News Nation Logo

सरकार का राहुल पर पलटवार, कहा- एजेंसियों का नहीं हो रहा कोई दुरुपयोग

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 26 Jul 2022, 10:05:01 PM
Dharmendra Pradhan

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली:   केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेद्र प्रधान ने मंगलवार को कांग्रेस नेता राहुल गांधी के उस बयान पर पलटवार किया, जिसमें उन्होंने कहा था कि भारत में पुलिस राज चल रहा है।

प्रधान ने कहा, यह उनकी कल्पना है। भाजपा के वरिष्ठ नेता ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी की ओर से तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली कैबिनेट द्वारा पारित अध्यादेश को फाड़ने का उदाहरण दिया, जिसमें विपक्षी दल पर संवैधानिक मूल्यों की पूर्ण अवहेलना का आरोप लगाया गया था।

उन्होंने कहा कि एजेंसियां कानून के अनुसार अपना काम कर रही हैं। राहुल गांधी ने अपनी ही सरकार के अध्यादेश को फाड़ दिया था और उसे बकवास करार दिया था।

संसद से राष्ट्रपति भवन तक कांग्रेस द्वारा किए गए विरोध मार्च के दौरान मंगलवार को राहुल गांधी को हिरासत में ले लिया गया। जैसे ही सांसद राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को एक ज्ञापन सौंपने के लिए आगे बढ़े, दिल्ली पुलिस ने उन्हें विजय चौक के पास बीच में ही रोक दिया।

दिल्ली पुलिस द्वारा हिरासत में लिए जाने के तुरंत बाद, राहुल ने केंद्र में भाजपा सरकार की ओर इशारा करते हुए कहा कि केवल सच्चाई ही इस तानाशाही को खत्म करेगी।

उन्होंने ट्वीट किया, तानाशाही देखिए, शांतिपूर्ण प्रदर्शन नहीं कर सकते, महंगाई और बेरोजगारी पर चर्चा नहीं कर सकते। पुलिस और एजेंसियों का दुरुपयोग करके, हमें गिरफ्तार करके भी, कभी चुप नहीं करा पाओगे। सत्य ही इस तानाशाही का अंत करेगा।

इसके बाद राहुल गांधी समेत कांग्रेस के सांसद संसद के पास सड़क के बीचोंबीच धरने पर बैठ गए और जांच एजेंसी ईडी और केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी की।

बाद में, उन्हें कई अन्य नेताओं के साथ, पुलिस ने हिरासत में लिया और एक बस में किंग्सवे पुलिस कैंप, नई पुलिस लाइन ले जाया गया।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 26 Jul 2022, 10:05:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.