News Nation Logo
Breaking
पहले बड़े मंगल के मौके पर लखनऊ में बजरंगबली के मंदिरों पर दर्शनार्थियों की भीड़ मैरिटल रेप का मामला SC पहुंचा, याचिकाकर्ता खुशबू सैफी ने दिल्ली HC के फैसले को SC में चुनौती दी मुंबई : कार्तिक चिदंबरम और उनसे जुडे ठिकानों पर सीबीआई की छापेमारी दिल्ली : कुतुबमीनार के कुव्वुतुल इस्लाम मस्जिद मामले की याचिका पर साकेत कोर्ट में सुनवाई टली मथुरा जिला अदालत में एक और याचिका, शाही ईदगाह मस्जिद को सील करने की मांग दाऊद के करीबी और 1993 मुंबई धमाकों के वॉन्टेड आरोपियों को गुजरात ATS ने पकड़ा चारधाम यात्रा को धीमा करेगी उत्तराखंड सरकार, पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने भीड़ को बताई वजह वाराणसी कोर्ट में आज ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट पेश नही होगी, तीन दिन का और समय मांगा जाएगा राजस्थान : पुलिस कांस्टेबल भर्ती में 14 मई की द्वितीय पारी की परीक्षा दोबारा ली जाएगी जम्मू कश्मीर : राजौरी इलाके के कई वन क्षेत्रों में भीषण आग, बुझाने में जुटे फायर टेंडर्स राजस्थान में 5 दिन लू से राहत, 9 दिन बाद 40 डिग्री सेल्सियस के नीचे आया पारा
Banner

संसदीय पैनल के अध्यक्ष ने शाह से अभद्र भाषा के खिलाफ कानून बनाने का आग्रह किया

संसदीय पैनल के अध्यक्ष ने शाह से अभद्र भाषा के खिलाफ कानून बनाने का आग्रह किया

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 21 Jan 2022, 12:20:01 PM
Congre leader

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली:   गृह मामलों की संसदीय स्थायी समिति के अध्यक्ष आनंद शर्मा ने गृह मंत्री अमित शाह को पत्र लिखकर नफरत फैलाने वाले भाषणों पर अंकुश लगाने के लिए एक कानून बनाने का आग्रह किया है।

बुधवार को लिखे गए पत्र में कहा गया है कि यह अनुरोध किया जाता है कि गृह सचिव को मुख्य सचिव (सीएस) और डीजीपी को कानून और सुरक्षित व्यवस्था लागू करने के लिए त्वरित और ²ढ़ कार्रवाई करने के लिए संवेदनशील बनाने की सलाह दी जाए। इसके अलावा, सरकार आईपीसी और सीआरपीसी में संशोधन सहित एक विधायी कार्रवाई पर विचार करे।

उन्होंने कहा कि अभद्र भाषा का इस्तेमाल धर्म, जाति और जातीयता के बीच दुश्मनी और वैमनस्य फैलाने के लिए किया जा रहा है।

पत्र हरिद्वार में हाल ही में नफरत भरे भाषणों के मद्देनजर लिखा गया था, जहां सुप्रीम कोर्ट ने संज्ञान लिया है और हस्तक्षेप के बाद उत्तराखंड पुलिस ने कुछ आरोपियों को गिरफ्तार किया है।

सुप्रीम कोर्ट ने 12 जनवरी को पत्रकार कुर्बान अली और पटना उच्च न्यायालय की पूर्व न्यायाधीश अंजना प्रकाश की याचिका पर उत्तराखंड सरकार को नोटिस जारी किया, जिसमें हरिद्वार में धर्म संसद में मुस्लिम समुदाय के खिलाफ नफरत फैलाने वाले भाषण देने वालों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की गई थी।

पिछले महीने हरिद्वार और दिल्ली में किए गए कथित नफरत भरे भाषणों की जांच के लिए एक विशेष जांच दल (एसआईटी) गठित करने का निर्देश देने के लिए सेना के तीन दिग्गजों ने भी सुप्रीम कोर्ट का रुख किया है।

कथित तौर पर अभद्र भाषा 17 से 20 दिसंबर तक हरिद्वार में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान दी गई थी। सोशल मीडिया पर प्रसारित कार्यक्रम के वीडियो क्लिप में कहा गया है कि हिंदुओं को म्यांमार में देखे गए लोगों की तरह खुद को हथियार देना चाहिए, हर हिंदू को हथियार उठाना चाहिए और एक सफाई अभियान चलाना चाहिए।

इस कार्यक्रम का आयोजन एक विवादास्पद धार्मिक नेता यती नरसिम्हनंद ने किया था, जिन पर अतीत में हिंसा भड़काने का आरोप लगाया जा चुका है।

उत्तराखंड पुलिस ने शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष जितेंद्र नारायण त्यागी को गिरफ्तार किया है, जिन्होंने हाल ही में हिंदू धर्म अपना लिया था।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 21 Jan 2022, 12:20:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.