News Nation Logo

प्रयागराज में बनेगा सांस्कृतिक वन

प्रयागराज में बनेगा सांस्कृतिक वन

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 16 Jul 2021, 07:05:01 PM
Delhi to

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

प्रयागराज (उत्तर प्रदेश): संगम में एक पवित्र डुबकी, गंगा, यमुना और पौराणिक सरस्वती का संगम, अब उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में भक्तों को नदियों के किनारे पौराणिक पेड़ों को देखने की अनुमति देगा।

संगम (चटनाग) के झूंसी किनारे सदाफलदेव आश्रम में राज्य में अपनी तरह का पहला सांस्कृतिक वन बनाया जाएगा।

चटनाग में इस जंगल को विकसित करने के लिए तीन संस्थानों से बातचीत चल रही है।

इस पहल का उद्देश्य वन अनुसंधान केंद्र फॉर इको रिहैबिलिटेशन, प्रयागराज के प्रयासों से पारिस्थितिकी तंत्र को बहाल करना है, जिसमें वनों की देखभाल और पौधों की देखभाल आम आदमी की धार्मिक मान्यताओं के साथ-साथ होगी।

पहला सांस्कृतिक वन सदाफलदेव आश्रम के परिसर में दो हेक्टेयर भूमि पर विकसित किया जाएगा।

इस क्षेत्र में धार्मिक ग्रंथों में वर्णित वृक्षों के 100 से अधिक पौधे लगाए जाएंगे। इन पेड़ों को सावधानी से अलग किया जाएगा, क्योंकि ये किसी न किसी तरह से सनातन धर्म के मुख्य देवताओं से संबंधित हैं।

एफआरसीईआर के वरिष्ठ वैज्ञानिक कुमुद दुबे ने कहा, अशोक, कदम, बरगद, पीपल सहित 100 से अधिक पेड़ हैं, जिनका पौराणिक महत्व है। ये पेड़ किसी न किसी युग में किसी देवता से संबंधित हैं और लोगों को पता होना चाहिए और इन पेड़ों को पहचानिए जिनके लिए यह प्रयास किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि सांस्कृतिक वन में लगाए जाने वाले प्रत्येक पेड़ के पौधे पर लगे बोर्ड पर पेड़ों के धार्मिक और पारंपरिक महत्व का उल्लेख किया जाएगा।

दुबे ने कहा, विचार जंगल के भीतर कई वटिका रखने का है, प्रत्येक का नाम संप्रदाय या देवता के नाम पर रखा गया है जो संप्रदाय शंकर वाटिका, बुद्ध वाटिका, जैन वाटिका आदि का अनुसरण करता है। इनमें से प्रत्येक वाटिका का होगा संबंधित देवता से संबंधित पेड़ होंगे।

एफआरसीईआर ने शहर के चंद्रशेखर आजाद पार्क में कई पौधे लगाने की भी योजना बनाई है। केंद्र द्वारा पार्क में औषधीय गुणों वाले पौधों के पौधे लगाए जाएंगे।

दुबे ने कहा, एक सप्ताह के भीतर 100 से अधिक पौधे लगाए जाएंगे और इससे लोगों को विभिन्न बीमारियों से राहत मिलेगी।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से जुड़े संगठन गंगा समग्र के वॉलेंटियर्स पहले से ही गंगा नदी के पांच किलोमीटर के दायरे में वन भूमि विकसित कर रहे हैं।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 16 Jul 2021, 07:05:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.