News Nation Logo

जी-20 देशों से चीन पर सख्त रुख की मांग करेंगे वैश्विक नेता

जी-20 देशों से चीन पर सख्त रुख की मांग करेंगे वैश्विक नेता

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 29 Oct 2021, 09:45:01 PM
China flag

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

संजीव शर्मा

नई दिल्ली: चीन के मानवाधिकारों के हनन को अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के सामने बेनकाब करने के लिए जी-20 शिखर सम्मेलन के मौके पर रोम में चीन पर अंतर-संसदीय गठबंधन (आईपीएसी) की अभूतपूर्व बैठक हो रही है।

जी-20 के प्रतिभागी बैरी वार्ड ने एक ट्वीट में कहा, रोम से नमस्ते (हैलो फ्रॉम रोम)! मैं यहां आईपीएसी ग्लोबल के सह-अध्यक्ष के रूप में हूं और आज हम चीन और उसके मानवाधिकारों तथा कानून के शासन के अनादर के बारे में बात कर रहे हैं। जैसे ही जी-20 शिखर सम्मेलन शुरू हो रहा है, हम अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के सामने चीन के व्यवहार को उजागर कर रहे हैं।

जी-20 के एक अन्य प्रतिभागी गार्नेट जीनियस ने ट्वीट करते हुए कहा, मैं आईपीएसी ग्लोबल के पहले व्यक्तिगत सम्मेलन के लिए आज रोम में हूं। जैसे ही विश्व के नेता जी-20 के लिए एक साथ आए हैं, उन्हें मानवाधिकारों और कानून के शासन पर सीसीपी के हमलों का सामना करना होगा।

स्टॉप उइगर जेनोसाइड के ट्विटर अकाउंट से किए गए एक ट्वीट में कहा गया है, हर बार जब मैं किसी विश्व नेता को शी जिनपिंग से हाथ मिलाते हुए देखता हूं, तो मुझे याद आता है कि मेरे समुदाय का अस्तित्व उनके लिए एक स्टैंड लेने के लिए पर्याप्त नहीं है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 16वें जी-20 शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए रोम पहुंचे हैं। प्रधानमंत्री का इटली में इटली सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों और भारत के राजदूत ने स्वागत किया।

इस बीच आईपीएसी ने ट्वीट करते हुए कहा है कि दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के रूप में, भारत को नियम आधारित अंतर्राष्ट्रीय व्यवस्था को बनाए रखने में एक अभिन्न भूमिका निभानी है।

चीनी मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स ने अलगाववादियों के धर्मांतरण के रूप में आईपीएसी पर हमला किया है। ग्लोबल टाइम्स ने कहा कि ताइवान के विदेश मंत्री जोसेफ वू की यात्रा चीन की अलगाववादी ताकतों के अभिसरण के बारे में एक यात्रा है। इस महीने के अंत में, पश्चिम से चीन विरोधी सांसदों का एक समूह, चीन पर अंतर-संसदीय गठबंधन (आईपीएसी), रोम में एक बैठक करेगा। ग्लोबल टाइम्स ने आगे कहा कि चीन को विभाजित करने का लक्ष्य रखने वाले कई अलगाववादी समूहों के प्रमुख नेता बैठक में भाग लेंगे और वू को भी इसमें आमंत्रित किया गया है।

ग्लोबल टाइम्स ने कहा, वू, एक प्रमुख ताइवान समर्थक अलगाववादी, ने बार-बार चीनी मुख्य भूमि पर हमला किया है और इस चीन विरोधी गठबंधन के माध्यम से अलगाववादी विचारों की वकालत की है। वू की भागीदारी के साथ, ताइवान, तिब्बत, झिंजियांग और हांगकांग के अलगाववादियों का एक संयोजन बना है। यह आईपीएसी जैसी चीन विरोधी ताकतों द्वारा एक-चीन सिद्धांत के खिलाफ एक गंभीर उकसावे की कार्रवाई है।

ताइपे टाइम्स ने इससे पहले अपनी एक रिपोर्ट में बताया था कि अंतर-संसदीय गठबंधन ने कहा है कि सम्मेलन बीजिंग द्वारा लक्षित नेताओं पर ध्यान केंद्रित करने के लिए है और इसमें तिब्बत, हांगकांग और उइगर कार्यकर्ताओं को भी आमंत्रित किया गया है।

ताइवान के विदेश मंत्री जोसेफ वू को चीन पर अंतर-संसदीय गठबंधन, वैश्विक नेताओं के एक अंतरराष्ट्रीय क्रॉस-पार्टी समूह द्वारा शुक्रवार को रोम में अपनी बैठक के लिए आमंत्रित किया गया है।

समूह ने एक बयान में कहा, चीन पर अंतर-संसदीय गठबंधन (आईपीएसी) के प्रतिनिधि - लगभग 200 वैश्विक सांसदों का एक निकाय - चीनी सरकार के प्रति सख्त रुख की मांग के लिए जी-20 लीडर्स समिट से पहले एक जवाबी बैठक करने के लिए रोम में इकट्ठा होंगे।

सम्मेलन में पांच महाद्वीपों के सांसद चीनी सरकार द्वारा लक्षित समूहों के प्रमुख नेताओं के साथ मुलाकात करेंगे, जिनमें ताइवान के विदेश मंत्री जोसेफ वू, केंद्रीय तिब्बती प्रशासन के सिक्योंग पेनपा त्सेरिंग, हांगकांग के पूर्व राजनीतिज्ञ नाथन लॉ और उइगर कलाकार और कार्यकर्ता रहीमा महमुत शामिल हैं।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 29 Oct 2021, 09:45:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.