News Nation Logo
Banner

बुरहानपुर में कबाड़ से खुला कोरोना काल में 12 करोड़ की बंदरबांट का राज, 13 गिरफ्तार

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 26 Jul 2022, 11:25:01 PM
Crime Handcuff

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

बुरहानपुर:   कोरोना महामारी के पिछली दो लहरों में सरकारी अमले ने किस तरह मरीज सुविधाओं के लिए मिली राशि की बंदरबांट की, इसका खुलासा मध्यप्रदेश के बुरहानपुर जिले में हुआ है। यहां करोड़ों रुपए का गबन हुआ, जिसमें स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी से लेकर नेता और पत्रकार भी शामिल रहे हैं।

राज्य में कोरोना महामारी की दो लहर ने जमकर कहर बरपाया था और सैकड़ों लोगों ने जान तक गंवाई थी। एक तरफ जहां लोग जिंदगी बचाने के लिए संघर्ष कर रहे थे तो दूसरी ओर बुरहानपुर में पैसा हजम करने की कोशिशें हो रही थी। इस बात का खुलासा किसी सरकारी एजेंसी ने नहीं किया है, बल्कि अस्पताल प्रबंधन द्वारा कबाड़ बेचे जाने पर लोगों द्वारा की गई शिकायत ने सारा राज खोलकर रख दिया है।

इस घोटाले का राज उजागर होने की कहानी बड़ी रोचक है, जिला अस्पताल प्रबंधन ने पलंग, पंखे, टेबल, कुर्सी और कूलर सहित बड़ी तादाद में सामान को कबाड़ के तौर पर बेचा, जिसे कुछ लोगों ने देखा तो इसकी शिकायत पुलिस तक कर दी। मामला बढ़ा तो मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ राजेश सिसोदिया ने पुलिस में शिकायत की जिस पर मामला दर्ज हुआ।

यह बात सामने आई है कि लगभग 12 का घोटाला हुआ था और इसके लिए कई रास्ते अपनाए गए। बैंक खाते खुलवाए गए और कोरोना महमारी के लिए आई रकम और रोगी कल्याण समिति के पैसे को कर्मचारियों ने अपने बैंक खाते में ट्रांसफर कर लिया, इसमें चिकित्सक, पत्रकार, नेता और दूसरे अन्य कर्मचारी शामिल थे, जिन्होंने फर्जी कंपनियां बनाई थीं।

पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इस मामले में कुल 16 लोगों को आरोपी बनाया गया है, इनमें से 13 लोगों की अब तक गिरफ्तारी हो चुकी है वही तीन फरार है। इसके अलावा पुलिस ने पांच करोड़ से अधिक की संपत्ति और नकदी शब्द भी कर ली है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 26 Jul 2022, 11:25:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.