News Nation Logo

विदेशी कंपनियों को पछाड़ा, 100 से ज्यादा रिसर्च बेस्ड दवाएं बनाई: बाबा रामदेव

बाबा रामदेव का कहना है कि मौजूदा समय में पतंजलि में 500 से ज्यादा वैज्ञानिक काम कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि पतंजलि की सेवाओं पर हमें गर्व है.

News Nation Bureau | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 13 Jul 2021, 12:26:17 PM
Baba Ramdev

Baba Ramdev (Photo Credit: NewsNation)

highlights

  • बाबा रामदेव ने कहा है कि भविष्य में नया विश्वविद्यालय बनाने की योजना है
  • अगले पांच साल में 5 लाख लोगों को और रोजगार देने की योजना है: बाबा रामदेव

हरिद्वार:

योग गुरु बाबा रामदेव (Ramdev) ने भविष्य की योजनाओं को लेकर जानकारी साझा की है. उन्होंने दावा किया है कि पतंजलि योगपीठ (Patanjali Yogpeeth) ने आत्मनिर्भर भारत की प्रेरणा को लेकर काम किया है और देश की समृद्धि में काफी योगदान दिया है. बाबा रामदेव ने कहा है कि भविष्य में नया विश्वविद्यालय बनाने की योजना है. उन्होंने कहा कि हमने विदेशी कंपनियों के एकाधिकार को चुनौती दी है और सभी विदेशी कंपनियों को भी पीछे छोड़ दिया है. रामदेव ने कहा कि 5 लाख लोगों को रोजगार दिया है और अगले पांच साल में 5 लाख लोगों को और रोजगार देने की योजना है.

यह भी पढ़ें: बिहार में जनसंख्या नियंत्रण कानून को लेकर बंटे तमाम राजनीति दल

100 से ज्यादा रिसर्च आधारित दवाईयां बनाई

बाबा रामदेव (Baba Ramdev) का कहना है कि पतंजलि ने 100 से ज्यादा रिसर्च आधारित दवाईयां बनाई हैं. साथ ही परंपरागत और सांस्कृतिक औषधियों को भी बरकार रखा हुआ है. उन्होंने कहा कि मौजूदा समय में पतंजलि में 500 से ज्यादा वैज्ञानिक काम कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि हमें पतंजलि की सेवाओं पर गर्व है. योग के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि आज के समय में योग से एक बड़ा तबका जुड़ा हुआ है और इसने असाध्य रोगों को भी ठीक किया है. उन्होंने पतंजलि ग्रुप की 25 हजार करोड़ रुपये के टर्नओवर से 2025 तक की विस्तार योजना के बारे चर्चा की. स्वामी रामदेव ने कहा कि पतंजलि ब्रांड नहीं एक आदोलन है. 

यह भी पढ़ें: उप्र : अपहरण की फर्जी कहानी रच महिला ने 50 हजार में अपने बच्चे को बेचा

उन्होंने पतंजलि (Patanjali) की भविष्य की भूमिका के बारे में बताते हुए कहा कि भविष्य में हमारा ध्यान रिसर्च, हेल्थ और एजुकेशन पर केंद्रित रहेगा. इसके अलावा कृषि (Agriculture) के क्षेत्र में भी ध्यान केंद्रित करना है. उन्होंने कहा कि हमने 2 व्यक्ति से योग को सिखाना शुरू किया था और आज दुनिया के 200 देश के 100-200 करोड़ लोग रोजाना या कभी-कभी योग करते हैं.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 13 Jul 2021, 12:19:03 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो