News Nation Logo
Banner
Banner

Delhi Violence: क्राइम ब्रांच ने लियाकत और तारिक रिजवी को गिरफ्तार किया, ताहिर से जुड़े हैं तार

लियाकत और रियासत पर चांदबाग हिंसा में शामिल होने का आरोप है जबकि तारिक रिज़वी ने ताहिर हुसैन को फरारी के बाद अपने घर ज़ाकिर नगर में छुपाया था.

Rummanullah | Edited By : Ravindra Singh | Updated on: 08 Mar 2020, 12:16:14 AM
Delhi Violence

क्राइम ब्रांच ने लियाकत और तारिक को किया गिरफ्तार (Photo Credit: सांकेतिक चित्र)

नई दिल्ली:

दिल्ली हिंसा में शामिल होने के आरोप में दिल्ली की क्राइम ब्रांच ने लियाकत और तारिक रिजवी को गिरफ्तार किया.  लियाकत और रिजवी के दिल्ली दंगों के आरोपी ताहिर हुसैन (Tahir Hussain) से तार जुड़े हैं. लियाकत और रियासत पर चांदबाग हिंसा में शामिल होने का आरोप है जबकि तारिक रिज़वी ने ताहिर हुसैन को फरारी के बाद अपने घर ज़ाकिर नगर में छुपाया था. आपको बता दें कि दिल्ली हिंसा (Delhi Riots) के दौरान के 53 लोग मारे गए थे जबकि 200 से भी ज्यादा लोग घायल हुए थे. 

आपको बता दें कि पिछले दिनों राष्ट्रीय राजधानी में हिंसा, आगजनी और पथराव की अफवाहों के बीच 1,880 तनावग्रस्त लोगों ने मदद मांगने के लिये दिल्ली पुलिस को फोन किए और वहीं अफवाह फैलाने के सिलसिले में 40 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. पुलिस ने एक बयान में कहा कि पुलिस नियंत्रण कक्ष (पीसीआर) को पश्चिम दिल्ली से 481, दक्षिण पूर्वी दिल्ली से 413, द्वारका से 310 और दक्षिण दिल्ली से 127 फोन आए. वहीं उत्तर पूर्वी दिल्ली से केवल दो फोन ही आए.

यह भी पढ़ें-Corona Virus: PM नरेंद्र मोदी ने की स्थिति की समीक्षा, सभी आवश्यक उपाय करने के दिये निर्देश

बाहरी दिल्ली से 222, रोहिणी से 168, उत्तरी दिल्ली के बाहरी इलाकों से 22, उत्तर पश्चिम दिल्ली से 54, मध्य दिल्ली से 35, उत्तर दिल्ली और पूर्वी दिल्ली से छह-छह फोन आए. वहीं दक्षिण पश्चिम दिल्ली से 30 फोन आए. दिल्ली पुलिस के जनसम्पर्क अधिकारी एम. एस. रंधावा ने कहा कि रविवार को शाम सात बजे से रात नौ बजे के बीच ये सभी फोन आए. इससे पहले पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने 3,000 से अधिक फोन आने की जानकारी दी थी.

दिल्ली दंगों में गई थी 53 लोगों की जान
इस बीच, एक अन्य अधिकारी ने बताया कि दिल्ली में हिंसा के संबंध में अफवाह फैलाने के आरोप में 40 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. गौरतलब है कि हिंसा के बारे में अफवाह फैलने के बाद रविवार शाम दिल्ली के कुछ हिस्सों में लोगों के बीच दहशत पैदा हो गयी थी. उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हुए दंगे में कम से कम 53 लोगों की जान जाने के कुछ दिन बाद ये अफवाहें फैली. रविवार को अफवाह फैलने के बाद पुलिस अधिकारियों को खुद मौके पर पहुंच स्थिति नियंत्रण में करनी पड़ी और सोशल मीडिया पर भी लोगों से अफवाहों पर ध्यान ना देने की अपील की गई.

यह भी पढ़ें-Delhi Violence: दिल्ली में दंगे की अफवाह फैलाने वाला शख्स चढ़ा पुलिस के हत्थे

7 मेट्रो स्टेशनों के प्रवेश और निकास द्वार बंद किए गए थे
दिल्ली मेट्रो नगर निगम ने भी बिना कोई वजह बताए सात मेट्रो स्टेशनों पर प्रवेश और निकास द्वार बंद कर दिए थे. हालांकि बाद में सभी स्टेशनों पर प्रवेश और निकास द्वार खोल दिए गए थे. दिल्ली पुलिस ने ट्वीट किया था, ‘दक्षिण-पूर्वी और पश्चिम जिले में तनाव की निराधार खबरें सोशल मीडिया पर प्रसारित की गयी. यह दोहराना चाहेंगे कि यह महज अफवाहें हैं. ऐसी अफवाहों पर ध्यान ना दें.’ पुलिस ने कहा कि वे अफवाह और झूठी खबरें फैलाने वाले सोशल मीडिया अकाउंट पर नजर रख रहे हैं और इनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी. 

First Published : 07 Mar 2020, 08:05:18 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.