News Nation Logo
Banner

Corona: चुनाव प्रचार का समय घटाया, नेताओं को EC ने दी समझाइश

प्रचार का समय कम किया गया है और मतदान से पहले चुनाव प्रचार खत्म होने की समयसीमा भी बढ़ा दी गई है.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 16 Apr 2021, 07:53:27 PM
ECI

सर्वदलीय बाठक के बाद चुनाव आयोग के दलो को दिशा-निर्देश. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • शाम 7 बजे से सुबह 10 बजे तक प्रचार नहीं होगा
  • मास्क सेनेटाइजर्स का खर्च जुड़ेगा प्रत्याशी के खाते में
  • नेताओं को दी खुद मास्क पहन कर प्रचार करने की सलाह

नई दिल्ली:

देश भर में बढ़ रहे कोरोना वायरस (Corona Virus) संक्रमण के मामलों और विधानसभा चुनावी (Assembly Elections) बयार के बीच केंद्रीय निर्वाचन आयोग (Election Commission)  ने सर्वदलीय बैठक के बाद कई अहम दिशा-निर्देश राजनीतिक दलों को जारी किए हैं. इनमें सबसे बड़ा तो यही है कि प्रचार का समय कम किया गया है और मतदान से पहले चुनाव प्रचार खत्म होने की समयसीमा भी बढ़ा दी गई है. इसके साथ ही चुनाव आयोग ने नेताओं को भी समझाइश देते हुए कहा है कि सार्वजनिक जीवन में लोगों को प्रेरणा देने के लिए कोरोना प्रोटोकॉल (Corona Protocol) का पालन करें और चुनावी रैलियों में फेस मास्क पहन कर जाएं और आने वाले लोगों को भी कोविड-19 (COVID-19) गाइडलाइंस का पालन करने को प्रेरित करें.

प्रचार की समय़ सीमा घटाई
गौरतलब है कि बंगाल उच्च न्यायालय के कड़े रुख के बाद केंद्रीय निर्वाचन आयोग ने शुक्रवार को सर्वदलीय बैठक बुलाई थी. इस बैठक में लगभग सभी राजनीतिक पार्टियों ने हिस्सा लिया. बैठक के बाद चुनाव आयोग की ओर से व्यापक दिशा-निर्देश दिए गए. इसके तहत विधानसभा चुनाव के शेष तीन चऱणों के लिए हर रोज के प्रचार के समय में कमी की गई है. इसके तहत अब राजनीतिक दल शाम 7 बजे से सुबह 10 बजे तक प्रचार नहीं कर सकेंगे. इसके साथ ही साइलेंस पीरियड यानी मतदान से 72 घंटे पहले प्रचार थम जाएगा. पहले यह अवधि 48 घंटे की थी.

यह भी पढ़ेंः  कोरोना का कहर जारी, अब ICSE बोर्ड 10वीं और 12वीं की परीक्षा की स्थगित

कोरोना प्रोटोकॉल का खर्च जुड़ेगा प्रत्याशी के खाते में
इसके साथ ही चुनाव आयोग ने एक तरह से राजनीतिक पार्टियों को ही जिम्मेदार ठहराया है कि वह रैली और जनसभा के आयोजन स्थल पर आने वाले हरेक शख्स को फेस मास्क प्रदान करें. इसके साथ ही सेनेटाइजर की भी व्यवस्था करें. रोचक बात यह है कि कोविड-19 गाइडलाइंस और प्रोटोकॉल के अनुपालन के दौरान आने वाले खर्च को प्रत्याशी के चुनावी खर्च में जोड़ा जाएगा. चुनाव आयोग का यह एक बड़ा कदम है, जिसे मानने के लिए राजनीतिक पार्टियां बाध्य हैं.

यह भी पढ़ेंः भारत आएगा नीरव मोदी, ब्रिटिश गृह विभाग ने प्रत्यर्पण को दी मंजूरी

नेताओं को दी आदर्श बनने की समझाइश
इसके साथ ही चुनाव आयोग ने नेताओं और उनके स्टार प्रचारकों को समझाइश भी दी है. इसके तहत उनसे कहा गया है कि रैली या जनसभा शुरू होने से पहले राजनेता खुद मास्क पहने और आने वाले लोगों से भी मास्क पहनने समेत सेनेटाइजर के इस्तेमाल को प्रेरित करें. इसके साथ ही यह भी संबंधित राजनेता की ही जिम्मेदारी होगी कि उनकी रैली या जनसभा में उपस्थित हरेक शख्स कोरोना प्रोटोकॉल के तहत आपस में पर्याप्त दूरी बना कर रखे और अन्य दिशा-निर्देशों का अक्षरशः पालन करे. 

First Published : 16 Apr 2021, 07:48:03 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.