News Nation Logo

सरकारी संस्थानों में बच्चों की विशेषज्ञों से देखभाल की योजना बना रहा केंद्र

सरकारी बाल देखभाल संस्थाओं में रहने वाले बच्चों को विशेषज्ञों द्वारा देखभाल प्रदान करने की दृष्टि से देशभर में महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने आईएपी को साथ जोड़ा है. 2000 से अधिक सीसीआई के हजारों बच्चे इस सेवा से जोड़ा है.

By : Shailendra Kumar | Updated on: 12 May 2021, 12:20:49 AM
Orlando Bloom become parents to baby girl

संस्थानों में बच्चों की विशेषज्ञों से देखभाल की योजना बना रहा केंद्र (Photo Credit: IANS)

highlights

  • सरकारी संस्थानों में बच्चों की विशेषज्ञों से देखभाल की योजना बना रहा केंद्र
  • देशभर में महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने इंडियन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स को साथ जोड़ा है
  • 2000 से अधिक सीसीआई के हजारों बच्चे इस सेवा के माध्यम से लाभान्वित होंगे

नई दिल्ली:

सरकारी बाल देखभाल संस्थाओं (सीसीआई) में रहने वाले बच्चों को विशेषज्ञों द्वारा देखभाल प्रदान करने की दृष्टि से देशभर में महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ( Ministry of Women and Child Development ) ने इंडियन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स ( आईएपी ) को साथ जोड़ा है. 2000 से अधिक सीसीआई के हजारों बच्चे इस सेवा के माध्यम से लाभान्वित होंगे. केयर-टेकर्स/चाइल्ड प्रोटेक्शन ऑफिसर देश के दूरस्थ कोनों से भी बाल रोग विशेषज्ञों द्वारा इस टेलीमेडिसिन सेवा का लाभ सप्ताह में 6 दिन ले सकेंगे. केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने ट्वीट्स की एक श्रृंखला में उन्होंने बताया, यह बाल संरक्षण सेवाओं के लिए योजना के तहत बच्चों को प्रदान की जाने वाली चिकित्सा देखभाल के अतिरिक्त होगा.

य़ह भी पढ़ें : आजम खां की हालत नाजुक, निमोनिया के चलते ऑक्सीजन लेवल हुआ कम

आईएपी के सदस्यों का मजबूत नेटवर्क है

एक अन्य ट्वीट में ईरानी ( Smriti Irani ) ने लिखा, वर्तमान में विशेषज्ञों की टीमें, जिनके पास 30,000 इंडियन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स ( आईएपी ) के सदस्यों का मजबूत नेटवर्क है, कमजोर बच्चों को सेवाएं देने के लिए सेंट्रल, जोनल, राज्य और शहरी स्तर पर गठित किए जा रहे हैं. हर सरकारी या सहायता प्राप्त सीसीआई में एक विशेषज्ञ होगा जो आईएपी द्वारा उपलब्ध करवाया जाएगा.

य़ह भी पढ़ें : चुनावों में कांग्रेस की हार की जांच के लिए सोनिया गांधी ने समिति बनाई

विशेषज्ञ चिकित्सा परामर्श सिर्फ एक फोन कॉल की दूरी पर होगा
इंडियन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स ( Indian Academy of Pediatrics ) और उसके सदस्यों का कमजोर बच्चों को अपनी सेवाएं देने के लिए धन्यवाद करते हुए मंत्री ने ट्वीट किया, उनकी प्रतिबद्धता और भारत सरकार के दृढ़ प्रयास से सरकारी बाल देखभाल केंद्रों में रहने वाले बच्चों के लिए विशेषज्ञ चिकित्सा परामर्श ( Specialist medical consultation ) सिर्फ एक फोन कॉल की दूरी पर होगा.

य़ह भी पढ़ें : महाराष्ट्र में सामने आए कोरोना के 40,956 नए मामले, 793 मरीजों की मौत

 

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 12 May 2021, 12:18:17 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.