News Nation Logo

लद्दाख में 750 करोड़ रुपये की लागत वाले केंद्रीय विश्वविद्यालय को स्वीकृति

लद्दाख में 750 करोड़ रुपये की लागत वाले केंद्रीय विश्वविद्यालय को स्वीकृति

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 22 Jul 2021, 09:00:01 PM
Dharmendra Pradhan

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: केंद्र सरकार ने 750 करोड़ की लागत से लद्दाख में केंद्रीय विश्वविद्यालय स्थापित करने की स्वीकृति दी है। केंद्र सरकार के मुताबिक इससे स्थानीय युवाओं के बौद्धिक कौशल को प्रज्वलित करने, ज्ञान आधारित समाज के निर्माण की सुविधा और लद्दाख, लेह और कारगिल क्षेत्रों के समग्र विकास और विकास को बढ़ावा देने में मदद होगी।

केंद्र सरकार की मंजूरी पर केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने कहा कि विश्वविद्यालय की स्थापना के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की स्वीकृति का स्वागत है। इससे नई शिक्षा नीति के अनुरूप उच्च शिक्षा में क्षेत्रीय असंतुलन दूर होगा और युवाओं के लिए नए अवसर खुलेंगे।

वहीं राज्यसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में शिक्षा मंत्री ने कहा कि अनिवार्य शिक्षा का अधिकार (आरटीई) अधिनियम, 2009, 6 से 14 वर्ष की आयु के प्रत्येक बच्चे को मुफ्त और अनिवार्य प्रारंभिक शिक्षा प्रदान करने का आदेश देता है। महामारी के दौरान, शिक्षा मंत्रालय ने बच्चों को शिक्षा के लिए दूरस्थ पहुंच प्रदान करने के लिए विभिन्न कदम उठाए हैं, जो एससी, एसटी सहित प्रत्येक श्रेणी के छात्रों के लिए उपलब्ध हैं, चाहे उनका क्षेत्र या आर्थिक स्तर कुछ भी हो।

पीएम विद्या नामक एक व्यापक पहल शुरू की गई है जिसका उद्देश्य शिक्षा के लिए मल्टी-मोड एक्सेस को सक्षम करने के लिए डिजिटल, ऑनलाइन, ऑन-एयर शिक्षा से संबंधित सभी प्रयासों को एकीकृत करना है। इस पहल में व्यापक पहुंच प्रदान करने के लिए सभी प्रकार के डिजिटल मोड शामिल हैं।

दीक्षा (ऑनलाइन), स्वयं (ऑनलाइन), स्वयं प्रभा (टीवी), दूरदर्शन और आकाशवाणी नेटवर्क के उपयोग सहित अन्य टीवी चैनल। इसके अलावा, विभिन्न माध्यमों के माध्यम से निरंतर शिक्षा की सुविधा के लिए राज्यों को दिशानिर्देश जारी किए गए थे।

दिशानिदेशरें में अन्य बातों के साथ-साथ ऐसी स्थितियां शामिल हैं जहां इंटरनेट कनेक्टिविटी उपलब्ध नहीं है या बहुत कम बैंडविड्थ के साथ उपलब्ध है। इन संसाधनों को टेलीविजन, रेडियो आदि जैसे विभिन्न प्लेटफार्मों के माध्यम से साझा किया जाता है जो इंटरनेट पर निर्भर नहीं हैं। डिवाइस के साथ और बिना डिवाइस वाले दोनों बच्चों के लिए कक्षा 1 से 12 तक के समाधान सीखने के लिए एक वैकल्पिक शैक्षणिक कैलेंडर तैयार किया गया है।

इनके अलावा, सामुदायिक रेडियो, वर्कशीट और पाठ्य पुस्तकों की आपूर्ति शिक्षार्थियों के निवास पर, शिक्षकों द्वारा घर का दौरा, सामुदायिक कक्षाएं, टोल फ्री नंबर, ऑडियो सामग्री के लिए एसएमएस आधारित अनुरोध, शिक्षा के लिए स्थानीय रेडियो सामग्री आदि का उपयोग किया गया है। सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों द्वारा उठाए गए कदमों को - इंडिया रिपोर्ट डिजिटल एजुकेशन जून 2020 में दिखाया गया है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 22 Jul 2021, 09:00:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो