News Nation Logo

पीएम मोदी और सिंधिया के बीच हुई बड़ी डील, जानें ज्योतिरादित्य को क्या मिलेगा

सूत्रों के मानें तो बीजेपी सिंधिया को राज्यसभा में भेज उनके समर्थक विधायकों को मध्य प्रदेश में बनने वाली बीजेपी की सरकार में मंत्रिपदों से नवाज सकती है.

News State | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 10 Mar 2020, 01:39:22 PM
Jyotiraditya Scindia PM Modi Amit Shah

पीएम मोदी, अमित शाह से सिंधिया की बैठक में हुई डील. (Photo Credit: न्यूज स्टेट)

highlights

  • मध्य प्रदेश बीजेपी विधायक दल की बैठक में सिंधिया की राज्यसभा सदस्यता का ऐलान.
  • कमलनाथ सरकार से इस्तीफा देने वाले सिंधिया समर्थक विधायकों को नई सरकार में मंत्री पद.
  • बाद में सिंधिया को केंद्रीय मंत्रिपरिषद में स्थान देने का हुआ पक्का वादा.

नई दिल्ली:

सोमवार और मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) और गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) से दो-दो बार मुलाकात कर कांग्रेस के महासचिव और मध्य प्रदेश कांग्रेस (Congress) के बड़े नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) ने इस्तीफा दे दिया. कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) को पत्र लिख सिंधिया ने साल भर से परेशानी का जिक्र कर इस्तीफा देने का निर्णय सुनाया. सूत्रों की मानें तो इससे पहले पीएम मोदी और अमित शाह संग बैठक में ही बीजेपी में ज्योतिरादित्य और उनके समर्थक विधायकों की भूमिका पर गहन मंथन हुआ. सूत्रों के मानें तो बीजेपी सिंधिया को राज्यसभा में भेज उनके समर्थक विधायकों को मध्य प्रदेश में बनने वाली बीजेपी की सरकार में मंत्रिपदों से नवाज सकती है.

यह भी पढ़ेंः ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पीएम मोदी से मुलाकात के बाद सोनिया गांधी को इस्तीफा दे कांग्रेस छोड़ी

एक घंटे बात हुई मोदी-शाह और सिंधिया में
गौरतलब है कि सोमवार से मध्य प्रदेश में चल रहे सियासी नाटक के बीच कांग्रेस के बागी नेता ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया ने आखिरकार मंगलवार को होली के दिन कांग्रेस को अलविदा कह दिया. इस्तीफे से पहले सिंधिया सोमवार को पीएम मोदी और गृह मंत्री अमित शाह से एक बार मुलाकात कर चुके थे. ऐसे में सिंधिया मंगलवार सुबह एक बार फिर शाह और फिर उनके साथ पीएम मोदी से उनके घर जाकर मिले. तीनों नेताओं के बीच करीब एक घंटे तक बातचीत हुई. माना जा रहा है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया को राज्यसभा भेजे जाने के साथ ही उनके कुछ समर्थक विधायकों को मंत्री पद भी दिया जा सकता है.

यह भी पढ़ेंः कांग्रेस ने झेंपते हुए कहा- पार्टी विरोधी कामों को देख सिंधिया को निकाला

बीजेपी में सिंधिया की भूमिका तय
सूत्रों के मुताबिक मोदी-शाह और सिंधिया की बैठक में मध्‍य प्रदेश सरकार और बीजेपी में ज्योतिरादित्य की और उनके समर्थक विधायकों की भूमिका तय कर ली गई है. सूत्रों के मुताबिक ज्योतिरादित्य सिंधिया को पार्टी में शामिल भी किया जा सकता है. बीजेपी इस बात को लेकर आश्वस्त है कि अगले दो-तीन दोनों में कमलनाथ सरकार अल्पमत में आ जाएगी. माना जा रहा है कि कांग्रेस के बागी विधायक विधानसभा अध्यक्ष को अपने इस्तीफे भेज सकते हैं. ऐसे विधायकों की संख्या 20 हो सकती है. यानी अगर ऐसा होता है तो कमलनाथ सरकार अल्पमत में आ जाएगी और इसके बाद शिवराज सिंह चौहान सरकार बनाने का दावा पेश कर सकते हैं.

यह भी पढ़ेंः ज्योतिरादित्य सिंधिया का पार्टी से इस्तीफा देना कांग्रेस के लिए बड़ा नुकसान: अधीर रंजन चौधरी

ज्‍योतिरादित्‍य को मिलेगा मंत्री पद, राज्‍यसभा सदस्‍यता!
सूत्रों के मुताबिक विधायक दल की बैठक में ही ज्‍योतिरादित्‍य की राज्‍यसभा की उम्‍मीदवारी का ऐलान हो सकता है. ज्‍योतिरादित्‍य बुधवार को बीजेपी के टिकट पर राज्‍यसभा सीट के लिए पर्चा दाखिल कर सकते हैं. इस बीच ज्योतिरादित्य सिंधिया एक बार फिर पीएम मोदी से मिलने पहुंचे हैं. बैठक में अमित शाह भी मौजूद हैं. जानकारी के मुताबिक सिंधिया होटल से सिंधिया शाह के घर पहुंचे. इसके बाद दोनों पीएम मोदी से मिलने के लिए पहुंच गए. अटकलें यह भी लगाई जाने लगीं हैं कि सिंधिया बीजेपी में शामिल होकर केंद्रीय मंत्रिपरिषद में जगह हासिल कर सकते हैं.

First Published : 10 Mar 2020, 01:39:22 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.