News Nation Logo

छत्तीसगढ़ में प्रमुख पुलों, सड़कों के निर्माण कार्य के लिए केंद्रीय बल देंगे सुरक्षा

छत्तीसगढ़ में प्रमुख पुलों, सड़कों के निर्माण कार्य के लिए केंद्रीय बल देंगे सुरक्षा

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 13 Nov 2021, 04:05:01 PM
Central force

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: छत्तीसगढ़ में तैनात केंद्रीय बल अब कट्टर नक्सली इलाकों में रणनीतिक पुलों और राजमार्गो के निर्माण कार्यो को विशेष सुरक्षा मुहैया कराएंगे।

नक्सलियों के निर्माण स्थलों पर हमले के कारण निर्माण कार्य प्रभावित हुआ है।

पहले राज्य पुलिस द्वारा सुरक्षा प्रदान की जाती थी, लेकिन अब यह निर्णय लिया गया है कि केंद्रीय बल सुरक्षा कवर प्रदान करेंगे।

गृह मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, सड़क क्षेत्र में समृद्धि लाती है, यह क्षेत्र प्रभुत्व के लिए सुरक्षा बलों की आसान और तेज आवाजाही की सुविधा भी देती है। यही कारण है कि सड़क निर्माण का रणनीतिक हिस्सा अब मिशन मोड में शुरू किया जाएगा।

बटालियन के केंद्रीय बल जैसे केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ), भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी), सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) और सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) सुकमा, दंतेवाड़ा और बीजापुर में आवंटित कम से कम 12 रणनीतिक सड़कों पर सुरक्षा प्रदान करेंगे।

12 में से पांच सुकमा जिले में, एक दंतेवाड़ा में, चार बीजापुर में जबकि दो सड़कें बीजापुर-सुकमा सीमा और दंतेवाड़ा-सुकमा के सीमावर्ती क्षेत्रों में स्थित हैं।

2010-11 में कुल 479 किलोमीटर की रणनीतिक सड़कों के निर्माण के लिए मंजूरी दी गई थी, लेकिन लगभग 215 किलोमीटर की सड़क अभी भी लंबित है।

215 किलोमीटर में से, भेजी को चिंतागुफा रोड से जोड़ने वाले 10 किलोमीटर के हिस्से को जून 2022 तक पूरा किया जाना है, जबकि गोलापल्ली-पैदागुडेम को अगले साल मार्च तक पूरा करना है।

इन वर्गों को पूरा करने का निर्णय 26 सितंबर को नई दिल्ली में आयोजित वार्षिक नक्सल समीक्षा बैठक के दौरान लिया गया था, जिसकी अध्यक्षता केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने देश के आठ माओवादी प्रभावित राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ की थी।

बैठक के दौरान छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इन कार्यों को पूरा करने के लिए अतिरिक्त केंद्रीय सुरक्षा बलों को तैनात करने का अनुरोध किया था।

यह निर्णय अधिकांश वामपंथी उग्रवाद वाले क्षेत्रों में नक्सलियों के पदचिह्नें में कमी के बीच आया है, जहां केंद्रीय सुरक्षा बलों ने अपने प्रभुत्व का विस्तार किया है।

सुरक्षा बलों के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि छत्तीसगढ़ में तथाकथित रेड कॉरिडोर में गहरी पैठ बनाने के लिए बेहतर कनेक्टिविटी सुरक्षाबल के लिए एक फायदेमंद है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 13 Nov 2021, 04:05:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.