News Nation Logo

सैकड़ों एचडीएफसी बैंक खाताधारकों को निशाना बनाने वाले साइबर अपराधी गिरफ्तार

सैकड़ों एचडीएफसी बैंक खाताधारकों को निशाना बनाने वाले साइबर अपराधी गिरफ्तार

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 22 Jun 2022, 10:35:02 PM
Cyber criminal

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली:   दिल्ली के साइबर अपराधियों के एक गिरोह को सैकड़ों लोगों के एचडीएफसी बैंक खातों से गुपचुप तरीके से पैसे निकालने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। एक अधिकारी ने बुधवार को यह जानकारी दी।

आरोपियों की पहचान सनी कुमार सिंह, कपिल और पवन रमेश के रूप में हुई है। हालांकि, एक अन्य आरोपी की पहचान राकेश के रूप में हुई है, जो अभी भी फरार है।

पुलिस उपायुक्त (उत्तर) सागर सिंह कलसी ने कहा कि साइबर नॉर्थ में राष्ट्रीय साइबर अपराध रिपोर्टिग पोर्टल (एनसीआरपी) के माध्यम से एक शिकायत प्राप्त हुई थी, जिसमें शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया था कि उसे बिना उसकी जानकारी के अपने सिम कार्ड को फिर से जारी करने के बारे में एक संदेश प्राप्त हुआ, जिसके बाद उसे एक प्राप्त हुआ उसकी जीमेल आईडी के पासवर्ड बदलने के संबंध में संदेश।

डीसीपी ने कहा, कुछ संदिग्ध लगने पर शिकायतकर्ता ने अपने सिम कार्ड की जांच की और उसे निष्क्रिय पाया। इसके बाद शिकायतकर्ता वोडाफोन स्टोर पर गया और पाया कि कुछ दिन पहले उसका सिम कार्ड फिर से जारी किया गया था।

इसके बाद शिकायतकर्ता ने अपने एचडीएफसी खाते के विवरण की जांच की और पाया कि किसी ने उसके खाते से 11 लाख रुपये का ऋण लिया है और ऋण राशि से 1,00,000 इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से किसी और के खाते में स्थानांतरित कर दिया है। इस शिकायत के आधार पर पुलिस ने 7 मई को साइबर थाने में भारतीय दंड संहिता की धारा 420 के तहत मामला दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

एक महीने से अधिक की जांच के बाद पुलिस ने 20 जून को तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया।

पूछताछ में पता चला कि सभी आरोपी दोस्त हैं और रोहिणी, दिल्ली और उसके आसपास के इलाकों के रहने वाले हैं।

यह पता चला कि एक आरोपी सनी कुमार सिंह रोहिणी के एंबिएंस मॉल में एक प्रतिष्ठित बैंक के क्रेडिट कार्ड सेलिंग विभाग में काम करता है और उसके पास बैंक के रिकॉर्ड तक पहुंच है, जहां से वह उन खातों की जानकारी एकत्र करता था जिनमें रोमांचक और आकर्षक ऑफर होते थे। तत्काल ऋण, जंबो ऋण, स्मार्ट ईएमआई आदि के रूप में।

अधिकारी ने कहा, आरोपी सनी कुमार इन खातों का विवरण एकत्र करता था, जिसमें खाते से जुड़ा मोबाइल फोन नंबर, खाते से जुड़ा जीमेल आईडी, ग्राहक का पता और संबंधित आईडी प्रूफ शामिल था। इसके बाद उसने अन्य आरोपी व्यक्तियों के साथ बैंक को धोखा देने की योजना बनाई।

आरोपी बैंक ग्राहकों का डाटा इकट्ठा करते थे और सह-आरोपी पवन रमेश व राकेश फर्जी आईडी पर अपनी फोटो लगाकर फोटोशॉप के जरिए फर्जी आईडी प्रूफ बनाते थे।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 22 Jun 2022, 10:35:02 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.