News Nation Logo
Banner

ढाका के व्यापारियों और छात्रों के बीच संघर्ष में 1 की मौत, 50 घायल

ढाका के व्यापारियों और छात्रों के बीच संघर्ष में 1 की मौत, 50 घायल

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 20 Apr 2022, 03:25:01 PM
Clahe Dhaka

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

ढाका:   ढाका के न्यू मार्केट इलाके में दुकानदारों, पास के ढाका कॉलेज के छात्रों और स्थानीय पुलिस के बीच दिन भर चली झड़प में एक व्यक्ति की मौत हो गई और 50 से अधिक घायल हो गए।
एलिफेंट रोड इलाके में एक कूरियर सेवा के लिए डिलीवरीमैन के रूप में काम करने वाले 23 वर्षीय नाहिद हसन ने झड़प में घायल होने के बाद मंगलवार को अस्पताल में दम तोड़ दिया।

घायलों में आठ पत्रकार भी थे, जिन पर संघर्ष के दौरान हमला किया गया था। इनमें से चार का ढाका मेडिकल कॉलेज अस्पताल में इलाज चल रहा है।

सरकार की चिंता पर प्रकाश डालते हुए शिक्षा मंत्री दीपू मोनी ने कहा कि प्रधानमंत्री शेख हसीना ने प्रशासन को घायलों, खासकर छात्रों का इलाज करने का निर्देश दिया है। उन्होंने कहा कि ढाका कॉलेज के गंभीर रूप से घायल छात्र मुशर्रफ हुसैन का विशेष अस्पताल में बेहतर इलाज सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाए गए हैं।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने छात्रों पर पुलिस की गोलीबारी पर भी सवाल उठाया।

ढाका मेट्रोपॉलिटन पुलिस प्राधिकरण ने मंगलवार को कहा, अगर व्यापारियों ने कोई शिकायत दर्ज की तो कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, मंगलवार को भी जनता पर हमले दिन भर जारी रहे। झड़प के दौरान छात्रों ने सड़कों पर लकड़ियां भी जला दीं। हिंसा भड़कने के करीब तीन घंटे बाद एक वैन में कई पुलिसकर्मी मौके पर पहुंचे।

अधिकारियों के अनुसार, झड़प सोमवार आधी रात के आसपास शुरू हुई। वे मौके पर पहुंचे और स्थिति को नियंत्रण में करने के लिए आंसू गैस के गोले दागे। हालांकि, इस प्रक्रिया में कुछ अधिकारियों को चोटें आईं, क्योंकि छात्रों ने उन पर ईंट-पत्थर फेंकना शुरू कर दिया था।

झड़पों के कारण मंगलवार को दो घंटे से अधिक समय तक दोपहर 2.15 बजे तक मीरपुर रोड पर यातायात बाधित रहा।

पुलिस ने आईएएनएस से बात करते हुए कहा कि न्यू मार्केट इलाके में दो भोजनालयों के बीच विवाद के कारण झड़प हुई, फिर ढाका कॉलेज के छात्रों का एक समूह बहस में शामिल हो गया, जिसके परिणामस्वरूप अंतत: एक घातक झड़प शुरू हुई।

मंगलवार की तड़के करीब ढाई घंटे तक वर्कर्स और छात्रों के बीच झड़प हुई, लेकिन पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े और रबर की गोलियों से उन्हें तितर-बितर किया गया। हालांकि, लड़ाई सुबह फिर से शुरू हुई, जिससे ढाका में रमजान उत्सव के बीच यातायात और भी खराब हो गया।

बांग्लादेश फेडरल यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स (बीएफयूजे), ढाका यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स (डीयूजे), ढाका रिपोर्टर्स यूनिटी (डीआरयू) सहित विभिन्न पत्रकार संगठनों ने पत्रकारों पर हमले की निंदा की और हमलावरों की तत्काल गिरफ्तारी की मांग की। उन्होंने पीड़ितों के मुआवजे और आवश्यक उपचार की भी मांग की।

डीआरयू के अध्यक्ष नजरूल इस्लाम मिठू और डीआरयू के महासचिव नूरुल इस्लाम हसीब ने कहा कि पत्रकारों पर हमला स्वीकार्य नहीं है, खासकर जब वे ड्यूटी पर हों।

बीएफयूजे के अध्यक्ष उमर फारुक, महासचिव दीप आजाद और डीयूजे के अध्यक्ष सोहेल हैदर चौधरी ने कहा कि ड्यूटी पर पत्रकारों पर हमला करने वाले आतंकवादियों से कम नहीं हैं।

सहायक आयुक्त शरीफ मोहम्मद फारूकज्जमां ने कहा कि हिंसा दोपहर में कम हुई और शाम को इफ्तार के दौरान थोड़ी देर के लिए रुक गई। हालांकि व्यापारियों ने शाम करीब 7.45 बजे फिर से प्रदर्शन करना शुरू कर दिया। जबकि छात्र ढाका कॉलेज परिसर के बाहर जमा हो गए थे। दुकानदारों को तितर-बितर करने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा।

घायल पत्रकारों के अनुसार, जब भी उन्होंने हिंसा की तस्वीरें या वीडियो फुटेज लेने की कोशिश की तो झड़प में शामिल दोनों पक्षों ने उनके साथ मारपीट की।

एक फोटो जर्नलिस्ट, जिस पर छात्रों ने हमला किया था, ने कहा, उन्होंने मुझे जमीन पर धकेल दिया और जब मैं तस्वीरें ले रहा था, तब उन्होंने मुझे डंडों और लोहे की रॉड से पीटा। जब मैंने उन्हें बताया कि मैं कॉलेज का पूर्व छात्र हूं, तो उन्होंने मुझे जाने दिया। लेकिन फिर मैंने देखा, उन्होंने एक और पत्रकार हसन रजा को पीटना शुरू कर दिया। मैं किसी तरह उसे बचाने और खुद को वहां से निकालने में कामयाब रहा।

न्यू मार्केट शॉप ओनर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष शाहीन अहमद ने कहा कि दो भोजनालयों कैपिटल हॉस्टल और वेलकम के कर्मचारियों ने सोमवार शाम को इफ्तार का सामान बेचने के लिए एक जगह के मालिकाना हक को लेकर लड़ाई लड़ी।

शाहीन ने आईएएनएस को बताया, उन्होंने एक बार हाथापाई की। वेलकम के एक कर्मचारी ने ढाका कॉलेज के कुछ छात्रों को बुलाया, जिनसे वह परिचित थे। अब चीजें इतनी आगे बढ़ चुकी हैं।

उन्होंने कहा कि 10-12 छात्रों के एक समूह के साथ कैपिटल हॉस्टल के कर्मचारियों ने मारपीट की, जब वे वेलकम के वर्कर्स का समर्थन करने आए थे, जिसके कारण आखिरकार दिन भर हिंसक झड़प हुई।

इस बीच, विपक्षी जातीय पार्टी के अध्यक्ष जी. एम. कादर ने मीडिया कर्मियों पर हमले की निंदा की है। उन्होंने उन लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है, जो रमजान की पवित्रता का उल्लंघन कर रहे हैं और आतंकवाद और अराजकता के कृत्य कर रहे हैं।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 20 Apr 2022, 03:25:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.