News Nation Logo

केंद्र का राज्यों को निर्देश- हर कोरोना केस पर 25-30 लोगों की हो कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग

केंद्र ने कोरोना के लगातार बढ़ते मामलों के बाद राज्यों को निर्देश दिया है कि हर कोरोना केस पर कम से कम 25 से 30 लोगों की कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग (Contact Tracing) की जानी चाहिए. इसके अलावा आइसोलेशन सेंटर्स की बेहतर व्यवस्था किए जाने की जरूरत है.

News Nation Bureau | Edited By : Kuldeep Singh | Updated on: 31 Mar 2021, 06:56:39 AM
corona

हर कोरोना केस पर 25-30 लोगों की होगी कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • केंद्र सरकार ने राज्यों को जारी किए हैं दिशानिर्देश
  • RT-PCR टेस्ट की संख्या बढ़ाए जाने पर जोर
  • कोरोना के लगातार बढ़ते मामलों को देखते हुए लिया फैसला

नई दिल्ली:

देश में लगातार बढ़ते कोरोना के मामलों को देखते हुए केंद्र सरकार अलर्ट हो गई है. केंद्र ने राज्यों से ज्यादा सघन कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग (Contact Tracing) करने को कहा है. केंद्र सरकार का कहना है कि प्रत्येक कोरोना केस पर कम से 25 से 30 लोगों की कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग की जानी चाहिए. इसके अलावा आइसोलेशन सेंटर्स की बेहतर व्यवस्था किए जाने की जरूरत है. केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कोरोना की दूसरी लहर को रोकने के लिए जिला केंद्रित रणनीति तैयार करने पर जोर दिया है. देश में कई ऐसे जिले हैं जहां पर किसी एक इवेंट या भीड़भाड़ की वजह से एकाएक मामले बढ़े हैं. ऐसी जगहों पर कोरोना संबंधी नियमों का सख्ती से पालन किया जाना चाहिए.

जिला स्तर पर तैयान हो प्लान
कोरोना के लगातार बढ़ते मामलों को देखते हुए जिला स्तर पर ही रणनीति बनानी होगी. राजेश भूषण ने कहा है कि प्रत्येक जिले को केस बढ़ने पर एक एक्शन प्लान के तहत काम करना चाहिए जिसे समयसीमा के आधार पर पूरा किया जाए. कोरोना के मामलों को रोकने के लिए जिम्मेदारी तय किए जाने पर जोर दिया गया है. उन्होंने कहा-जिन जगहों पर अधिक संख्या में केस मिल रहे हैं वहां पर बड़े कंटेनमेंट जोन बनाने होंगे. साथ ही कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग की प्रक्रिया को और अधिक विस्तृत-सघन बनाना होगा.

ज्यादा प्रभावित जिलों में बढ़ानी होगी वैक्सीनेशन स्पीड
स्वास्थ्य सचिव ने यह भी कहा कि जिन जिलों में अधिक संख्या में केस सामने आ रहे हैं वहां पर वैक्सीनेशन की रफ्तार को तेज करना होगा. साथ ही प्राथमिकता के आधार पर 45 से अधिक वर्ष के लोगों का वैक्सीनेशन किया जाना चाहिए. देश में कई ऐसे जिले हैं जहां पर किसी एक इवेंट या भीड़भाड़ की वजह से एकाएक मामले बढ़े हैं. ऐसी जगहों पर कोरोना संबंधी नियमों का सख्ती से पालन किया जाना चाहिए. मास्क पहनने, हाथ धुलने और सोशल डिस्टेंसिंग जैसे अनिवार्य नियमों का पालन बेहद जरूरी है.

RT-PCR टेस्ट की संख्या बढ़ाए जाने पर जोर
देश में बढ़ते कोरोना के मामलों का जिक्र करते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य राजेश भूषण ने बताया कि संक्रमण का साप्ताहिक राष्ट्रीय पॉजिटिविटी रेट 5.65% है वहीं महाराष्ट्र में कोविड की चपेट में आने की दर 23% है. पंजाब में यह आंकड़ा 8.82 फीसदी है. छत्तीसगढ़ में संक्रमित होने वालों की साप्ताहिक दर आठ फीसदी है. वहीं गुजरात में 2.2% और दिल्ली की पॉजिटिविटी रेट 2.04% है. केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने इन राज्यों में कोरोना की जांच के लिए RT-PCR टेस्ट की संख्या बढ़ाए जाने पर जोर दिया.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 31 Mar 2021, 06:56:39 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो