News Nation Logo
Quick Heal चुनाव 2022

जून के आखिर में अपने चरम पर होगा कोरोना वायरस : शोध

भारत में कोरोना वायरस की स्थिति को लेकर हुए एक अध्ययन के मुताबिक कोरोना वायरस का संक्रमण जून महीने में अपने चरम पर होगा. इस स्टडी में कहा गया है कि अभी जो हालात हैं वो देश में कोविड 19 महामारी का सबसे व्यापक स्वरूप नहीं है.

News Nation Bureau | Edited By : Yogendra Mishra | Updated on: 04 May 2020, 02:59:26 PM
Corona

प्रतीकात्मक फोटो। (Photo Credit: फाइल फोटो।)

नई दिल्ली:

भारत में कोरोना वायरस की स्थिति को लेकर हुए एक अध्ययन के मुताबिक कोरोना वायरस का संक्रमण जून महीने में अपने चरम पर होगा. इस स्टडी में कहा गया है कि अभी जो हालात हैं वो देश में कोविड 19 महामारी का सबसे व्यापक स्वरूप नहीं है. इस महीने भी महामारी अपने चरम पर हो सकती थी. लेकिन लॉकडाउन के कारण एक महीने की देरी हुई है. आइए जानते हैं कि इस अध्ययन में क्या निकल कर आ रहा है.

जानें स्टडी के बारे में

कोलकाता बेस्ट इंडियन एसोसिएशन फॉर कल्टिवेशन ऑफ साइंस यानी आईएसीएस ने कोविड-19 की गति और लॉकडाउन के असर को समझने के लिए जो स्टडी की है उसमें कहा गया है कि लॉकडाउन के कारण देश में महामारी को चरम पर पहुंचने के वक्त को एक महीने टाला जाना संभव हो सका है. इसलिए बेहतर तैयारियों के लिए और वक्त मिल पाया है.

यह भी पढ़ें- केंद्र की गाइडलाइन के अलावा दिल्ली में नहीं मिलेगी कोई छूटः सतेन्द्र जैन

स्टडी बायो कंप्यूटैशन मॉडलिंग पर आधारित है, जिसमें संक्रमण की दरों में लगातार आए बदलावों के आधार पर अच्छे और बुरे समय के बारे में आकलन किया गया है. संवेदनशील-संक्रमित-रिकवरी-मृत्यु यानी SIRD मॉडल को स्टडी का आधार बनाया गया है.

यह भी पढ़ें- शाहरुख खान ने 'आई फॉर इंडिया' कॉन्सर्ट के लिए गाया 'सब सही हो जाएगा' गाना!

इस स्टडी में मॉडल के कर्व और रिप्रोडक्शन नंबर के ट्रेंड के आधार पर कहा गया है कि जून के आखिर तक संक्रमण का दौर चरम पर पहुंच जाएगा. तब करीब डेढ़ लाख लोग संक्रमित हो सकते हैं.

रिप्रोडक्शन नंबर क्या है

इस स्टडी में अभी रिप्रोडक्शन नंबर 2.2 पाया गया है. यानी 10 लोग औसतन 22 और लोगों को संक्रमित कर रहे हैं. यहीं रिप्रोडक्शन नंबर है, जिसके जून के आखिर में कम होकर 0.7 रह जाने का अनुमान लगाया जा रहा है.

लॉकडाउन ने कम की रफ्तार

इस स्टडी के अनुमानों की मानें तो लॉकडाउन का पालन देश भर में नहीं किया जाता, तो संक्रमण अपने चरम पर मई के अंत तक आ सकता था. इस अध्ययन के बारे में एक मॉडल यह भी है कि अगर 3 मई को लॉकडाउन पूरी तरह से हटा लिया जाता तो संक्रमण की दर तेजी से बढ़ सकती थी.

First Published : 04 May 2020, 02:59:26 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.