News Nation Logo
Banner

पंचकूला हिंसा मामले में आया नया मोड़, पुलिस ने Vipassana Insa का नाम Most Wanted List से किया बाहर

पुलिस ने विपासना को पकड़ने के लिए 8 बार रेड मारी थी.

By : Vikas Kumar | Updated on: 24 Aug 2019, 12:57:53 PM
विपासना इंसा (फाइल फोटो)

विपासना इंसा (फाइल फोटो)

highlights

  • Haryana Police ने विपासन इंसा का नाम मोस्टवांटेड की लिस्ट से किया बाहर.
  • विपासना को पकड़ने के लिए 8 बार करनी पड़ी थी रेड.
  • हनी प्रीत की डायरी को डिकोड करने के लिए पुलिस ने इँसा की ली थी मदद.

पंचकूला:

डेरा सच्चा सौदा (Dera Sacha Sauda) प्रमुख और साध्वी यौन शोषण मामले से लेकर पत्रकार छत्रपति मर्डर मामले में रोहतक की सुनारिया जेल में सजा काट रहे गुरमीत राम रहीम (Gurmeet Ram Rahim Singh) के खास मानी जाने वली विपासना इंसां (Vipassana Insa) और आदित्य इंसां (Aditya Insa) को मोस्ट वांटेड लिस्ट से बाहर कर दिया गया है. फिलहाल तो यही कहा जा सकता है कि हरियाणा पुलिस Vipassana Insa मेहरबान नजर आ रही है. बता दें कि जम्मू कश्मीर में रहने वाले आदित्य इंसां पिछले दो साल से फरार चल रहा है. पुलिस ने आदित्य पर 5 लाख रुपये का इनाम भी रखा हुआ है.

हालांकि पुलिस अब आदित्य को पकड़ने का प्रयास भी कम कर दिया है. हरियाणा पुलिस ने इनपुट के आधार पर 3 जिलों की पुलिस फोर्स लेकर सिरसा डेरे में रेड करने की प्लानिंग बनाई थी, लेकिन कैंसिल कर दिया गया. बता दें केंद्र सरकार (Central Government) ने एक साल पहले पूछा था कि इस केस को CBI को ट्रांसफर किए जाने की बात कही थी लेकिन होम डिपार्टमेंट ने इसका जवाब अब तक नहीं भेजा है.  

यह भी पढ़ें: बीजेपी के वरिष्‍ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली का निधन
दरअसल 25 अगस्त 2017 को पंचकूला इन सबूतों के आधार पर सामने आई थी विपासना की भूमिका में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत सिंह को डेरे सिरसा से पंचकूला की स्पेशल CBI कोर्ट में पेश किया गया था. गुरमीत सिंह के यहां पेश होने से पहले भारी संख्या में डेरे के अनुयायियों विरोध में उतर गए थे. 25 अगस्त को सीबीआई कोर्ट ने जब साध्वी यौन शोषण मामले में गुरमीत सिंह को दोषी करार दिया था, तो उसके बाद पंचकूला में हिंसा भड़क गई थी.

इस पूरे मामले में हनी प्रीत की भूमिका सामने आने के बाद पुलिस ने Vipassana Insa को पंचकूला में पूछताछ के लिए बुलाया था. विपासना आई तो हनी प्रीत के सामने बिठाकर उस से पूछताछ की गई थी. सूत्रों के मुताबिक, दोनों में सवालों के जवाब देने के दौरान बहस भी हुई थी.

यह भी पढ़ें: 17 साल से लटके 'वन टैक्स, वन नेशन' (GST) को लागू कराने में अरुण जेटली का था सबसे बड़ा हाथ

बता दें कि बाद में पुलिस ने विपासना को पकड़ने के लिए 8 बार रेड मारी थी. लेकिन अब उसे Most Wanted list से बाहर कर दिया गया है. विपासना ने पंचकूला पुलिस को लेटर भेजा था जिसमें उन्होंने लिखा था कि वो पुलिस के साथ इंवेस्टिगेशन में कोऑपरेट कर रही हैं और जब भी बुलाया जाएगा वो पंचकुला में जांच में शामिल होंगी.

First Published : 24 Aug 2019, 12:55:12 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×