News Nation Logo

निर्भया गैंगरेप: SC के फैसले पर केंद्र सरकार ने भी जताई खुशी, रविशंकर प्रसाद ने कहा इस फैसले का इंतजार पूरे देश को था

निर्भया गैंगरेप के आरोपियों की फांसी की सजा बरकरार रखने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर देश की आम जनता के साथ ही केंद्र सरकार ने भी खुशी जताई है

News Nation Bureau | Edited By : Kunal Kaushal | Updated on: 05 May 2017, 06:12:01 PM

नई दिल्ली:

निर्भया गैंगरेप के आरोपियों की फांसी की सजा बरकरार रखने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर देश की आम जनता के साथ ही केंद्र सरकार ने भी खुशी जताई है। फैसले पर केंद्र सरकार की तरफ से प्रतिक्रिया देते हुए केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा, 'आज निर्भया की आत्मा को शांति मिलेगी होगी।'

पत्रकारों से फैसले पर संतुष्टि जताते हुए रविशंकर प्रसाद ने कहा, 'भारतीय न्याय व्यवस्था के लिए ये बड़ा दिन है। मैं जानता हूं ये पूरे देश के लिए एक संवेदनशील मुद्दा है। लेकिन मैं कोर्ट के फैसले से बहुत खुश हूं। मुझे उम्मीद है कि अब निर्भया की आत्मा को संतुष्टि मिली होगी।

रविशंकर प्रसाद के मुताबिक इस फैसले का इंतजार सिर्फ निर्भया के माता-पिता को ही नहीं बल्कि पूरे देश को था। 16 दिसंबर 2012 को दक्षिणी दिल्ली के मुनिरका इलाके में एक बस में हुए गैंगरेप में निचली अदालत ने 5 दोषियों को फांसी की सजा सुनाई थी। इसके बाद मामला दिल्ली हाई कोर्ट पहुंचा था और हाई कोर्ट ने भी फांसी की सजा को बरकरार रखा था।

हालांकि इसी बीच एक दोषी राम सिंह ने तिहाड़ जेल में आत्महत्या कर ली थी। इसके बाद ये मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा जहां करीब दो साल की सुनवाई के बाद सुप्रीम कोर्ट ने भी बाकी बचे 4 आरोपियों की फांसी की सजा को बरकरार रखा। एक नाबालिग दोषी भी इस गैंगरेप में शामिल था जिसको जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड ने तीन साल के लिए बाल सुधार गृह भेज दिया था।

इसे भी पढ़ेंः निर्भया गैंगरेप के ये हैं 6 गुनाहगार, सुप्रीम कोर्ट फांसी की सजा को रखा बरकरार

सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले पर निर्भया के माता-पिता ने भी संतुष्टि जताई है और कहा है कि 'देर जरूर लगी लेकिन उन्हें न्याय मिला अब कोई गिला नहीं है।'

ये भी पढ़ें: सुप्रीम कोर्ट ने दोषियों की फांसी की सजा को रखा बरकरार

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 05 May 2017, 04:46:00 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.