News Nation Logo
Banner

चीन को हांगकांग से राजधानी तक करना पड़ रहा जनशक्ति के पलायन का सामना

चीन को हांगकांग से राजधानी तक करना पड़ रहा जनशक्ति के पलायन का सामना

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 30 Aug 2021, 12:15:01 AM
china flag

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

हांगकांग: एक सर्वेक्षण ने चीन को हांगकांग के निवासियों के बीच बढ़ते मोहभंग और अगले पांच वर्षों के अंत में अंतत: दस लाख से अधिक आबादी के पलायन की संभावना को लेकर चिंतित कर दिया है।

राजनीतिक मुद्दे और व्यक्तिगत स्वतंत्रता और मानवाधिकारों का क्रमिक क्षरण पलायन का उतना ही प्राथमिक कारण है, जितना कि रहने की जगह की कमी और स्थानीय सरकार में विश्वास कम करना। द्वीप की आबादी का कम से कम पांचवां हिस्सा प्रवास के बारे में सोच रहा है या वर्तमान में प्रवास की प्रक्रिया में है।

हांगकांग के चीनी विश्वविद्यालय में हांगकांग इंस्टीट्यूट ऑफ एशिया-पैसिफिक स्टडीज ने कठोर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून लागू करने के बाद द्वीप से उत्प्रवास पर उनके विचार प्राप्त करने के लिए एक टेलीफोन सर्वेक्षण किया। लगभग 44 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने कहा कि जब उन्हें मौका मिलेगा तो वे प्रवास करेंगे। उनमें से पैंतीस प्रतिशत ने इसके लिए तैयारी शुरू कर दी है। उनमें से अधिकांश तीन स्थानों - युनाइटेड किंगडम, ऑस्ट्रेलिया और ताइवान में जाना पसंद करेंगे।

वे कौन से कारक हैं जो उन्हें हांगकांग छोड़ने के लिए प्रेरित कर रहे हैं? सर्वेक्षण द्वारा शीर्ष चार कारकों को सूचीबद्ध किया गया है :

हांगकांग विशेष प्रशासनिक क्षेत्र सरकार, मुख्य कार्यकारी, वरिष्ठ अधिकारियों या सरकारी नीतियों से असंतोष (27.3 प्रतिशत), बहुत अधिक राजनीतिक विवाद/सामाजिक दरार (23.6 प्रतिशत), स्वतंत्रता, मानवाधिकार या सूचना की स्वतंत्रता कमजोर हो रहा है (19.8 प्रतिशत), हांगकांग में कोई लोकतंत्र नहीं (17.6 प्रतिशत)।

सर्वेक्षण में उन शीर्ष चार कारकों को भी सूचीबद्ध किया गया है जो उन्हें उन देशों की ओर आकर्षित करते हैं, जहां वे प्रवास करना चाहते हैं : अधिक स्वतंत्रता और मानवाधिकारों के लिए बेहतर स्थितियां (23.3 प्रतिशत), पर्याप्त रहने की जगह (19.4 प्रतिशत), राजनीतिक प्रणाली अधिक लोकतांत्रिक (18.70 प्रतिशत) और हांगकांगों के लिए आप्रवास की शर्तों में ढील दी जा रही है (15.2 प्रतिशत)।

रॉयटर्स ने बताया है कि राष्ट्रीय सुरक्षा कानून लागू करने के बीजिंग के कदम ने ब्रिटेन को 31 जनवरी से ब्रिटिश नेशनल ओवरसीज (बीएनओ) पासपोर्ट के लिए पात्र लगभग 3 मिलियन हांगकांग निवासियों को शरण देने के लिए प्रेरित किया है।

यूके ने हांगकांग के निवासियों को ब्रिटिश नेशनल ओवरसीज (बीएनओ) नागरिकता और उनके करीबी रिश्तेदारों को यूके में पांच-पांच साल की दो अवधियों के लिए रहने का अवसर प्रदान किया है। वे देश में अपने छह साल के निवास के अंत में नागरिकता के लिए आवेदन करने के पात्र होंगे।

ईस्ट एशिया फोरम के अनुसार, जो पूर्वी एशिया और प्रशांत क्षेत्र में अर्थशास्त्र, राजनीति और सार्वजनिक नीति पर केंद्रित है, यूके सरकार का अनुमान है कि 5.4 मिलियन हांगकांग निवासी, या हांगकांग की अनुमानित आवासीय आबादी का 72 प्रतिशत, यहां जाने के लिए पात्र होंगे।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 30 Aug 2021, 12:15:01 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.