News Nation Logo
Banner

ईडी बैंक ऋण धोखाधड़ी मामले में सी पार्थसारथी से पुलिस हिरासत में पूछताछ करेगा

ईडी बैंक ऋण धोखाधड़ी मामले में सी पार्थसारथी से पुलिस हिरासत में पूछताछ करेगा

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 25 Jan 2022, 02:45:01 PM
ED to

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

हैदराबाद:   कार्वी स्टॉक ब्रोकिंग लिमिटेड (केएसबीएल) के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक कोमंदूर पार्थसारथी से पूछताछ की जा सकती है, जिसे प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने रविवार को बैंक धोखाधड़ी मामले में गिरफ्तार किया था।

एजेंसी को कथित आरोपी की पांच दिन की हिरासत मिली है। पार्थसारथी फिलहाल चंचलगुडा जेल में बंद हैं, जहां से उन्हें हिरासत में लिया जाएगा। वह बेंगलुरु जेल में बंद थे और एक कैदी ट्रांजिट वारंट पर चांडलगुडा जेल में स्थानांतरित कर दिया गया था।

शुरूआत में हैदराबाद सेंट्रल क्राइम स्टेशन (सीसीएस) पुलिस ने उसके खिलाफ मामला दर्ज किया था। हैदराबाद पुलिस ने कंपनी के खिलाफ पांच मामले दर्ज किए। इंडसइंड बैंक और एचडीएफसी बैंक ने आरोप लगाया था कि केएसबीएल ने अपने ग्राहक की प्रतिभूतियों को गिरवी रखकर और ऋण राशि को डायवर्ट करके ऋण धोखाधड़ी की है।

ईडी ने हैदराबाद पुलिस की प्राथमिकी के आधार पर मनी लॉन्ड्रिंग की जांच शुरू की।

हैदराबाद सीसीएस पुलिस ने मामले में चार्जशीट दाखिल की थी। ईडी ने पीएमएलए जांच शुरू करने के बाद, मनी लॉन्ड्रिंग मामले की जांच के लिए चार्जशीट और अन्य संबंधित दस्तावेजों की एक प्रति ली। ईडी ने अपने मामले को मजबूत बनाने के लिए आयकर, आरबीआई, सेबी और एनएसई की रिपोर्ट भी ली।

यह आरोप लगाया गया है कि केएसबीएल प्रबंधन ने कथित तौर पर कई सैकड़ों करोड़ रुपये की बैंक धोखाधड़ी की।

केएसबीएल ने कथित तौर पर कई खातों में 550 करोड़ रुपये ट्रांसफर किए।

इंडसइंड बैंक ने केएसबीएल को प्रतिभूतियों, शेयरों और व्यक्तिगत गारंटी के आधार पर 137 करोड़ रुपये का ऋण दिया। गारंटर में से एक केएसबीएल के अध्यक्ष सी पार्थसारथी थे। उन्होंने इस तथ्य को दबा दिया कि गिरवी रखी गई प्रतिभूतियां ग्राहकों की थीं।

सभी प्रतिभूतियों को केएसबीएल के डीमैट खाते में स्थानांतरित कर दिया गया और इंडसइंड बैंक के समक्ष उनके व्यवसायों में मार्जिन और अल्पकालिक आवश्यकता के लिए गिरवी रखा गया।

एचडीएफसी बैंक ने यह भी आरोप लगाया है कि केएसबीएल ने अपने ग्राहकों की प्रतिभूतियों को अवैध रूप से गिरवी रखकर 329 करोड़ रुपये का ऋण लिया। बाद में उन्होंने केस ट्रांसफर कर दिया।

ईडी को जांच के दौरान यह भी पता चला कि 2016 और 2019 के बीच केएसबीएल ने कथित तौर पर कार्वी रियल्टी कंपनी को 1,000 करोड़ रुपये ट्रांसफर किए।

पिछले साल सितंबर में ईडी ने केएसबीएल के अलग-अलग पतों पर छापेमारी की थी। ईडी ने कार्वी ग्रुप के शेयर भी फ्रीज कर दिए थे।

ईडी ने कई आपत्तिजनक दस्तावेज जुटाए हैं और मामले की जांच कर रही है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 25 Jan 2022, 02:45:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.