News Nation Logo

डीआरडीओ ने ऑक्सीजन बनाने के लिए जिओलाइट का आयात किया

जिओलाइट्स 'आणविक चलनी' (मोलेक्यूलर सीव्स) हैं जिनमें सिलिकॉन, एल्यूमीनियम और ऑक्सीजन शामिल हैं और औद्योगिक और चिकित्सा ऑक्सीजन बनाने के लिए कच्चे माल के रूप में उपयोग किया जाता है.

IANS | Updated on: 17 May 2021, 12:05:01 AM
zeolite

zeolite (Photo Credit: आइएएनएस)

highlights

  • एयर इंडिया के दो मालवाहक विमान 34,200 किलोग्राम जिओलाइट के साथ बेंगलुरु पहुंचे
  • टाटा एडवांस सिस्टम्स लिमिटेड के प्लांट में मेडिकल ऑक्सीजन बनाने के लिए किया जाएगा
  • रोम से जिओलाइट लेकर दो विमान प्रमुख घटक की पहली खेप के रूप में पहुंचे

बेंगलुरू:

देश में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर से अभी भी हाहाकार मचा हुआ है. आज भी 3 लाख से ज्यादा नए मरीज सामने आए तो 3 हजार से ज्यादा कोरोना मरीजों की मौत हो गई. वही एयर इंडिया के दो मालवाहक विमान 34,200 किलोग्राम जिओलाइट के साथ बेंगलुरु पहुंचे हैं, जिसे रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) ने कोविड मरीजों के इलाज के लिए मेडिकल ऑक्सीजन बनाने के लिए आयात किया है. एक अधिकारी ने रविवार को यह जानकारी दी. डीआरडीओ के एक अधिकारी ने यहां बताया, रोम से जिओलाइट लेकर दो विमान प्रमुख घटक की पहली खेप के रूप में पहुंचे. जिओलाइट्स 'आणविक चलनी' (मोलेक्यूलर सीव्स) हैं जिनमें सिलिकॉन, एल्यूमीनियम और ऑक्सीजन शामिल हैं और औद्योगिक और चिकित्सा ऑक्सीजन बनाने के लिए कच्चे माल के रूप में उपयोग किया जाता है. अधिकारी ने नाम जाहिर न करने की शर्त पर कहा, इस घटक का इस्तेमाल कोलार के मलूर में टाटा एडवांस सिस्टम्स लिमिटेड के प्लांट में मेडिकल ऑक्सीजन बनाने के लिए किया जाएगा, जिसमें डीआरडीओ द्वारा विकसित और ट्रांसफर की गई तकनीक है.

यह भी पढ़ेंः दिख रही राहत : कोरोना के मामले घटे, 24 घंटे में 3.11 लाख नए बीमार, 4077 मौतें

अधिकारी ने कहा, जिओलाइट का इस्तेमाल संयंत्र में शुद्ध ऑक्सीजन बनाने में आणविक चलनी के रूप में किया जाएगा, जो डीआरडीओ द्वारा विकसित दबाव स्विंग सोखना तकनीक को अपनाता है. कच्चे माल की अधिक खेप इस सप्ताह शहर के हवाईअड्डे पर इटली और दक्षिण कोरिया से ऑक्सीजन उत्पन्न करने के लिए उतरने वाली है, जिसकी मांग महामारी की दूसरी लहर के बीच कोविड रोगियों के इलाज के लिए तेजी से बढ़ी है. अधिकारी ने कहा, बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए प्राथमिकता के आधार पर मेडिकल ऑक्सीजन बनाने के लिए 5-6 कंपनियों को तकनीक हस्तांतरित की गई है. डीआरडीओ ने अपने लड़ाकू विमान तेजस में ऑक्सीजन उत्पन्न करने की तकनीक विकसित की, जिसे भारतीय वायुसेना द्वारा शामिल किया गया है.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 17 May 2021, 12:05:01 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.