News Nation Logo

दक्षिण एशिया में सक्रिय हो रहा मिस्र स्थित मुस्लिम ब्रदरहुड

दक्षिण एशिया में सक्रिय हो रहा मिस्र स्थित मुस्लिम ब्रदरहुड

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 02 Oct 2021, 06:05:01 PM
Egypt-baed Mulim

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: मुस्लिम ब्रदरहुड (एमबी) की दक्षिण एशिया से दूरी संभवत: जमात-ए-इस्लामी के संबंध में भी हो सकती है, जो दुनिया के इस हिस्से में कट्टरपंथी इस्लाम के एजेंडे को आगे बढ़ाता है।

डिसइन्फोलैब की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि एमबी और उसके विभिन्न मोचरें ने जमात के आख्यानों को समर्थन प्रदान किया है और जमात के कई मोर्चे अमेरिका और अन्य जगहों जैसे फिलिस्तीन, जॉर्डन और मिस्र (जहां इसकी उत्पत्ति हुई) में एमबी मोचरें से अच्छी तरह से जुड़े हुए हैं। हालांकि अभी तक एमबी ने भारत के मामले को अपने हाथ में नहीं लिया है।

मगर ऐसा लगता है कि अब यह बदलने वाला है।

अब एमबी द्वारा भारत विरोधी प्रवृत्ति का नेतृत्व किया जा रहा है, हालांकि पाकिस्तान के 5वें जेन वारफेयर (5जीडब्ल्यू) सैनिकों की एक महत्वपूर्ण संख्या, जो लगातार भारत के खिलाफ जाने के लिए तैयार हैं, ने भी इस प्रवृत्ति में योगदान दिया है।

यह एमबी के पैदल सैनिक (की-बोर्ड योद्धा) नहीं हैं, बल्कि अभियान में भाग लेने वाले एमबी के कुछ लोग हैं। तथ्य यह है कि अभियान लगातार सऊदी राजकुमार मोहम्मद बिन सलमान और फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों को लक्षित कर रहा है। साथ ही यह दिखाता है कि भारत को लक्षित करने के बावजूद, एमबी ने अपने मूल उद्देश्यों को नहीं छोड़ा है।

इस नैरेटिव को आगे बढ़ाने वाले अधिकांश प्रमुख हैंडल मुस्लिम ब्रदरहुड (अल-इखवान अल-मुसलमुन) से संबंधित हैं।

एमबी मिस्र से बाहर स्थित एक धार्मिक-राजनीतिक और कट्टरपंथी संगठन है। यह आरोप लगाया गया है कि यह अतीत में बम विस्फोट और राजनीतिक हत्याओं सहित कई हिंसक कृत्यों से जुड़ा हुआ है।

मुस्लिम ब्रदरहुड के सदस्यों पर 9/11 हमले सहित आतंकवादी गतिविधियों को समर्थन/उकसाने का आरोप लगाया गया है।

संगठन के कई शीर्ष पदाधिकारी यूएस टेरर वॉच लिस्ट में हैं और कई सदस्य प्रतिबंध सूची में बने हुए हैं। माना जाता है कि एमबी ने मिस्र में 13 आतंकवादी समूहों के गठन को प्रेरित किया। सऊदी अरब और यूएई में इस संगठन पर प्रतिबंध है।

हालांकि, जिसे इतना स्वीकार और सराहा नहीं गया है, वह यह है कि एमबी को संक्षेप में पश्चिमी समाज में घुसपैठ करने और कट्टरपंथी प्रवचन के लिए एक बौद्धिक ढांचा प्रदान करने के लिए एक उपकरण के रूप में कल्पना की गई थी।

उद्देश्य अन्य आवाजों को डुबो कर इस्लामी दुनिया और मुस्लिम मामलों की चर्चा पर एकाधिकार करना रहा है। इसने पश्चिमी दुनिया के उपस्थिति और तरीके को अपनाकर ऐसा किया है, जिसमें पश्चिमी वेशभूषा (हालांकि अनिवार्य रूप से पुरुष) शामिल हैं। यह इसके संस्थापक हसन अल बन्ना के मूल दर्शनों में से एक था।

मुस्लिम ब्रदरहुड की अमेरिका में भी शाखाएं हैं और इससे आईएसएनए, एमएसए, सीएआईआर और आईसीएनए जैसे संगठन भी जुड़े हुए हैं।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 02 Oct 2021, 06:05:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो