News Nation Logo
Agnipath Scheme: आज से Air Force में भर्ती के लिए रजिस्ट्रेशन शुरू होंगे 2002 Gujarat Riots: जाकिया जाफरी की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आज Agnipath Scheme: एयरफोर्स के लिए अग्निवीरों का रजिस्ट्रेशन आज से शुरू, ऐसे करें आवेदनRead More » राष्ट्रपति चुनाव के लिए विपक्ष के उम्मीदवार यशवंत सिन्हा 27 जून को राष्ट्रपति चुनाव के लिए अपना नामा Coronavirus: भारत में 17000 से ज्यादा केस, 5 माह में सबसे ज्यादा मामलेRead More » यशवंत सिन्हा को केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल का 'जेड (Z)' श्रेणी का सशस्त्र सुरक्षा कवच प्रदान किया NCP प्रमुख शरद पवार से मिलने मुंबई के लिए शिवसेना नेता संजय राउत वाई.बी. चव्हाण सेंटर पहुंचे सुप्रीम कोर्ट ने एसआईटी जांच के खिलाफ जाकिया जाफरी की याचिका की खारिजRead More » महाराष्ट्र सियासी संकट पर सुप्रीम कोर्ट बुधवार को करेगा सुनवाई

तस्करी कर लाए गए और 13 बच्चे मुक्त, असम की महिलाएं सिक्किम में छुड़ाई गईं

तस्करी कर लाए गए और 13 बच्चे मुक्त, असम की महिलाएं सिक्किम में छुड़ाई गईं

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 12 Aug 2021, 02:00:01 AM
Crime cene

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

गुवाहाटी:   असम पुलिस ने अपने सिक्किम समकक्षों की मदद से हिमालयी राज्य से तस्करी कर लाए गए आठ लड़कियों सहित 13 और बच्चों को छुड़ाया है। पुलिस ने बुधवार को यह जानकारी दी।

असम पुलिस ने सिक्किम पुलिस की मदद से दो हफ्ते पहले सिक्किम से 16 लड़कियों और दो वयस्कों सहित 40 बच्चों को छुड़ाया था और उन्हें घर वापस लाया था।

पुलिस ने कहा कि सभी 55 बच्चों और महिलाओं को लंबे समय पहले अलग-अलग मौकों पर सिक्किम लाया गया था और अवैध रूप से घरेलू और अन्य कामों में लगाया गया था।

अधिकारी ने कहा, मानव तस्करी रैकेट के सरगना कृष्ण योगी को भी गिरफ्तार किया गया था। पीड़ितों को बेहतर वेतन वाले रोजगार के अवसरों का लालच दिया गया था। ऐसी खबरें हैं कि असम से कई अन्य बच्चों और महिलाओं को भी सिक्किम में तस्करी कर लाया गया था। शेष को बचाने के प्रयास जारी हैं।

पुलिस के अनुसार, सभी 55 बच्चे और महिलाएं भारत-भूटान सीमा पर असम के बोडोलैंड क्षेत्रीय क्षेत्र के आर्थिक रूप से पिछड़े चिरांग जिले से हैं।

पुलिस ने कहा कि मानव तस्करों ने असम के आर्थिक रूप से पिछड़े वर्गों को निशाना बनाया है, जो कोविड महामारी से प्रेरित स्थिति और आर्थिक संकट से सबसे ज्यादा प्रभावित हैं।

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा कि बचाए गए बच्चों को मामला-दर-मामला आधार पर, पहले बाल कल्याण समिति को सौंप दिया जाएगा, जो तय करेगी कि उन्हें संस्थागत हिरासत, आश्रय गृहों में भेजा जाना चाहिए या उन्हें उनके माता-पिता को वापस सौंप दिया जाना चाहिए।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 12 Aug 2021, 02:00:01 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.