logo-image
लोकसभा चुनाव

गृह मंत्रालय की शिकायत पर दिल्ली पुलिस का एक्शन, HM अमित शाह के फर्जी वीडियो से जुड़ा है मामला

गृह मंत्री अमित शाह के एक फर्जी वीडियो के संबंध में शिकायत मिलने के बाद दिल्ली पुलिस ने एफआईआर दर्ज की है. इस वीडियो एडिट करने के बाद सोशल मीडिया के विभिन्न प्लेटफॉर्म पर शेयर किया जा रहा था.

Updated on: 29 Apr 2024, 07:42 AM

highlights

  • गृह मंत्री शाह के फेक वीडियो पर पुलिस का एक्शन
  • दिल्ली पुलिस ने दर्ज की एफआईआर
  • बीजेपी और गृह मंत्रालय की शिकार के बाद हुई कार्रवाई

नई दिल्ली:

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के वीडियो के साथ छेड़छाड़ करने के मामले में दिल्ली पुलिस ने एफआईआर दर्ज की है. ये वीडियो तेलंगाना की एक रैली का बताकर  सोशल मीडिया में शेयर किया जा रहा था. इस एडिटेड वीडियो को लेकर दिल्ली पुलिस में दो शिकायतें दर्ज कराई गई थीं. इनमें से एक शिकायक गृह मंत्रालय की ओर से तो दूसरी बीजेपी की ओर से कराई गई थी. शिकायत के बाद दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल साइबर विंग आईएफएसओ यूनिट ने प्राथमिकी दर्ज कर ली है.

ये भी पढ़ें: PM मोदी की रैलियों से लेकर CM केजरीवाल की याचिका पर SC में सुनवाई तक, इन खबरों पर रहेगी दिनभर नजर

क्या है पूरा मामला

इस फर्जी वीडियो में गृह मंत्री को एससी, एसटी और ओबीसी के लिए आरक्षण पर टिप्पणी करते हुए सुना जा सकता है. इस वीडियो को लेकर बीजेपी ने देशभर में एफआईआर दर्ज कराने के फैसला लिया है. दिल्ली पुलिस से जुड़े सूत्र के मुताबिक, पुलिस को गृह मंत्री के एडिटेड वीडियो के संबंध में दो शिकायत मिली थी. एक शिकायत बीजेपी और दूसरी गृह मंत्रालय की ओर से कराई गई थी. इसके बाद दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल साइबर विंग की आईएफएसओ इकाई ने इस मामले में  एफआईआर दर्ज कर ली. इस संबंध में दिल्ली पुलिस ने भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 153, 153ए, 465, 469, 171जी और सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) अधिनियम की धारा 66सी के तहत मामला दर्ज कर लिया है और जांच शुरू कर दी गई है.

ये भी पढ़ें: Aaj Ka Rashifal: शिव जी इन राशियों पर बरसाएंगे अपनी कृपा, करियर में मिलेगी तरक्की

वीडियो के साथ की गई छेड़छाड़

एफआईआर के मुताबिक, गृह मंत्रालय ने अपनी शिकायत में कहा कि यह पाया गया है कि कुछ छेड़छाड़ किए गए वीडियो फेसबुक और ट्विटर पर प्रसारित किए जा रहे हैं. एफआईआर में कहा गया है, ऐसा लगता है कि वीडियो के साथ छेड़छाड़ की गई है. इसके जरिए समुदायों के बीच वैमनस्य पैदा करने के इरादे से भ्रामक जानकारी फैलाई जा रही है. ऐसा करने से सार्वजनिक शांति और सार्वजनिक व्यवस्था के मुद्दों पर असर पड़ सकता है.

गृह मंत्रालय ने अनुरोध किया है कि कृपया कानून के प्रावधानों के अनुसार आवश्यक कानूनी कार्रवाई करें. एफआईआर में कहा गया है कि शिकायत के साथ एक रिपोर्ट भी संलग्न की गई थी, जिसमें उन लिंक और हैंडल का विवरण था, जिनसे गृह मंत्री के एडिटेड किए गए वीडियो को शेयर किया जा रहा था.

ये भी पढ़ें: CSK vs SRH : तुषार देशपांडे की शानदार गेंदबाजी, चेन्नई ने हैदराबाद को 78 रनों से दी करारी शिकस्त