News Nation Logo
Banner

चीनी मोबाइल कंपनियां चुरा रही हैं भारतीयों की निजी जानकारियां, शक के बाद केंद्र सरकार ने भेजा नोटिस

सिक्किम के डोकाल में सीमा विवाद का असर अभ भारत और चीन के व्यापारिक रिश्तों पर भी पड़ने लगा है।

News Nation Bureau | Edited By : Kunal Kaushal | Updated on: 16 Aug 2017, 08:32:50 PM
प्रतीकात्मक फोटो

प्रतीकात्मक फोटो

highlights

  • चाइनीज स्मार्टफोन कंपनियों को सरकार ने भेजा नोटिस
  • चीनी कंपनियों पर ग्राहकों की निजी जानकारी लीक करने का शक

नई दिल्ली:

सिक्किम के डोकाला में सीमा विवाद का असर अब भारत और चीन के व्यापारिक रिश्तों पर भी पड़ने लगा है। भारत सरकार को शक है कि चीनी स्मार्टफोन कंपनियां भारतीय ग्राहकों की निजी जानकारियां चुरा रही है।

इसी को लेकर केंद्र सरकार ने ओपो, वीवी, जियोनी, शाओमी समेत करीब 21 कंपनियों को नोटिस भेजकर इसपर जवाब देने का आदेश दिया है।

गौतलब है कि भारत में ज्यादातर स्मार्टफोन चीन की कंपनियां बना रही है। सरकार को इस बात का डर है कि इन कंपनियों के जरिए ग्राहकों के निजी जानकारी को हैक किया जा सकता है। सबसे ज्यादा डर स्मार्टफोन के कॉन्टैक्ट लिस्ट और मैसेज को लेकर है जिससे ग्राहकों की निजी जानकारियों जुटाई जा सकती है।

हालांकि भारत सरकार की तरफ से ये नोटिस ना सिर्फ चाइनीज कंपनी बल्कि अमेरिकी कंपनी ऐपल, साउथ कोरिया की कंपनी सैमसंग और भारत की ही कंपनी माइक्रोमैक्स को भी जारी किया गया है।

ये भी पढ़ें: केरल में लव जिहाद मामले में सुप्रीम कोर्ट ने NIA जांच का दिया आदेश

सरकार ने इसका जवाब देने के लिए कंपनियों को 28 अगस्त तक का समय दिया है। इस बारे में सरकार के सूत्रों कहना है कि इस नोटिस का मकसद ये पता करना है कि कंपनियां नियमों का उल्लंघन तो नहीं कर रही है। अगर नियम के खिलाफ किसी ने ऐसा किया है तो सरकार उसके खिलाफ कार्रवाई भी कर सकती है।

गौरतलब है कि भारत में चीन से भारी मात्रा में इलेक्ट्रॉनिक्स और इन्फर्मेशन प्रॉडक्ट्स आयात किया जाता है। इसलिए सरकार सुरक्षा और डेटा लीकेज से जुड़े मुद्दों की समीक्षा कर रही है।

ये भी पढ़ें: अमेरिकी रिपोर्ट में दावा गोरक्षा के नाम पर मुस्लिमों को बनाया गया निशाना

First Published : 16 Aug 2017, 05:31:14 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो