News Nation Logo
Banner

कन्नूर यूनिवर्सिटी पीजी कोर्स में संघ के नेताओं की किताबों को लेकर असमंजस

कन्नूर यूनिवर्सिटी पीजी कोर्स में संघ के नेताओं की किताबों को लेकर असमंजस

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 09 Sep 2021, 09:20:01 PM
Confuion over

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

तिरुवनंतपुरम: कन्नूर विश्वविद्यालय में लोक प्रशासन में शुरू किए गए मास्टर कोर्स के पाठ्यक्रम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख विचारकों की किताबों की सिफारिश पर भौंहें चढ़ गई हैं।

जिनकी पुस्तकों को अध्ययन के लिए मंजूरी दी गई है, उनमें हैं एम.एस. गोलवलकर, वीर सावरकर और दीनदयाल उपाध्याय।

इन पुस्तकों को एमए लोक प्रशासन पाठ्यक्रम के तीसरे सेमेस्टर में अध्ययन के लिए शामिल किया गया है। इस समय यह पाठ्यक्रम केवल कन्नूर जिले के तेलीचेरी के गवर्नमेंट ब्रेनन कॉलेज में पढ़ाया जाता है।

उनके साथ रवींद्रनाथ टैगोर, गांधी, नेहरू और अन्य ऐसे महान व्यक्तित्वों की पुस्तकें भी हैं।

लेकिन कन्नूर विश्वविद्यालय छात्र संघ के अध्यक्ष एम.के. हसन ने इस घटनाक्रम पर सवाल उठाया है। हसन माकपा की छात्र शाखा स्टूडेंट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया (एसएफआई) से जुड़े हुए हैं। यह संगठन देशभर में शिक्षा के कथित भगवाकरण के खिलाफ है।

हसन ने कहा, संघ के नेताओं की किताबों को तुलनात्मक साहित्य खंड में शामिल किया गया है और जब इसे विस्तार से पढ़ाया जाएगा, तब पता चलेगा कि इन लोगों ने समाज का क्या नुकसान किया है। हम पहले ही इस पर कई दौर की चर्चा कर चुके हैं और अब हम इस पर सार्वजनिक बहस करने जा रहे हैं।

मीडिया ने कन्नूर विश्वविद्यालय के कुलपति गोपीनाथ रवींद्रन से संपर्क करने की कोशिश की, लेकिन उन्होंने इस मुद्दे पर कोई टिप्पणी नहीं की।

इस बीच, मीडिया समीक्षक और कालीकट विश्वविद्यालय में मलयालम के पूर्व प्रोफेसर एम.एन. करसेरी ने इस घटनाक्रम पर दुख व्यक्त किया।

करसेरी ने कहा, यह चौंकाने वाली खबर है और ऐसा नहीं होना चाहिए था। मुझे दृढ़ता से लगता है कि यह सिर्फ एक परीक्षण का मामला है जो स्टोर में है, क्योंकि इसके पीछे जो लोग हैं वे पानी का परीक्षण करने की कोशिश कर रहे हैं।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 09 Sep 2021, 09:20:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.