News Nation Logo
Banner

2014-19 के दौरान ओडिशा में कॉलेज घनत्व स्थिर रहा: सीएजी

2014-19 के दौरान ओडिशा में कॉलेज घनत्व स्थिर रहा: सीएजी

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 10 Sep 2021, 11:25:01 PM
College denity

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

भुवनेश्वर: भारत के नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) ने एक रिपोर्ट में कहा कि ओडिशा में कॉलेज घनत्व 23 पर स्थिर रहा और 2014-19 के दौरान राष्ट्रीय औसत से नीचे रहा।

राज्य में उच्च शिक्षा के परिणाम पर अपनी नई रिपोर्ट में, सीएजी ने कहा कि2014-15 से 2018-19 की अवधि के दौरान विश्वविद्यालयों की संख्या 21 से बढ़कर 28 और कॉलेजों की संख्या 705 से बढ़कर 883 हो गई है। इस अवधि के दौरान प्रति कॉलेज औसत नामांकन 606 से बढ़कर 682 हो गया था।

हालांकि, कॉलेज घनत्व (18-23 वर्ष की प्रति 1 लाख जनसंख्या पर कॉलेजों की संख्या) 23 पर स्थिर रहा है और राष्ट्रीय औसत और बेहतर प्रदर्शन करने वाले राज्यों की तुलना में कम था, जैसा कि सीएजी ने गुरुवार शाम विधानसभा रिपोर्ट में कहा था।

अखिल भारतीय स्तर पर महाविद्यालयों का घनत्व 2014-15 में 27 से बढ़कर 2018-19 में 28 हो गया है। ऑडिटर ने कहा कि ओडिशा (4.19 करोड़ आबादी) और केरल (3.34 करोड़) और आंध्र प्रदेश (4.94 करोड़) जैसी तुलनात्मक आबादी वाले राज्यों में कॉलेज घनत्व में बहुत बड़ा अंतर है।

कैग ने यह भी पाया कि उच्च शिक्षा विभाग (डीएचई) ने उड़ीसा शिक्षा नियम, 1991 में प्रावधान होने के बावजूद, ब्लॉक, नगर पालिकाओं और एनएसी में नए सरकारी कॉलेजों की स्थापना के लिए ना तो कोई मूल्यांकन किया था और ना ही मास्टर प्लान तैयार किया था।

ओडिशा में अंतिम सरकारी कॉलेज वर्ष 1991 में स्थापित किया गया था। यह केवल पर्याप्त अंतराल के बाद, 2016-17 में शैक्षणिक रूप से पिछड़े जिलों में आठ मॉडल डिग्री कॉलेज स्थापित किए गए थे।

झारसुगुड़ा, जगतसिंहपुर और केंद्रपाड़ा जिलों में 2018-19 तक सरकारी कॉलेज नहीं था। इसी तरह, 19 ब्लॉक किसी भी प्रकार के उच्च शिक्षण संस्थान से रहित थे और केवल 12 प्रतिशत सरकारी कॉलेज ग्रामीण क्षेत्रों में मौजूद थे।

अनुसूचित जाति (17.13 प्रतिशत) और अनुसूचित जनजाति (22.85 प्रतिशत) श्रेणियों की जनसंख्या राज्य की कुल जनसंख्या का लगभग 40 प्रतिशत है। सीएजी ने पाया कि राज्य में 60 प्रतिशत से अधिक एससी और एसटी आबादी वाले छह जिलों के 15 ब्लॉक में कोई डिग्री कॉलेज नहीं है।

सीएजी ने कहा कि छात्रों के लिए निरंतर सहायक तंत्र प्रदान करने और परिणामों में सुधार करने के लिए डीएचई की ओर से कोई दीर्घकालिक ²ष्टि नहीं थी।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 10 Sep 2021, 11:25:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो