News Nation Logo
Banner

ईवीएम को बलि का बकरा बनाया जा रहा क्योंकि मशीनें बोल नहीं सकतीं: सीईसी

देश के मुख्य निर्वाचन आयुक्त ओ.पी. रावत ने चुनावों के लिए बैलेट पेपर को वापस लाने की सभी संभावनाओं को खारिज करते हुए शनिवार को कहा कि 'ईवीएम को बलि का बकरा बनाया जा रहा है, क्योंकि मशीनें बोल नहीं सकतीं'

IANS | Updated on: 02 Jun 2018, 09:40:11 PM
ओपी रावत (आईएएनएस फोटो)

ओपी रावत (आईएएनएस फोटो)

कोलकाता:

देश के मुख्य निर्वाचन आयुक्त ओ.पी. रावत ने चुनावों के लिए बैलेट पेपर को वापस लाने की सभी संभावनाओं को खारिज करते हुए शनिवार को कहा कि 'ईवीएम को बलि का बकरा बनाया जा रहा है, क्योंकि मशीनें बोल नहीं सकतीं' और राजनीतिक दलों को अपनी हार के लिए किसी न किसी को जिम्मदार ठहराने की जरूरत होती है।

मर्चेट्स चेंबर ऑफ कामर्स एंड इंडस्ट्री द्वारा आयोजित 'निर्वाचन ईमानदारी और चुनावों में धन की भूमिका' पर आयोजित एक इंटरएक्टिव सत्र में यहां रावत ने कहा, 'प्रणाली की ईमानदारी के बारे में वास्तव में कुछ भी नहीं है। हालांकि जब भी इस मुद्दे पर सवाल उठते हैं, हम स्पष्टीकरण देते हैं।'

उन्होंने कहा कि आयोग ने पिछली जुलाई को सर्वदलीय बैठक में घोषित किया था कि आगे से सभी चुनाव वोटर वेरिफियेबल पेपर ऑडिट ट्रेल (वीवीपैट) मशीनों के साथ ईवीएम का प्रयोग करके किए जाएंगे।

और पढ़ेंः तूतीकोरिन हिंसा: मद्रास हाईकोर्ट ने राज्य सरकार से 6 जून तक मांगा जवाब, पूछा- क्यों हुई हिंसा?

उन्होंने कहा, 'मतदान प्रक्रिया में पारदर्शिता और विश्वसनीयता बढ़ाने के लिए ईवीएम के साथ वीवीपैट का प्रयोग भी किया जाएगा।'

रावत ने कहा, 'राजनीतिक दलों द्वारा ईवीएम को आसानी से बलि का बकरा बना दिया जाता है, क्योंकि वह बोल नहीं सकती और राजनीतिक दलों को अपनी हार का ठीकरा फोड़ने के लिए किसी न किसी चीज की जरूरत होती है।'

उन्होंने दावा किया कि भारत में मुक्त व निष्पक्ष चुनाव की प्रक्रिया ने विश्व को प्रभावित किया है।

रावत ने कहा, 'यह प्रशंसा योग्य बात है कि इतनी बड़ी संख्या में मतदाताओं के बावजूद, चुनाव आयोग कुछ ही घंटों में परिणाम देने में सक्षम है।'

उन्होंने कहा, 'चुनावों में धन और ताकत के प्रयोग को समाप्त करने के लिए व्यापक कदम उठाए जा रहे हैं।'

और पढ़ें: RSS के कार्यक्रम में शामिल होने पर प्रणव मुखर्जी ने तोड़ी चुप्पी, कहा-नागपुर से ही दूंगा जवाब

First Published : 02 Jun 2018, 09:39:47 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×