News Nation Logo

BREAKING

Banner

जिस चीन पर कोरोना फैलाने का शक अब उसी ने किया दवा बनाने का दावा

पूरी दुनिया में इस समय कोरोना वायरस का कहर देखने को मिल रहा है. इस वायरस के लिए पूरी दुनिया चीन को जिम्मेदार मान रही है. उसी ने अब दावा बनाने का दावा किया है.

News Nation Bureau | Edited By : Yogendra Mishra | Updated on: 30 Mar 2020, 07:40:36 PM
corona vaccine

प्रतीकात्मक फोटो। (Photo Credit: Twitter-@globaltimesnews)

नई दिल्ली:

पूरी दुनिया में इस समय कोरोना वायरस का कहर देखने को मिल रहा है. इस वायरस के लिए पूरी दुनिया चीन को जिम्मेदार मान रही है. लेकिन जिस चीन को पूरी दुनिया कोरोना वायरस फैलाने के लिए जिम्मेदार मान रही है अब उसी चीन ने इस बीमारी की वैक्सीन बनाने का दावा किया है. चीन में कोरोना वायरस से 81000 से ज्यादा मामले आ चुके हैं.

यह भी पढ़ें- कोरोनाः दारुल उलूम देवबंद ने CM योगी को दिया प्रस्ताव, बनाया जाए आइसोलेशन वार्ड

वहीं 3300 लोगों की इस वायरस से मौत हो गई है. वहीं अब चीनी वैज्ञानिकों ने दावा कि है कि उन्होंने वायरस को शरीर में ही नष्ट करने का नया तरीका ईजाद कर लिया है.

चीनी सरकारी मिडिया ग्लोबल टाइम्स ने एक ट्वीट कर कहा कि चीनी वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस से लड़ने के लिए हथियार बना लिया है. चीन का दावा है कि उन्होंने एक ऐसा नैनोमटीरियल बना लिया है जो शरीर में प्रवेश करके कोरोना वायरस को सोख लेता है और उसके बाद उसके बाद 96.5 से 99.9 प्रतिशत सफलता के साथ निष्क्रिय करने में सक्षम है. वैज्ञैनिकों के मुताबिक ये कोई दवा नहीं है और न ही इसे वैक्सीन कहा जा सकता है. ये एक बायोवेपन है. इसे कोरोना वायरस से बचने के लिए बनाया गया है.

नैनोमटीरियल क्या है

नैनोमटीरियल कई तरह की मैन्यूफैक्चरिंग प्रोसेस में इस्तेमाल किया जाता है. ये हेल्थकेयर के अलावा, पेंट, इन्सुलेशन और लुब्रिकेंट पैदा करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है. हेल्थकेयर की बात करें तो इन्हें नैनोजाइम्स कहा जाता है. ये इंसानी शरीर में पाए जाने वाले एंजाइम्स की तरह काम करते हैं.

यह भी पढ़ें- Lock Down: दिल्ली सरकार ने कक्षा आठ तक के छात्रों को बिना परीक्षा दिए प्रोन्नत करने का फैसला किया

अमेरिकी वैज्ञानिकों का कहना है कि नैनोमटेरियल के बारे में अभी दुनिया ज्यादा नहीं जानती. लेकिन इन्हें कुछ विशेष कामों में इस्तेमाल के लिए तैयार किया जा सकता है. ये शरीर में आसानी से प्रवेश कर जाते हैं. क्योंकि यह बेहद छोटे होते हैं.

First Published : 30 Mar 2020, 07:40:36 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×