News Nation Logo

Yaas Cyclone Updates : झारखंड हाई अलर्ट पर, आज रात राज्य में पहुंच सकता है चक्रवात यास

Yaas Cyclone ( यास चक्रवात ) : बंगाल की खाड़ी से उठा भीषण चक्रवात 'यास' कुछ ही क्षणों में पश्चिम बंगाल और उत्तरी ओडिशा के समुद्र तटीय इलाकों में टकराने वाला है.

News Nation Bureau | Edited By : Dalchand Kumar | Updated on: 27 May 2021, 12:13:37 AM
cyclone Yaas

Live : यास चक्रवात से तबाही का मंजर, कहीं डूबे घर तो उड़ी छतें (Photo Credit: News Nation)

नई दिल्ली:

चक्रवात यास ( Cyclone Yaas ) : बंगाल की खाड़ी से उठा भीषण चक्रवात 'यास' कुछ ही घंटों में पश्चिम बंगाल और उत्तरी ओडिशा के समुद्र तटीय इलाकों में टकराने वाला है. अगले कुछ घंटों में तूफान यास के तीव्र चक्रवाती तूफान में बदलने की संभावना है, जिसके बाद वह बंगाल और ओडिशा में पहुंचा. जिसका असर भी बहुत ज्यादा देखने को मिल रहा है. पश्चिम बंगाल में जैसे ही चक्रवात यास लैंडफॉल के करीब पहुंचा है, पूर्व मेदिनीपुर जिले के दीघा में समुद्र में हलचल बहुत तेज हो गई है. चक्रवात यास के लैंडफॉल से पहले ओडिशाल के भद्रक जिले में भारी बारिश के साथ तेज हवाएं चल रही हैं. कुछ ही समय में यास चक्रवात बालासोर-धामरा के पास पहुंचेगा, जिसकी रफ्तात 155-165 किलोमीटर प्रतिघंटा हो सकती है. 

देखें : न्यूज नेशन LIVE TV

Cyclone Yaas  Live Updates:-

ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने 'यास' के गुजरने के बाद हालातों की समीक्षा की. मुख्यमंत्री ने चक्रवात प्रभावित जिलों के 128 बाढ़ प्रभावित गांवों के सभी परिवारों के लिए 7 दिन की राहत की घोषणा की. सभी प्रमुख सड़कों को अगले 24 घंटे में दुरुस्त कर लिया जाएगा. 
झारखंड हाई अलर्ट पर, आज रात राज्य में पहुंच सकता है चक्रवात यास

अधिकारियों ने कहा कि झारखंड के जिस जिले को हाई अलर्ट पर रखा गया था वहां से आज भी निचले इलाकों को खाली करना जारी रखा है, इस पूर्वानुमान के बीच कि चक्रवात यास आधी रात तक पड़ोसी राज्य ओडिशा और पश्चिम बंगाल में दस्तक देगा.

तूफान से ओडिशा के चांदीपुर और अब्दुल कलाम आइलैंड पर DRDO की मिसाइल लॉन्चिंग साइट को नुकसान पहुंचने की आशंका है. लंबी दूरी की मिसाइल्स को यहीं से लॉन्च किया जाता है.

सुबह 9 बजे शुरू होकर दोपहर 1 बजे तक Cyclone Yaas की लैंडफॉल प्रक्रिया हो गयी. कलेक्टर बालासोर और भद्रक से सूचना मिली कि सभी तटीय क्षेत्रों में हवा थम गई है: प्रदीप के जेना, ओडिशा विशेष राहत आयुक्त

बिहार की उप मुख्यमंत्री और आपदा प्रबंधन मंत्री रेणु देवी ने बताया कि यास तूफान को लेकर सरकार ने अपनी ओर से तैयारियां कर रखी है. हर स्तर पर तैयारी हुई है. मुख्यमंत्री के स्तर पर तैयारियों की समीक्षा की गई है.

बिहार के कई जिलों में यास का असर दिखने लगा है. बारिश शुरू हो गयी है. वैशाली जिला के तमाम थाना के थानाध्यक्ष अपने -अपने क्षेत्र में जनता को जागरूक करने के लिये जगरूकता अभियान चला रहे हैं. चौक-चौराहे पर लोगों को माइकिंग के जरिये सावधान किया जा रहा है.

ममता बनर्जी ने चक्रवात से प्रभावित लोगों को भेजी एक करोड़ रुपये की राहत, कल करेंगी दौरा

भारी बारिश के चलते भद्रक जिले के जमुझाड़ी रोड क्षतिग्रस्त हो गया है. सड़क मरम्मत का काम चल रहा है.

ओडिशा में लैंडफॉल के बाद नावों और दुकानों को भारी नुकसान पहुंचा. पश्चिम बंगाल-ओडिशा सीमा के पास उदयपुर में हवा ने कई चेक पोस्ट बैरिकेड्स उड़ा दिए.

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि चक्रवात ''यास'' के कारण मौसम के खराब हालात के चलते बंगाल में तीन लाख मकानों को क्षति पहुंची है. ‘‘यास’’ के कारण 15 लाख से अधिक लोगों को निकालकर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है. 

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी चक्रवात यास के मद्देनजर जिलाधिकारियों, आपदा प्रबंधन समिति और अन्य अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी 28 मई को पूर्वी मिदनापुर का दौरा करेंगी 

चक्रवात 'यास' की वजह से नावों को नुकसान

1.50PM: ओडिशा के पारादीप में चक्रवात 'यास' की वजह से मछली पकड़ने वाली नावों को नुकसान पहुंचा है.

ओडिशा तट को पार कर रहा यास चक्रवात, 140 की गति से चल रहीं हवाएं

12.30PM भारतीय मौसम विभाग के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र ने बताया कि तूफान बालेश्वर के दक्षिण में ओडिशा तट को पार कर रहा है. अभी इसके हवा की गति 130-140 किलोमीटर प्रति घंटे है. लैंडफॉल प्रक्रिया अभी चल रही है जो 3 घंटे में पूरी होगी. इसके बाद ये कमजोर होकर उत्तर पश्चिम दिशा में गति करेगा. कल सुबह ये झारखंड पहुंचेगा तब इसके हवा की गति 60-70 किलोमीटर प्रति घंटे होगी. इसकी सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचाने वाली हवा बालेश्वर, भद्रक और पश्चिम बंगाल के मिदिनीपुर में चल रही है. ओडिशा के अंदर के ज़िलों में भी हवा की गति 60-70 किलोमीटर प्रति घंटे रहेगी.

दक्षिण 24 परगना में पानी घुसने के बाद 500 से ज्यादा मकान जलमग्न

11.42AM: पश्चिम बंगाल के दक्षिण 24 परगना जिले के दीघा में यास तूफान के टकराने के बाद दक्षिण 24 परगना जिले में इसकी तबाही देखी जा रही है. जिले के गंगासागर स्थित कपिलमुनि मंदिर तक पहुंच गया है. जिसके बाद कपिलमुनि मंदिर पानी से भर गया है. यही नहीं, इलाके में पानी घुसने के बाद 500 से ज्यादा मकान जलमग्न हो गए हैं.

मुंबई से भुवनेश्वर और कोलकाता के बीच उड़ानें रद्द

11.35AM: मुंबई से भुवनेश्वर और कोलकाता के बीच उड़ानें रद्द कर दी हैं. अब तक करीब 6 उड़ानें रद्द की जा चुकी हैं. अन्य क्षेत्रों के लिए उड़ानें निर्धारित समय पर चलती रहेंगी.

लैंडफॉल की प्रक्रिया जारी

11.14AM: मौसम विभाग के अनुसार, लैंडफॉल की प्रक्रिया जारी है. इसे पूरा होने में करीब 3 घंटे का समय लगेगा. 09.30 बजे तक चक्रवाती तूफान बालासोर से 30 किमी दक्षिण-दक्षिण पूर्व में स्थित था.

यास चक्रवात से बंगाल में तबाही, नदी का बांध टूटा, उतारी गई सेना

11.03AM: यास चक्रवात के चलते पश्चिम बंगाल में तबाही मचने लगी है. दक्षिण 24 परगना जिले के संदेशखाली इलाके में तेज बारिश के कारण नदी का बांध टूट गया है. बसिरहाट में लगातार बारिश के बाद पानी गांवों में पहुंच गया है. जिसके बाद बसिरहाट में सेना को उतारा गया है. लगातार बारिश और तेज हवाओं की वजह से कोलकाता के साल्टलेक इलाके में भी कई जगह पेड़ उखड़ गए हैं. प्रशासन की ओर से पेड़ों को हटाने का काम किया जा रहा है.

रिहायशी इलाकों में घुसने लगा समुद्र का पानी

9.45AM: पश्चिम बंगाल के पूर्वी मिदनापुर में न्यू दीघा बीच इलाके में समुद्र का पानी रिहायशी इलाकों में घुसने लगा है. मौसम विभाग का कहना है कि अति भीषण चक्रवाती तूफान यास बालासोर (ओडिशा) से लगभग 50 किमी दक्षिण-दक्षिण पूर्व में केंद्रित था. लैंडफॉल प्रक्रिया सुबह 9 बजे के आसपास शुरू हो गई है.

लैंडफॉल की प्रक्रिया शुरू

9.32AM: भारत मौसम विज्ञान विभाग ने बताया कि भीषण चक्रवाती तूफान यास बालासोर (ओडिशा) से लगभग 50 किमी दक्षिण-दक्षिण पूर्व में केंद्रित है. लैंडफॉल की प्रक्रिया सुबह लगभग 9 बजे शुरू हो गई है.

ओडिशा के क्योंझर में एक व्यक्ति की मौत

9.18AM: ओडिशा के क्योंझर जिले के आनंदपुर में एक व्यक्ति की मौत की जानकारी मिल रही है. बताया जा रहा है कि आज तड़के पेड़ गिरने से एक व्यक्ति की मृत्यु हो गई. यह व्यक्ति अपने गोशाला में जाकर गायों को देख कर रहा था. पेड़ के गिरने की वजह से उसकी मृत्यु हो गई. 

ओडिशा के पारादीप में सड़कों पर गिरे पेड़

9.01AM: ओडिशा के पारादीप में तेज हवाएं और बारिश की वजह से सड़कों पर पेड़ गिरे हुए दिखे.

हल्दिया में तेज हवाओं के साथ समुद्र में लहरें उठीं

8.52AM : पश्चिम बंगाल के पूर्वी मिदनापुर के हल्दिया में तेज हवाओं के साथ समुद्र में लहरें ऊपर उठती हुई दिखीं.

धामरा में तेज हवाओं के साथ भारी बारिश

7.37AM: ओडिशा के भद्रक ज़िले के धामरा में तेज हवाओं के साथ भारी बारिश हो रही है. भीषण चक्रवाती तूफान आज दोपहर तक 130-140 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाओं के साथ लैंडफॉल होने की उम्मीद है.

चक्रवात यास से ओडिशा में तबाही शुरू

7.34AM: चक्रवात यास का कहर शुरू हो गया है. ओडिशा में समुद्र तट से लगा हुआ सबसे नजदीकी गांव चूड़ामणि हैं, जहां 57 घरों वाला ये गांव पूरी तरह पानी में डूब चुका है. जल स्तर बढ़ता देख लोगों ने स्वयं ही सरकार द्वारा निश्चित आश्रय स्थल में शरण ले ली है. अभी तक किसी भी जनहानि की सूचना प्राप्त नहीं है.

तूफान के आज दोपहर तक लैंडफॉल बनाने की संभावना

7.21AM: मौसम विभाग का कहना है कि बहुत भीषण चक्रवाती तूफान के आज दोपहर तक 130-140 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाली हवा तेज होकर 155 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से लैंडफॉल बनाने की उम्मीद है. मौसम विभाग के अनुसार, बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान 'यास' धामरा के पूर्व में 40 किमी और बालासोर के 90 किमी दक्षिण-दक्षिण पूर्व में केंद्रित है, जो उत्तर ओडिशा-पश्चिम बंगाल तटों को धामरा के उत्तर में और बालासोर के दक्षिण में दोपहर के आसपास 130-140 किमी प्रति घंटे ओडिशा तट को पार करेगा.

बैकग्राउंड


भीषण चक्रवात 'यास' से तबाही कम हो, इसके लिए पश्चिम बंगाल सरकार ने तटीय इलाकों से 9 लाख से अधिक लोगों को निकालकर उन्हें विभिन्न चक्रवात शिविरों, खाली पड़े स्कूलों, कॉलेजों और अन्य सरकारी स्थानों पर भेजा है. एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, बिजली और दूरसंचार कर्मचारियों की टीमों को किसी भी तरह की आपातस्थिति के लिए तैयार रखा गया है. सेना को भी आपात उपयोग के लिए तैयार रखा गया है. ओडिशा में भी तटीय इलाकों को खाली करा दिया गया है. 

चक्रवात यास का असर 8 राज्यों में पड़ेगा, जिसमें से उत्तर तटीय आंध्र प्रदेश में भारी बारिश होने की संभावना है. ओडिशा के कुछ स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा, जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा, जाजपुर, भद्रक, बालासोर, मयूरभंज, कटक, ढेनकनाल, क्योंझर में कुछ स्थानों पर भारी से अत्यधिक भारी वर्षा, पुरी, खुर्दा, अंगुल, देवगढ़, सुंदरगढ़ के कुछ स्थानों पर भारी वर्षा हो सकती है. पश्चिम बंगाल में मेदिनीपुर के कुछ स्थानों पर अत्यधिक भारी वर्षा, झारग्राम, बांकुरा, दक्षिण 24 परगना के कुछ स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा तथा पुरुलिया, नादिया, मुर्शिदाबाद, पूर्व वर्धमान, हावड़ा, हुगली, कोलकाता, उत्तर 24 परगना, हल्दिया दार्जिलिंग, कलिम्पोंग जिलों में कुछ स्थानों पर भारी वर्षा की उम्मीद है.

झारखंड में कुछ स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा और अत्यधिक भारी वर्षा की चेतावनी जारी की गई है. बिहार में 27 मई को अनेक स्थानों पर हल्की से सामान्य वर्षा और कुछ स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा के अलावा 28 मई को कुछ स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा की उम्मीद है. इसके अलावा असम और मेघालय में अनेक स्थानों पर हल्की से सामान्य वर्षा तथा कुछ स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा हो सकती है.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 26 May 2021, 07:25:18 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.