News Nation Logo

दिल्ली हिंसा पर प्रियंका गांधी ने दिया बड़ा बयान, अमित शाह को लेकर कही ये बात

दिल्ली में हुए हिंसा के खिलाफ कांग्रेस (Congress) ने बुधवार को 'शांति मार्च' निकाला. कांग्रेस मुख्यालय से गांधी स्मृति तक मार्च निकाला गया.

News Nation Bureau | Edited By : Nitu Pandey | Updated on: 26 Feb 2020, 09:52:41 PM
प्रियंका गांधी

प्रियंका गांधी (Photo Credit: ANI)

नई दिल्ली :

दिल्ली में हुए हिंसा के खिलाफ कांग्रेस (Congress) ने बुधवार को 'शांति मार्च' निकाला. कांग्रेस मुख्यालय से गांधी स्मृति तक मार्च निकाला गया. इस मार्च में प्रियंका गांधी (priyanka gandhi), सुष्मिता देव, केसी वेणुगोपाल और अन्य कांग्रेस नेता शामिल हुए. पुलिस ने 'शांति मार्च' में भाग ले रहे कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं को जनपथ रोड पर ही रोक दिया. प्रियंका गांधी ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि इस शहर में लोग काम ढूंढने आते हैं, आज इस शहर में आग उगल रही है.

प्रियंका गांधी ने कहा, 'हम आज गृह मंत्री जी की कोठी तक चलकर उनका इस्तीफा मांगना चाहते थे, हमें पुलिस ने रोका है. इस शहर को तबाह किया जा रहा है, इस शहर में लोग काम ढूंढने आते हैं, आज इस शहर में आग उगल रही है, हम एक ऐसी पार्टी के कार्यकर्ता हैं जिसके जरिए इस देश को आजादी मिली.'

इसे भी पढ़ें: दिल्ली दंगा : क्या अमित शाह देंगे इस्तीफा? जानिए BJP ने इस पर क्या कहा

गृह मंत्री की जिम्मेदारी है कि देश में रहे शांति

कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने आगे कहा , 'गृह मंत्री जी की ज़िम्मेदारी है कि देश की राजधानी में शांति हो, सरकार की ज़िम्मेदारी है, वे इस ज़िम्मेदारी को निभाने में असफल हुए हैं. हम चाहते हैं कि सरकार कार्रवाई करे, शांति बनी रहे. हमारी यही मांग है.

सावधानी बरतें और शांति बनाए रखें

इसके बाद प्रियंका गांधी वाड्रा सामने आई और उन्होंने कहा कि मैं दिल्ली के लोगों से अपील करती हूं कि वे हिंसा न करें, सावधानी बरतें और शांति बनाए रखें. हमने उत्तर प्रदेश में भी अपने कार्यकर्ताओं से कहा है कि वे शांति बनाए रखने में मदद करें.

और पढ़ें:हिंसा करने वालों की गलतफहमी का हल कैसे निकालना है हम जानते हैं, विधानसभा में बोले सीएम योगी

केंद्र और राज्य सरकार हिंसा रोकने में रही असफल

कांग्रेस ने उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हिंसा (Delhi violence )को बुधवार को सुनियोजित षड्यंत्र का नतीजा करार दिया. पार्टी ने इसके लिए केंद्र सरकार को जिम्मेदार ठहराते हुए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के इस्तीफे की मांग की.बुधवार को पार्टी की सर्वोच्च नीति निर्धारण इकाई कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक में दिल्ली के हालात पर विस्तृत चर्चा की गई और एक प्रस्ताव पारित कर केंद्र तथा दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार को हिंसा रोकने और शांति बहाली में विफल बताया गया. बैठक के बाद मीडिया से रूबरू हुईं कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने केंद्र, केंद्रीय गृह मंत्री और दिल्ली सरकार को निशाने पर लिया. उन्होंने दावा किया कि राष्ट्रीय राजधानी में हिंसा एक सोचा-समझा षड्यंत्र है और भाजपा के कई नेताओं के बयान ने डर तथा नफरत का माहौल पैदा किया. सोनिया ने सीडब्ल्यूसी में पारित प्रस्ताव पढ़ा और कहा कि अब सरकार को शांति बहाली तथा पीड़ितों के जख्मों पर मरहम लगाने का काम करना चाहिए.

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

First Published : 26 Feb 2020, 06:59:30 PM