News Nation Logo
शरद पवार के साथ मुलाकात के बाद ममता ने UPA केअस्तित्व पर उठाया सवाल ममता बनर्जी आज शाहरुख़ खान से कर सकती हैं मुलाकात 'सहायक प्रजनन प्रौद्योगिकी (विनियमन) विधेयक, 2020' लोकसभा में पारित राजस्थान में कोरोना ने पकड़ी स्पीड, 17 जिलों में 365 नए मरीज 75 चित्रकार यहां 3 दिन तक महाभारत से जुड़ी पेंटिंग बनाएंगे: हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव (कुरुक्षेत्र) पर देश, विदेश के 3,700 कलाकार यहां आएंगे: मनोहर लाल खट्टर देश को एक मज़बूत वैकल्पिक फोर्स की जरूरत है: ममता बनर्जी मैं महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे और शरद पवार से मुलाक़ात करने के लिए आईं थीं: ममता बनर्जी कोविड के दोनों डोज लगे हैं, तो बिना RT-PCR के महाराष्ट्र में यात्रा करने की अनुमति अक्टूबर 2020 से अक्टूबर 2021 तक 32 जवान शहीद, गृह मंत्रालय ने संसद में दी जानकारी जम्मू-कश्मीर में आतंकी गतिविधियां कम हुईं दिल्ली कैबिनेट का बड़ा फैसला, दिल्ली में पेट्रोल 8 रुपए सस्ता आईआरएस अधिकारी विवेक जौहरी ने CBIC के अध्यक्ष के रूप में कार्यभार संभाला निलंबित 12 विपक्षी सदस्य (राज्यसभा) निलंबन के विरोध में संसद में गांधी प्रतिमा के सामने धरने पर बैठे प्रश्नकाल के दौरान कांग्रेस और द्रमुक सांसदों ने लोकसभा से वाक आउट किया दिसंबर के पहले दिन ही महंगाई की मार, महंगा हो गया कॉमर्श‍ियल LPG सिलेंडर कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन पर आज लोकसभा में होगी चर्चा UPTET पेपर लीक मामले में परीक्षा नियामक प्राधिकारी संजय उपाध्याय गिरफ्तार संसद भवन के कमरा नंबर 59 में लगी आग, बुझाने की कोशिश जारी पुलवामा एनकाउंटर में दो आतंकी ढेर, सर्च ऑपरेशन जारी

पहली बार डीयू में नेत्रहीन शिक्षकों के लिए साउंड सिस्टम वाली वोटिंग मशीन

पहली बार डीयू में नेत्रहीन शिक्षकों के लिए साउंड सिस्टम वाली वोटिंग मशीन

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 23 Nov 2021, 11:10:01 PM
Delhi Univerity

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: दिल्ली विश्वविद्यालय के इतिहास में पहली बार ²ष्टिहीन शिक्षकों के लिए इंडिपेंडेंट एक्ससेबल वोटिंग तकनीक का इस्तेमाल किया जाएगा। दिल्ली विश्वविद्यालय शिक्षक संघ यानी डूटा दिल्ली चुनाव में ²ष्टिहीन शिक्षक इंडिपेंडेंट एक्ससेबल वोटिंग तकनीक का इस्तेमाल करेंगे। गौरतलब है कि दिल्ली विश्वविद्यालय से संबद्ध विभागों व कॉलेजों में 100 से अधिक ²ष्टिहीन शिक्षक हैं। दिल्ली विश्वविद्यालय में शिक्षक संघ के चुनाव 26 नवंबर को होने हैं।

इस तकनीक को लागू करवाने में पिछले दो वर्षों से शिक्षकों के साथ संघर्ष कर रहे अनिरुद्ध कुमार सुधांशु ने बताया कि ये तकनीक काफी सरल है और इसके लिए एक कंप्यूटर में एक एचटीएमएल पेज बनाया गया है जो किसी इंटरनेट कनेक्शन से नहीं जुड़ा होगा। उसमें दो पेज होंगे एक पेज डूटा अध्यक्ष पद के लिए होगा दूसरा डूटा एग्जीक्यूटिव पद के उम्मीदवारों के लिए होगा। साउंड सिस्टम के माध्यम से इन नामों को सुना जा सकेगा। दोनों पेज पर उम्मीदवार के नामों के साथ एक चेक बॉक्स होगा, जिसमें टिक मार्क लगाना होगा और नंबर भरने होंगे। इसके बाद उसका प्रिंट लेकर उसे बैलेट बॉक्स में रखना होगा।

दिल्ली विश्वविद्यालय में ²ष्टिहीन शिक्षकों द्वारा लंबे समय से यह मांग की जा रही थी कि डूटा चुनाव में इंडिपेंडेंट एक्ससेबल वोटिंग तकनीक का इस्तेमाल किया जाए । डूटा चुनाव से पहले चुनाव अधिकारी के साथ हुई मीटिंग में भी इंडिपेंडेंट एक्ससेबल वोटिंग तकनीक व ²ष्टिहीन शिक्षकों के लिए अलग से कमरे में वोटिंग की व्यवस्था कराने के लिए अनुरोध किया गया था। विश्वविद्यालय के सैकड़ों अन्य शिक्षकों ने भी इस मांग को जायज ठहराया था। इसके उपरांत चुनाव अधिकारी प्रोफेसर उज्‍जवल कुमार सिंह ने आश्वासन दिया था कि इस बार के डूटा चुनाव में इस तकनीक का इस्तेमाल किया जायेगा जो पूरी तरह से पारदर्शी होगा।

²ष्टिहीन शिक्षक वर्षो से इस तकनीक की मांग कर रहे थे अब उनकी यह मांग मान ली गई है। वर्ष 2019-2021 के डूटा चुनाव में बहुत से कॉलेजों के ²ष्टिहीन शिक्षकों द्वारा चुनाव का बहिष्कार किया गया था, इस बार इस समस्या का समाधान डूटा व चुनाव अधिकारी द्वारा पहले ही कर लिया गया है।

रामजस कॉलेज के हिंदी विभाग में ²ष्टिहीन शिक्षक डॉ. प्रीतम सिंह शर्मा ने बताया है कि दो वर्ष पूर्व डूटा चुनाव में तीस -पैंतीस शिक्षकों ने चुनाव के दौरान आर्ट्स फैकल्टी बिल्डिंग में वोट डालने से मना कर दिया था और वहीं पर धरने पर बैठ गए थे। डॉ. शर्मा का कहना है कि उनको वोट डालने का अधिकार तो है परंतु उनके वोट की प्राइवेसी नहीं है, इस सिस्टम में पूरी तरह से पारदर्शिता नहीं रहती। इसलिए इंडिपेंडेंट एक्सेसबल वोटिंग तकनीक का इस्तेमाल किया जाए, ताकि हर शिक्षक अपने वोट का प्रयोग कर सकें। उस समय सभी ²ष्टिहीन शिक्षकों ने चुनाव अधिकारी से इस संदर्भ में बात की और ²ष्टिहीन शिक्षकों को आश्वासन दिया था कि अगली बार यानी 2021-2023 के चुनाव में इस समस्या का समाधान कर लिया जाएगा।

दिल्ली टीचर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. हंसराज सुमन ने बताया है कि इस बार डूटा चुनाव से पूर्व डॉ. एन सचिन, संभावना संस्था से जुड़े शिक्षकों ने डूटा एग्जीक्यूटिव में फैसला लेकर इस कमी को दूर कर लिया। वोट डालने संबंधी इस तकनीक का कैसे प्रयोग हो, इसके लिए तकनीक प्रयोग कार्यशाला रखी गई। इस कार्यशाला में विभिन्न विभागों व कॉलेजों के लगभग पचास से अधिक शिक्षकों ने भाग लिया।

कार्यशाला में भाग लिए ²ष्टिहीन शिक्षकों में खुशी का माहौल देखा गया। ²ष्टिहीन शिक्षकों ने चुनाव अधिकारी प्रोफेसर उज्‍जवल कुमार सिंह व डूटा अध्यक्ष डॉ. राजीव रे को धन्यवाद दिया। इस तकनीक के बारे में बात करते हुए विकलांग शिक्षकों के संगठन संभावना के अध्यक्ष व डीयू में राजनीति विज्ञान के प्रोफेसर डॉ निखिल जैन ने बताया कि हम इस तकनीक के आ जाने से दूसरों पर निर्भर नहीं रहेंगे और हम अपने मनपसंद उम्मीदवार का चयन कर सकेंगे।

मोतीलाल नेहरू कॉलेज में एडहॉक शिक्षक डॉ मोहंती ने बताया कि डूटा चुनाव में वोट डालने के लिए हमें अपने किसी साथी पर निर्भर रहना पड़ता था। वोटिंग के समय कोई व्यक्ति मिल गया, हमने किसको वोट किया है ,उसने हमारे अनुसार वोट किया है या नहीं, शंका रहती थी। अब हमें सुनकर पता चल सकेगा कि हमने किसको वोट डाला है, अब हमें पता है कि हमारी वोट की प्राइवेसी सुरक्षित है।

भारतीय ²ष्टिहीन क्रिकेट टीम का हिस्सा और कप्तान रहे डॉ प्रताप सिंह बिष्ट ने बताया कि ये तकनीक भारत सरकार और चुनाव आयोग के दिशा निर्देश के अनुकूल है और हम सब इसका स्वागत करते हैं और समर्थन करते हैं। बता दें कि इस बार डूटा चुनाव में अध्यक्ष पद के चार उम्मीदवार हैं डॉ ए. के. भागी ( दयालसिंह कॉलेज ) डॉ. आभा देव हबीब ( मिरांडाहाउस ) डॉ प्रेमचंद ( आत्माराम सनातन धर्म कॉलेज ) और डॉ शबाना आजमी ( जाकिर हुसैन दिल्ली कॉलेज )।

वहीं डूटा एग्जीक्यूटिव में 22 उम्मीदवार हैं। वोटिंग के दौरान इन इन शिक्षकों को अध्यक्ष पद के उम्मीदवारों के लिए चेक बॉक्स में टिक करना होगा जबकि डूटा एग्जीक्यूटिव के उम्मीदवारों के लिए चेक बॉक्स में नंबर भरने होंगे। इस तकनीक में सबसे अधिक योगदान नेशनल ब्लाइंड एसोसिएशन और तमाम शिक्षकों का रहा है। इस तकनीक को लागू करवाने के लिए ²ष्टिहीन शिक्षकों ने डूटा अध्यक्ष का आभार व्यक्त किया। वहीं डॉ राजिब रे ने इसे एक ऐतिहासिक फैसला बताया और कहा कि ये एक लंबी मांग थी, शिक्षकों की जिसे हमने पूरा करने का प्रयास किया है। यह हमारा पहला प्रयास है इसमें हमें कितनी कामयाबी मिलेगी यह तो चुनाव के बाद ही पता चल पाएगा। साथ ही सुधार की कितनी आवश्यकता है, साथ ही इसे ओर कैसे बेहतर बना सकते हैं।

डॉ. सुमन ने बताया है कि उन्होंने कई ²ष्टिहीन शिक्षकों से इस तकनीक के विषय में बात की ,उन्होंने बताया है कि वे इंडिपेंडेंट एक्सेसबल वोटिंग तकनीक से बहुत खुश हैं क्योंकि इससे वोटर व वोटिंग सिस्टम की पूरी पारदर्शिता बनी रहेगी। उनकी मांग माने जाने पर 26 नवम्बर को वे इस प्रक्रिया के माध्यम से अपने वोट का प्रयोग करेंगे।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 23 Nov 2021, 11:10:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो