनी लॉन्ड्रिंग की जांच शुरू की थी।

ईडी अधिकारी ने कहा, एनएसआईसी/बैंक को उसकी कच्ची सामग्री सहायता योजना (आरएमए योजना) के तहत अन्य असंबद्ध संस्थाओं की बैंक गारंटी (बीजी) और विभिन्न शाखाओं द्वारा जारी किए जाने वाले नकली बीजी जमा करके आपराधिक साजिश के तहत कुल 173.50 करोड़ रुपये का नुकसान पहुंचाया गया।

अधिकारी ने कहा कि अपनी आरएमए योजना के तहत प्राप्त एनएसआईसी फंड को विभिन्न फर्जी आपूर्तिकर्ता फर्मो के खातों के माध्यम से देबब्रत हालदार (बिचौलिया), उत्पल सरकार और राहुल पॉल (एमएसएमई और आपूर्तिकर्ता फर्म के लाभकारी मालिक) ने तत्कालीन एनएसआईसी और यूबीआई के अधिकारी के साथ मिलीभगत से धन की हेराफेरी की थी।

पीएमएलए स्पेशल कोर्ट ने उत्पल सरकार और राहुल पॉल के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया है।

देवव्रत हालदार को 2021 में गिरफ्तार किया गया था और 14 दिनों के लिए ईडी की हिरासत में भेज दिया गया था। फिलहाल वह न्यायिक हिरासत में है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 19 Jan 2022, 09:30:02 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.