News Nation Logo
शरद पवार के साथ मुलाकात के बाद ममता ने UPA केअस्तित्व पर उठाया सवाल ममता बनर्जी आज शाहरुख़ खान से कर सकती हैं मुलाकात 'सहायक प्रजनन प्रौद्योगिकी (विनियमन) विधेयक, 2020' लोकसभा में पारित राजस्थान में कोरोना ने पकड़ी स्पीड, 17 जिलों में 365 नए मरीज 75 चित्रकार यहां 3 दिन तक महाभारत से जुड़ी पेंटिंग बनाएंगे: हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव (कुरुक्षेत्र) पर देश, विदेश के 3,700 कलाकार यहां आएंगे: मनोहर लाल खट्टर देश को एक मज़बूत वैकल्पिक फोर्स की जरूरत है: ममता बनर्जी मैं महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे और शरद पवार से मुलाक़ात करने के लिए आईं थीं: ममता बनर्जी कोविड के दोनों डोज लगे हैं, तो बिना RT-PCR के महाराष्ट्र में यात्रा करने की अनुमति अक्टूबर 2020 से अक्टूबर 2021 तक 32 जवान शहीद, गृह मंत्रालय ने संसद में दी जानकारी जम्मू-कश्मीर में आतंकी गतिविधियां कम हुईं दिल्ली कैबिनेट का बड़ा फैसला, दिल्ली में पेट्रोल 8 रुपए सस्ता आईआरएस अधिकारी विवेक जौहरी ने CBIC के अध्यक्ष के रूप में कार्यभार संभाला निलंबित 12 विपक्षी सदस्य (राज्यसभा) निलंबन के विरोध में संसद में गांधी प्रतिमा के सामने धरने पर बैठे प्रश्नकाल के दौरान कांग्रेस और द्रमुक सांसदों ने लोकसभा से वाक आउट किया दिसंबर के पहले दिन ही महंगाई की मार, महंगा हो गया कॉमर्श‍ियल LPG सिलेंडर कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन पर आज लोकसभा में होगी चर्चा UPTET पेपर लीक मामले में परीक्षा नियामक प्राधिकारी संजय उपाध्याय गिरफ्तार संसद भवन के कमरा नंबर 59 में लगी आग, बुझाने की कोशिश जारी पुलवामा एनकाउंटर में दो आतंकी ढेर, सर्च ऑपरेशन जारी

बाढ़ प्रभावित आंध्र प्रदेश में 8 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में फसल बर्बाद

बाढ़ प्रभावित आंध्र प्रदेश में 8 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में फसल बर्बाद

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 23 Nov 2021, 06:45:01 PM
Crop pread

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

अमरावती: आंध्र प्रदेश के चार जिलों में भारी बारिश और बाढ़ ने आठ लाख हेक्टेयर में फैली कृषि और बागवानी फसलों को नुकसान पहुंचाया है।

प्रभावित जिलों से मिली शुरूआती रिपोर्ट के मुताबिक करीब 3,000 करोड़ रुपये की फसल का नुकसान होने का अनुमान है।

कृषि मंत्री के. कन्नबाबू ने कहा कि बाढ़ का पानी कम होने के बाद फसलों की विस्तृत गणना की जाएगी।

फसल नुकसान का जिलेवार विवरण अभी तक अपडेट नहीं किया गया था, लेकिन 21 नवंबर को उपलब्ध जिलेवार जानकारी के अनुसार, कडप्पा जिले को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है। कडप्पा में 1,26,167 हेक्टेयर और अनंतपुर में 90,498 हेक्टेयर में फसलों को नुकसान पहुंचा है। नेल्लोर और चित्तूर जिलों में 12,118 हेक्टेयर और 9,616 हेक्टेयर में फसलों को नुकसान हुआ है।

कडप्पा जिले में भी 17,912 हेक्टेयर से अधिक बागवानी फसलों को नुकसान हुआ है। अनंतपुर और नेल्लोर जिलों में, क्षतिग्रस्त बागवानी फसलों की सीमा 616 और 101 हेक्टेयर थी।

कृषि विभाग के अधिकारियों ने कहा कि कडप्पा जिले में अन्नमय परियोजना और चेयेर जलाशय जैसी सिंचाई परियोजनाओं के बांधों में दरार के कारण फसलें बह गईं।

सबसे ज्यादा नुकसान धान, सूरजमुखी, काले चने और कपास की फसलों को हुआ है। प्रभावित किसानों का कहना है कि बाढ़ ने कटाई के लिए तैयार फसल को बर्बाद कर दिया है। उन्होंने सरकार से उनके बचाव में आने की अपील की है।

सैकड़ों मवेशी बह जाने से डेयरी उद्योग को भी बड़ा झटका लगा है। राज्य सरकार ने घोषणा की है कि किसानों को भैंस या गाय की मृत्यु के मामले में 30,000 रुपये और भेड़ या बकरी के मामले में 3,000 रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी।

मुख्यमंत्री वाई.एस. जगन मोहन रेड्डी ने अधिकारियों को फसल की गणना शुरू करने और 80 प्रतिशत सब्सिडी पर बीज की आपूर्ति करने का भी निर्देश दिया है।

बंगाल की खाड़ी में एक दबाव के प्रभाव के तहत भारी बारिश के कारण आई बाढ़ ने विनाश का एक निशान छोड़ा है, जिसमें 34 लोगों की मौत हो गई, जबकि अन्य 10 लोग लापता हो गए।

बाढ़ के कारण 1,300 से अधिक गांव जलमग्न हो गए, जो हाल के वर्षों में सबसे खराब है। बाढ़ ने बुनियादी ढांचे को व्यापक नुकसान पहुंचाया है और इस क्षेत्र में महत्वपूर्ण सड़क और रेल संपर्क टूट गए हैं।

राज्य सरकार ने प्रत्येक मृतक के परिवार को पांच-पांच लाख रुपये मुआवजा देने की घोषणा की है।

राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) की आठ टीमों और राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल (एसडीआरएफ) की कई टीमों को बचाव और राहत कार्यों के लिए तैनात किया गया था। 19 जगहों पर बचाव कार्यों के लिए दो हेलीकॉप्टरों का इस्तेमाल किया गया।

अधिकारियों ने बाढ़ प्रभावित इलाकों में 294 राहत शिविर खोले। लगभग 58,000 लोगों को प्रभावित क्षेत्रों से निकाला गया और राहत शिविरों में स्थानांतरित कर दिया गया।

चित्तूर जिले का मंदिर शहर तिरुपति बारिश और बाढ़ से सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ है। घाट की सड़कों और तिरुमाला के ऊपर प्रसिद्ध श्री वेंकटेश्वर मंदिर तक पैदल मार्ग को भारी नुकसान हुआ है।

बारिश के चार दिन बाद भी, तिरुपति और उसके उपनगरों के कई निचले इलाकों में पानी भर गया है। इसी तरह की स्थिति चित्तूर और नेल्लोर जिलों के कई हिस्सों में बनी रही।

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को राहत कार्य तेज करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने उनसे 95,100 रुपये का मुआवजा प्रदान करने और अपने घरों को खोने वालों को एक नया घर और 5,200 रुपये उन लोगों को देने के लिए कहा, जिनके घर बाढ़ के कारण आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हो गए हैं।

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने कुरनूल, चित्तूर, अनंतपुर और कडप्पा जिलों में से प्रत्येक को राहत उपायों के लिए कुल 40 करोड़ रुपये अतिरिक्त 10 करोड़ रुपये मंजूर किए हैं।

भारी बारिश और बाढ़ के कारण कई झीलें और तालाब टूट गए है, जिससे लोगों की परेशानी और बढ़ गई है। प्राकृतिक आपदा ने सिंचाई प्रणाली, बिजली के खंभे, टावरों और ट्रांसमिशन सिस्टम और सड़कों को व्यापक नुकसान पहुंचाया है।

राज्य, जिला और ग्रामीण सड़कों की कुल लंबाई लगभग 2,000 किमी क्षतिग्रस्त हो गई। सड़क एवं भवन विभाग के प्रारंभिक अनुमान के अनुसार क्षतिग्रस्त सड़कों और पुलों की मरम्मत के लिए 800 करोड़ रुपये की आवश्यकता है।

मुख्यमंत्री ने पंचायत राज और नगर प्रशासन विभागों के अधिकारियों को अगले चार सप्ताह में स्थायी बहाली कार्य के लिए निविदाओं को अंतिम रूप देने का निर्देश दिया है।

इस बीच, विपक्ष के नेता और तेलुगु देशम पार्टी (तेदेपा) के अध्यक्ष एन. चंद्रबाबू नायडू ने मंगलवार को कडप्पा जिले के बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा किया। पूर्व मुख्यमंत्री ने राजमपेट और नंदलुरु मंडल के कुछ गांवों का दौरा किया और प्रभावित लोगों से बातचीत की।

नायडू बुधवार को चित्तूर जिले के बाढ़ प्रभावित इलाकों और गुरुवार को नेल्लोर जिले का दौरा करेंगे।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 23 Nov 2021, 06:45:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.