News Nation Logo
भारत के पूर्व अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी आर्यन खान की ओर से कर रहे हैं दलील पेश टीम इंडिया के मुख्य कोच पद के लिए राहुल द्रविड़ ने किया आवेदन वीवीएस लक्ष्मण के NCA में पदभार संभालने की संभावना आर्यन खान के वकील ने HC में दाखिल किया हलफनामा HC में आर्यन खान की जमानत याचिका पर सुनवाई शुरू पश्चिम बंगाल में तंबाकू और निकोटिन वाले गुटखा-पान मसाला एक साल के लिए बैन कोवैक्सीन को मिल सकती है अंतरराष्ट्रीय मंजूरी, डब्ल्यूएचओ की बैठक आज उमर मलिक के बेटे पर यूपी सरकार कसेगी शिकंजा, एडमिशन के नाम पर रेस का आरोप पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह कल प्रेसवार्ता कर नई पार्टी का ऐलान कर सकते हैं अरविंद केजरीवाल का ऐलान - यूपी में सरकार बनी तो मुफ्त में अयोध्या की तीर्थ यात्रा कराएंगे

'यस बैंक संकट से नहीं घबराएं खाताधारक, इंडियन बैंक रिस्क झेलने में दुनिया में हैं सबसे अव्वल'

यस बैंक (Yes Bank) के खाताधारकों को अपना पैसा डूबने का डर सता रहा है. यस बैंक संकट के बाद लोगों के बीच फैल रही विभिन्न भ्रांतियों को मुख्य आर्थिक सलाहकार (CEA) के सुब्रमण्यम ने दूर किया है.

News Nation Bureau | Edited By : Nitu Pandey | Updated on: 08 Mar 2020, 09:38:29 PM
K Subramanian

के सुब्रमण्यम (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

यस बैंक (Yes Bank) के खाताधारकों को अपना पैसा डूबने का डर सता रहा है. यस बैंक संकट के बाद लोगों के बीच फैल रही विभिन्न भ्रांतियों को मुख्य आर्थिक सलाहकार (CEA) के सुब्रमण्यम ने दूर किया है. उन्होंने कहा कि भारतीय बैंक रिस्क झेलने के काफी मजबूत है. उन्होंने समझाया कि वैश्विक तौर पर बैंकों का कैपिटल टू रिस्क असेट रेशियो (CRAR) 8 फीसदी के करीब होता है, जबकि भारत में बैंकों के लिए CRAR 14.3 पर्सेंट के करीब है. मतलब हमारे बैंकों की रिस्क कैपिसिटी वैश्विक पैमानों के हिसाब से 80 प्रतिशत ज्यादा है.

मुख्य आर्थिक सलाहकार कृष्णमूर्ति सुब्रमण्यम ने कहा कि भारतीय बैंकों का पूंजी आधार मजबूत है और इसलिए चिंतित होने की कोई बात नहीं. किसी बैंक की सेहत का हिसाब उसके बाजार पूंजीकरण और जमा के अनुपात के आधार पर लगाना गलत एक दोषपूर्ण विश्लेषण है.

इसे भी पढ़ें:Yes Bank Scam: पत्नी और पुत्री समेत राणा कपूर ने रिश्वत के लिए बनाई 20 फर्जी कंपनियां

रिस्क इंश्योरेंस को एक लाख से बढ़ाकर पांच लाख कर दिया गया

उन्होंने कहा कि बात अगर डिपॉजिटर्स के हित की करें तो इस बजट में रिस्क इंश्योरेंस को एक लाख से बढ़ाकर पांच लाख कर दिया गया है. ऐसे में डिपॉजिटर्स को घबराने की बिल्कुल भी जरूरत नहीं है. इंडियन बैंकिंग सेक्टर बिल्कुल सुरक्षित हैं और डिपॉजिटर्स का एक-एक रुपया भी.

रिजर्व बैंक सभी बैंकों की निगरानी करता है, घबराने की जरूरत नहीं

वहीं आरबीआई (RBI) ने भी यस बैंक के खाताधारकों को चिंता नहीं करने की सलाह दी है. रिजर्व बैंक ने कहा, ‘रिजर्व बैंक सभी बैंकों की निगरानी करता है और इसलिए सभी खाताधारकों को आश्वस्त करता है कि उनके किसी भी बैंक में जमा धन की सुरक्षा को लेकर कोई चिंता नहीं है.'

और पढ़ें:Yes Bank:राणा कपूर की बेटी को लंदन जाने से रोका गया, पूरे परिवार के खिलाफ लुक आउट सर्कुलर

बता दें कि आरबीआई ने यस बैंक के अकाउंट होल्डर्स के लिए 3 मई तक 50 हजार रुपए तक निकासी सीमा तय की है. इमरजेंसी में वो पांच लाख रुपए निकाल सकते हैं. रविवार को ग्राहकों को एक और राहत दी गई. अब यस बैंक के ग्राहक किसी भी एटीएम से पैसा निकाल सकेंगे.

First Published : 08 Mar 2020, 09:24:29 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.