News Nation Logo
Banner

आतंकी मसूद अजहर को लेकर बार-बार अड़ंगा लगाने वाला चीन ऐसे माना

मसूद को वैश्‍विक आतंकी घोषित करने में हुई इतनी देरी के पीछे चीन था और उसी चीन ने जैसे ही अजहर के सिर से अपना हाथ हटाया संयुक्‍त राष्‍ट्र सुरक्षा परिषद ने उसे ग्‍लोबल टेररिस्‍ट (Global Terrorist) घोषित कर दिया.

News Nation Bureau | Edited By : Drigraj Madheshia | Updated on: 02 May 2019, 06:32:55 AM
प्रतिकात्‍मक चित्र

प्रतिकात्‍मक चित्र

नई दिल्‍ली:

संसद, पुलवामा, पठानकोट, उरी में आतंकी हमलों के मास्‍टरमाइंड और जैश-ए-मोहम्‍मद के सरगना मसूद अजहर (Masood Azhar) को ग्‍लोबल टेररिस्‍ट (Global Terrorist) घोषित कर दिया गया है. यानी अब पूरी दुनिया ने मान लिया है कि मसूद अजहर आतंक का अंतराष्‍ट्रीय आका है. मसूद को वैश्‍विक आतंकी घोषित करने में हुई इतनी देरी के पीछे चीन था और उसी चीन ने जैसे ही अजहर के सिर से अपना हाथ हटाया संयुक्‍त राष्‍ट्र सुरक्षा परिषद ने उसे ग्‍लोबल टेररिस्‍ट (Global Terrorist) घोषित कर दिया. आइए जानें चार बार अड़ंगा लगाने के बाद ड्रैगन क्‍यों पीछे हटा..

यह भी पढ़ेंः भारत की सबसे बड़ी कूटनीतिक जीत, UN ने मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी किया घोषित

पुलवामा हमले के बाद भारत ने पाकिस्‍तान और चीन दोनों पर जबर्दस्‍त इंटरनेशनल प्रेशर डाला, लेकिन चीन हर बार की तरह टस से मस नहीं हुआ और उसने वही किया, जो करता आ रहा था- मतलब मसूद अजहर (Masood Azhar) को ग्‍लोबल टेररिस्‍ट किए जाने की राह में रोड़ा अटका दिया.

यह भी पढ़ेंः जानें कौन है CRPF पर हुए हमले का मास्टरमाइंड वैश्विक आतंकी मौलाना मसूद अजहर

दरअसल मोदी सरकार ने अमेरिका, फ्रांस, ब्रिटेन और जर्मनी के जरिए चीन पर जबर्दस्‍त दबाव बनाया. भारत ने बैक चैनल चीन को लगातार समझाया कि आतंकवाद के मुद्दे पर उसकी नीति खतरनाक हो सकती है. चीन को जर्मनी, अमेरिका, फ्रांस और ब्रिटेन उसे मसूद अजहर के मुद्दे पर आंखें दिखा चुके थे. इन देशों के साथ चीन अरबों डॉलर का कारोबार है.

यह भी पढ़ेंः अब बेनकाब होगा पाकिस्‍तान, करनी पड़ेगी आतंक के आका मसूद अजहर पर ये कार्रवाई

वहीं भारत ने भी ड्रैगन को यह समझा दिया कि अगर वह मसूद अजहर पर संवेदनशीलता नहीं दिखाएगा तो भारत, साउथ चाइना सी से लेकर, तिब्‍बत, ताईवाल, शिनजियांग तक बगावत झेल रहे चीन के सामने चुनौती पेश कर देगा. भारत का यह आक्रामक रुख और इंटरनेशनल प्रेशर चीन नहीं झेल पाया और झुक गया.

यह भी पढ़ेंः पुलवामा के 75 दिन बाद जानें कहां है आतंक का आका मसूद अजहर

इसके अलावा ऑर्गनाइजेशन ऑफ इस्‍लामिक कोऑपरेशन (OIC) में पाकिस्‍तान लगातार चीन को सपोर्ट कर रहा था, लेकिन इस बार सुषमा स्‍वराज की OIC में मौजूदगी और पाकिस्‍तानी विदेश मंत्री की गैरमौजूदगी ने चीन को बता दिया कि वह जिस पाकिस्‍तान पर दांव लगा रहा है, उसकी इस्‍लामिक देशों में कोई साख नहीं बची है. OIC में चीन को विरोध का सामना करना पड़ता है, क्‍योंकि वह शिनजियांग में उइगर मुस्लिमों पर जुल्‍म कर रहा है.

यह भी पढ़ेंः मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के बाद, फ्रांस ने दिया बड़ा बयान

एक कारण यह भी है कि चीन-पाक आर्थिक गलियारा की सुरक्षा को लेकर बीजिंग डरा हुआ था. वह लगातार पाकिस्‍तान सरकार से सुरक्षा का एश्‍योरेंस मांग रहा था, जो उसे मिला नहीं. पाकिस्‍तान में मसूद अजहर के पास इतनी ताकत तो है कि वह उसके गलियारे पर हमले करा दे.

यह भी पढ़ेंः मसूद अजहर को Global Terrorist घोषित किए जाने के बाद BJP ने कहा, 'मोदी है तो मुमकिन है'

बता दें पाकिस्‍तान लगातार चीन के साथ मिलकर मसूद अजहर (Masood Azhar) को ग्‍लोबल टेररिस्‍ट घोषित किए जाने से रोक रहा था. दुनिया में आतंकवाद के खिलाफ बन रहे माहौल को चीन और पाकिस्‍तान पहचान नहीं पा रहे थे. पाकिस्‍तान की तो अपनी मजबूरी थी, जबकि चीन की अपनी दुश्‍वारियां, लेकिन इस बार कुछ भी काम न आया.

First Published : 01 May 2019, 08:33:36 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो