News Nation Logo
Banner

चार बच्चों की मां से सिरफिरा आशिक करना चाहता था शादी, महिला ने इंकार किया तो...

दिल्ली के विजय विहार इलाके से बेहद चौंकाने वाला केस आया है. एक युवक चार बच्चों की मां से आशिकी के चक्कर में संगीन गुनाह कर बैठा.

अवनीश चौधरी | Edited By : Nitu Pandey | Updated on: 05 Jun 2019, 06:42:07 AM
दिल्ली पुलिस

highlights

  • सिरफिरा आशिक चार बच्चों की मां से करना चाहता था शादी
  • महिला के मना करने पर बच्ची को किया किडनैप
  • दिल्ली पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए 12 घंटे में बच्ची के साथ आरोपी को पकड़ा

नई दिल्ली:  

दिल्ली के विजय विहार इलाके से बेहद चौंकाने वाला केस आया है. एक युवक चार बच्चों की मां से आशिकी के चक्कर में संगीन गुनाह कर बैठा. वह महिला से शादी करने के लिए उतावला था, लेकिन जब महिला ने शादी से साफ इंकार कर दिया तो उसने उस महिला की 9 साल की बच्ची को किडनैप कर लिया.  जिसके बाद महिला ने पुलिस को सूचना दी. पुलिस की 12 टीमों ने 24 घंटे के भीतर बच्ची को सही-सलामत रिकवर करके आरोपी को गिरफ्तार कर लिया.

50 से ज्यादा सीसीटीवी फुटेज खंगालने पर मिला सुराग

पुलिस ने बच्ची की बरामदगी के लिए घर के आसपास लगे कैमरों के अलावा सभी रेलवे स्टेशन, बस अड्डे, होटल्स आदि पर 50 से ज्यादा सीसीटीवी फुटेज खंगाली, तब जाकर निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन से अहम सुराग मिला. जहां आरोपी बच्ची के साथ नजर आ गया. वह रात में बच्ची के साथ ट्रेन में सवार हो गया था. इससे पहले कि अपने ठिकाने तक पहुंचता, पुलिस ने उसे यूपी के महोबा स्टेशन पर गिरफ्तार कर लिया. उसके पास से बच्ची भी मिल गई.

इसे भी पढ़ें:राजस्थान के झालावाड़ में पिता ने कुल्हाड़ी से हमला कर ली अपने ही बेटे की जान

डर था कि आरोपी बच्ची को नुकसान पहुंचा सकता है, इसलिए पुलिस ने पूरी ताकत झोंक दी थी. पुलिस की 12 टीमों में करीब 75 कर्मी शामिल थे, जिन्हें चार पुलिस स्टेशन से लिया गया था. वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों का कहना है कि सिरफिरा आरोपी बच्ची को नुकसान भी पहुंचा सकता था, इसलिए तत्परता से कार्रवाई की गई.

2 जून की शाम से लापता थी बच्ची

बच्ची 2 जून की शाम सवा 4 बजे लापता हुई थी. उसकी मां की शिकायत पर विजय विहार थाने में किडनैपिंग का केस दर्ज करके फौरन कई टीम गठित की गईं. बच्ची की मां रोहिणी में घरों में घरेलू सहायिका के तौर पर काम करती है. उनकी आर्थिक स्थिति को देखते हुए फिरौती के लिए अपहरण की आशंका नहीं थी. इसके बाद पुलिस ने आसपास के सीसीटीवी फुटेज खंगालने शुरू किए. घर के पास एक फुटेज में लड़की एक शॉप पर जाती नजर आई. उसी दौरान एक बाइक सवार उसे पीछे बैठाकर ले गया. पुलिस ने बाइक का रजिस्ट्रेशन नंबर निकलवाया. उसकी जांच की तो वह कई बार बिकी हुई मिली. किसी रजिस्टर्ड ऑनर के पास बाइक नहीं मिली. आखिरकार पुलिस टीमों ने आरोपी का चेहरे वाली फुटेज डिवलेप करवाई. उसे बच्ची की मां ने कमलेश के तौर पर पहचान लिया.

छत बनाने के दौरान महिला से हुई थी आरोपी की पहचान

बच्ची की मां (शिकायतकर्ता) ने बताया कि वह किराए के कमरे पर रहती थी. कमरे की छत लीक होती थी, जिसकी रिपेयर के लिए कमलेश घर आया था. उससे जान-पहचान हो गई तो वह अक्सर मिलने लगा. वह उससे शादी करने चाहता था, लेकिन वह इंकार करती थी. हो सकता है कि उसी जिद में या बदला लेने के लिए बच्ची का किडनैप किया हो. यह जानकारी मिलते ही पुलिस कमलेश की तलाश में लग गई. कमलेश बुद्ध विहार में रहता था, जहां पता चला कि वह घर खाली करके चला गया है. पुलिस की तत्परता की वजह से एक मासूम की जिंदगी बरबाद होने से बच गई.

First Published : 05 Jun 2019, 06:42:07 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.