News Nation Logo
Banner

देश में कोरोना टेस्ट की जांच एकदम मुफ्त की जाएगी, सरकार जारी करे निर्देश: सुप्रीम कोर्ट

भारत इस महामारी से बहुत ही मजबूती से लड़ता हुआ दिखाई दे रहा है. इस बीच सुप्रीम कोर्ट ने कोरोना वायरस टेस्ट को लेकर एक नया ऐलान कर दिया है कि देश में सभी कोरोना वायरस के संदिग्धों का टेस्ट मुफ्त में किया जाए

Arvind Singh | Edited By : Ravindra Singh | Updated on: 08 Apr 2020, 07:39:32 PM
Supreme Court

सुप्रीम कोर्ट (Photo Credit: फाइल)

नई दिल्ली:  

कोरोनावायरस (Corona Virus) से फैली महामारी ने दुनियाभर में तबाही मचा रखी है. अमेरिका, ग्रेट ब्रिटेन, इटली सहित दुनिया के तमाम उन देशों ने जो खुद को विकसित देश मानते हैं सभी ने कोविड -19 (COVID-19) के सामने घुटने टेक दिये हैं. वहीं भारत में भी इस महामारी ने अपने पांव रख दिए हैं लेकिन अभी भी भारत इस महामारी से बहुत ही मजबूती से लड़ता हुआ दिखाई दे रहा है. इस बीच सुप्रीम कोर्ट ने कोरोना वायरस टेस्ट को लेकर एक नया ऐलान कर दिया है कि देश में सभी कोरोना वायरस के संदिग्धों का टेस्ट मुफ्त में किया जाए.

इतना ही नहीं इसके लिए सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से एडवाइजरी जारी करने को भी कहा है. दोपहर को हुई सुनवाई में कोर्ट ने सुझाव दिया था. सरकार ने विचार करने की बात कही थी. कोर्ट ने कहा था कि हम शाम तक आदेश पास करेगे. अब ये लिखित आदेश आया है. अहम आदेश है जिसमे कोरना की मुफ्त में जांच की बात कही हैं. लेकिन क्या लैब को सरकार इस रकम की भरपाई करेगी? इन पहलुओं पर कोर्ट बाद में विचार करेगा.

वहीं सुप्रीम कोर्ट ने एक दूसरे आदेश में कहा है कि सरकार सुनिश्चित करे कोरोना के इलाज में लगे डॉक्टर/स्टाफ को PPE किट, फेस शील्ड, उपयुक्त मास्क, दस्ताने आदि दिया जाएं. जहां कोरोना से पीड़ित या संदिग्ध लोगों को रखा गया है, वहां डॉक्टर/स्टाफ को पर्याप्त पुलिस की सुरक्षा मिले
ताकि डॉक्टरों/ स्टाफ के काम मे बाधा डालने वालों पर सख्त कार्रवाई भी की जाए

यह भी पढ़ें-राजसमंद सांसद दिया कुमारी ने तबलीगी जमात पर बोला हमला, कहा- सरकार उठाए गंभीर कदम

देश में 5194 कोरोना पॉजिटिव के मामले आ चुके हैं
देश में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कोरोना वायरस संक्रमित व्यक्तियों का कोरोना टेस्ट मुफ्त करने का आदेश जारी किया है. सर्वोच्च न्यायालय ने कहा है कि पूरे देश में कोरोना का टेस्ट मुफ्त में होना चाहिए ताकि अधिक से अधिक लोग यह टेस्ट आसानी से करवा सके. सुप्रीम कोर्ट ने इसके लिए केंद्र सरकार से एडवाइजरी जारी करने के लिए भी कहा है. आपको बता दें कि देश के अलग-अलग राज्यों से अब तक कुल मरीजों की संख्या 5194 तक जा पहुंची है जबकि 402 मरीज इस महामारी को शिकस्त देकर अपने घरों को लौट चुके हैं. वहीं 149 देशवासियों को यह महामारी निगल चुकी है.

PM मोदी ने लॉकडाउन बढ़ाने के दिए संकेत
कोरोना वायरस (Corona Virus) को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने एक बार फिर देश में लॉकडाउन (Lockdown) बढ़ाने के संकेत दिए हैं. सूत्रों का कहना है कि राजनीतिक दलों की बैठक में किसी नेता ने भी लॉकडाउन हटाने के लिए नहीं कहा है. बीजद नेता पिनाकी मिश्रा ने प्रधानमंत्री के साथ हुई बैठक के बाद कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्पष्ट किया कि 14 अप्रैल को एक साथ लॉकडाउन नहीं हटेगा.

यह भी पढ़ें-पूरी दुनिया में जारी है कोविड-19 का कहर, इटली में कोरोना वायरस के 135,586 पॉजिटिव मामले

पीएम ने राजनीतिक दलों से की चर्चा
पीएम नरेन्द्र मोदी ने बुधवार को लोकसभा एवं राज्यसभा में विपक्ष समेत विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं के साथ बैठक की और कोरोना वायरस के कारण देश में उत्पन्न स्थिति और इसे तेजी से फैलने से रोकने के सरकार के प्रयासों पर चर्चा की. वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए हुई इस बैठक में लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी, राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद, राकांपा के शरद पवार, शिवसेना के संजय राउत के अलावा तृणमूल कांग्रेस के सुदीप बंदोपाध्याय, बसपा के सतीश चंद्र मिश्रा, द्रमुक के टी आर बालू, बीजद के पिनाकी मिश्रा, वाईएसआर के मिथुन रेड्डी, सपा के राम गोपाल यादव, जदयू के राजीव रंजन सिंह, लोजपा के चिराग पासवान, अकाली दल के सुखवीर सिंह बादल सहित कई अन्य दलों के नेताओं ने हिस्सा लिया.

First Published : 08 Apr 2020, 07:12:27 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.