News Nation Logo

सीईसी सुशील चंद्रा ने अंतर्राष्ट्रीय पर्यवेक्षक के रूप में उज्बेकिस्तान का दौरा किया

सीईसी सुशील चंद्रा ने अंतर्राष्ट्रीय पर्यवेक्षक के रूप में उज्बेकिस्तान का दौरा किया

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 28 Oct 2021, 07:45:01 PM
CEC Suhil

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: मुख्य चुनाव आयुक्त (सीईसी) सुशील चंद्रा ने राष्ट्रपति चुनाव के लिए अंतर्राष्ट्रीय पर्यवेक्षक के तौर पर हाल ही में उज्बेकिस्तान का दौरा किया।

भारत के मुख्य निर्वाचन आयुक्त चंद्रा ने उज्बेकिस्तान के केंद्रीय चुनाव आयोग के अध्यक्ष के निमंत्रण पर 24 अक्टूबर, 2021 को हुए राष्ट्रपति चुनाव के संचालन का निरीक्षण करने के लिए उज्बेकिस्तान में तीन सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया।

नई चुनाव संहिता के तहत कराए गए इस चुनाव पर अंतर्राष्ट्रीय समुदाय की पैनी नजर रही है।

चंद्रा और उज्बेकिस्तान के सीईसी जैनिद्दीन एम. निजामखोदजेव ने 21 अक्टूबर, 2021 को चुनावी सहयोग पर एक द्विपक्षीय बैठक की।

उन्होंने चंद्रा को उनका निमंत्रण को स्वीकार करने के लिए धन्यवाद दिया और उन्हें एकल इलेक्ट्रॉनिक मतदाता सूची, मतदान के दिन व्यक्तिगत रूप से मतदान की व्यवस्था और शीघ्र मतदान के साथ-साथ कोविड सुरक्षा व्यवस्था सहित इस चुनाव के संचालन के लिए किए गए विभिन्न उपायों के बारे में भी जानकारी दी।

चुनाव आयोग ने एक बयान में कहा कि चंद्रा ने भारत में हाल के चुनावों के संचालन और चुनावी सहयोग एवं प्रशिक्षण और क्षमता निर्माण कार्यक्रमों के लिए समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर के माध्यम से दोनों देशों के बीच चुनावी संबंधों को और मजबूत करने के विभिन्न माध्यमों के संदर्भ में चर्चा करते हुए कहा कि उज्बेकिस्तान के चुनाव अधिकारियों के लिए इस तरह के आयोजन करने में ईसीआई को प्रसन्नता का अनुभव होगा।

उज्बेकिस्तान के प्रतिनिधि चुनाव के दौरान आयोजित ईसीआई के अंतर्राष्ट्रीय चुनाव आगंतुक कार्यक्रमों (आईईवीपी) में उत्साहपूर्वक भाग लेते रहे हैं। इसके अलावा उज्बेकिस्तान के अधिकारी आईटीईसी कार्यक्रम के तहत ईसीआई में प्रशिक्षण कार्यक्रमों में भी भागीदारी करते रहे हैं।

उज्बेकिस्तान चुनाव कानून के तहत, राष्ट्रपति को एक राष्ट्रव्यापी निर्वाचन क्षेत्र से पांच वर्ष के कार्यकाल के लिए चुना जाता है।

चुनाव प्रशासन एक त्रि-स्तरीय व्यवस्था का अनुसरण करता है, जिसमें केंद्रीय चुनाव आयोग, 14 जिला चुनाव आयोग और 10,760 सीमावर्ती चुनाव आयोग शामिल हैं।

उज्बेकिस्तान में करीब 2 करोड़ मतदाता हैं। प्रत्येक मतदान केंद्र में अधिकतम 3000 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकते हैं। 14-20 अक्टूबर तक प्रारंभिक मतदान प्रणाली लागू थी और 421,618 लोगों ने प्रारंभिक मतदान सुविधा का उपयोग किया, जिसमें 120,524 विदेश से थे।

केवल पंजीकृत राजनीतिक दल ही चुनाव में भाग लेने के लिए उम्मीदवारों को नामित कर सकते हैं। उज्बेकिस्तान के राष्ट्रपति पद के लिए पांच उम्मीदवारों - चार पुरुषों और एक महिला उम्मीदवार ने चुनाव लड़ा था।

चुनाव के लिए अभियान राज्य द्वारा वित्त पोषित है। उज्बेकिस्तान में प्रमुख स्थानों पर पांच उम्मीदवारों के बारे में जानकारी देने के लिए तस्वीरों और कई तरह के इन्फोग्राफिक्स का प्रदर्शन किया गया था।

भारतीय प्रतिनिधिमंडल ने उज्बेकिस्तान के सीईसी के चुनावी प्रशासन, प्रक्रियाओं और पहलों का अवलोकन करने के लिए दो जिला चुनाव आयोगों का दौरा किया।

इसके बाद, उन्होंने चुनाव प्रक्रिया का विस्तार से निरीक्षण करने के लिए उज्बेकिस्तान में मतदान केंद्रों का दौरा किया।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 28 Oct 2021, 07:45:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.