News Nation Logo

हेलीकॉप्टर दुर्घटना : केरल में वायुसेना के जांबाज प्रदीप को दी गई अंतिम विदाई

हेलीकॉप्टर दुर्घटना : केरल में वायुसेना के जांबाज प्रदीप को दी गई अंतिम विदाई

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 11 Dec 2021, 07:40:01 PM
Coonoor crah

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

तिरुवनंतपुरम:   केरल के लोगों ने शनिवार को जूनियर वारंट ऑफिसर ए. प्रदीप को श्रद्धांजलि दी, जिनकी हाल ही में एक हेलीकॉप्टर दुर्घटना में मौत हो गई थी।

लोग प्रदीप को अंतिम श्रद्धांजलि देने के लिए हजारों की संख्या में सड़कों पर और त्रिशूर में स्थित उनके घर के आसपास मौजूद रहे। वह भारतीय वायुसेना के एमआई-17 हेलीकॉप्टर में सवार थे, जो तमिलनाडु में कुन्नूर के पास बुधवार को दुर्घटनाग्रस्त हो गया था, जिसमें भारत के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी मधुलिका रावत सहित कुल 13 लोगों की मौत हो गई थी।

शनिवार की सुबह, सुलूर से प्रदीप की अंतिम यात्रा शुरू की गई, जहां वह कार्यरत थे। दिवंगत सैनिक के शव को ले जा रहे वाहन के साथ कई अन्य वाहन भी चलने लगे और उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए लोग सड़क के दोनों किनारे एकत्रित हो गए।

केंद्रीय विदेश राज्यमंत्री वी. मुरलीधरन और त्रिशूर लोकसभा सदस्य टी. एन. प्रतापन पार्थिव शरीर के साथ नजर आए। केरल की सीमा पर राज्य के तीन कैबिनेट मंत्रियों - के. राधाकृष्णन, के. राजन और के. कृष्णनकुट्टी ने पार्थिव शरीर की अगवानी की।

इस दौरान हजारों लोग प्रदीप को अलविदा कहने के लिए पलक्कड़ से त्रिसूर तक सड़क किनारे इंतजार करते रहे।

फिर शव को त्रिशूर के पुथूर स्कूल में एक घंटे के लिए रखा गया, जहां प्रदीप पढ़ते थे। उनके दोस्त और स्थानीय निवासी उस स्कूल में आए और उन्हें अलविदा कहा।

प्रदीप के एक सहपाठी ने कहा, वह बिना किसी अभिमान के एक साधारण आदमी था.. उसने कभी नहीं कहा कि वह उच्चस्तरीय और शक्तिशाली लोगों के साथ घूमता है। वह अपनी नौकरी के बारे में बहुत कम बोलता था, लेकिन जब भी वह छुट्टी पर अपने दोस्तों, परिवार और स्थानीय लोगों के साथ आता था, तो वह हमेशा सबसे आगे रहता था।

स्कूल से वायुसेना के 70 अधिकारियों का एक समूह पार्थिव शरीर को वाहन से 3 किमी दूर प्रदीप के घर ले गया।

जब शव उनके घर पहुंचा तो वह बेहद भावुक क्षण था, क्योंकि उनके बीमार पिता, जिन्हें सांस संबंधी बीमारी है, को कुछ घंटे पहले ही सूचित किया गया था कि उनके बेटे का निधन हो गया है।

प्रदीप के एक रिश्तेदार ने कहा, उन्होंने (प्रदीप के पिता) इसे बहादुरी से लिया, जबकि प्रदीप की मां बिलख रही थीं। डॉक्टरों की एक टीम घर पर मौजूद थी, क्योंकि कोई नहीं जानता था कि वह (उनके पिता) अपने बेटे की मौत पर कैसे प्रतिक्रिया देंगे।

उनके घर पर पूरे सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। केरल सरकार ने भी उनका पूर्ण राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया।

उनके घर के पीछे चिता बनाई गई थी।

प्रदीप के पिता एक दिहाड़ी मजदूर थे और 2002 में भारतीय वायुसेना में शामिल होने के बाद उनके पिता ने काम करना बंद कर दिया था, क्योंकि प्रदीप नहीं चाहते थे कि उनके पिता अब भी कड़ी मेहनत करें।

प्रदीप ने हाल ही में यहां अपने पिता के साथ दो सप्ताह बिताए थे, जो अस्पताल में भर्ती थे। अपनी अंतिम यात्रा से ठीक 4 दिन पहले पिता को अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद वह सुलूर के लिए रवाना हो गए थे।

उनकी मां राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी कार्यक्रम में स्थानीय कार्यबल की सदस्य हैं।

2002 में प्रदीप एक वैपन-फिटर के रूप में आईएएफ में शामिल हुए थे और फिर एयर क्रू बन गए।

जब केरल में हाल ही में सदी की सबसे भीषण बाढ़ आई थी तो उन्होंने हेलीकॉप्टर दस्ते में शामिल होने का विकल्प चुना, जो राज्य के विभिन्न स्थानों पर बचाव कार्यो में लगा हुआ था और इस प्रयास के लिए भारत के राष्ट्रपति ने उनकी सराहना की थी।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 11 Dec 2021, 07:40:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.